पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/५०९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विनिहत्त-विनुकुण्डा चिनिवृत्त (स० त्रि०) विनिवृत-क। १ निवृत्ति-1 ४ संयमो। ५ यिच्युत, दूर किया हुआ, छोड़ा हुआ। विशिष्ट, क्षान्त । २ निरस्त। ३प्रत्यागत। ६ हत, ले गया हुआ। ७ शिक्षित, सिखाया हुआ । यिनिवृत्ति ( स स्त्री०) विनि-पृ-तिन् । विशेषरूपसे ८ कृतदण्ड, शासित । १ शित। १० धार्मिक, नीति- • निवृत्ति, निधारण। . . . पूर्वक व्यवहार करनेवाला । ११ साफ सुथरा । १२ सुन्दर विनिवेदन (स० लो०) वि.नि विद-णिच क्युट । विशेर. उत्तम । (पु० ) १३ षणिक, बनिया, साहु । १४ सुवदा

रूपसे निवेदन, कथन ।

अभ्य, शिक्षित मश्व, सिखाया हुमा घोड़ा। पर्याय-- विनिवेश (सं० पु०) विनि-विश् घम् । प्रवेश, घुसना। साधुवाहो, सुष्टुवाहनशीलक। १५ पुलस्त्यके एक पुत्र- विनिवेशन ( स० क्ली) १ प्रवेश, घुसना । २ अधिष्ठान, का नाम । १६ दमनक, दोनेका पौधा । पर्यायदान्त स्थिति, वास। मुनिपुत्र, तपोधन, गन्धोत्कट, ब्रह्मजट, फलपनक । विनिवेशित (स' त्रि०) वि.नि-विश-णिच का१ प्रविष्ट, विनीतक (सपु० क्लो०) विनीतसम्बन्धीय, पैनीतक । घुसा हुआ । २ अधिष्ठित, स्थापित, ठहराया टिका विनीतता (सं० स्रो०) विनीतस्य भावः तल्टाए। हुमा । ३ वसा हुमा। विनीत होनेका भाव, नम्रता। विनिवेशिन् (सनि०) १ प्रवेशकारी, घुसनेवाला। विनीतत्य (सली०) विनीत होनेका भाव, नम्रता। '२ वासकारो, रहनेवाला। विनीतदेव (सं० पु०) पक बौद्धाचार्मका नाम। पे विनिश्चय (स० पु०) विनिर्णय, कृतनिश्चय, विशेष | एक प्रसिद्ध नैयायिक थे। प्रकारसे निर्णय करना। यिनीतदेव भागवत-एक प्राचीन कवि। विनिश्चल ( स० त्रि०) विशेष प्रकारसे निश्चल, स्थिर । यिनीतपुरनिकलिङ्गराज्यमें कटकविभागके अन्तर्गत विनिश्चायिन् ( स.नि.) निश्चायक। २ जिसकी। एक नगर। मीमांसा हो चुको हो । ( सर्वदर्शनस० ४२२२०) । | बिनीतमति ( स० पु०) कथासरित्सागरर्णित एक विनिश्वसत् (स० त्रि०) दोघनिश्वासपरित्यागकारी, | व्यक्तिका नाम। लम्बो सांस छोड़नेवाला। पिनीतरुचि-उत्तरमारतके उद्यान जनपदवासी एक विनिष्कम (स नि०) कम्परहित । पौर श्रमण। इन्होंने ५८२ ई० में दो बौद्धप्रन्योंका चीन. विनिष्पात (स० पु०) वि-नि-नि-पत्-घम् । १ विशेष भाषा अनुवाद किया। प्रकारसे पतन, मजबूतीसे गिरना । २ आघात, चोट । विनीतसेन ( स० पु० ) बौद्धभेद। . यिनिष्पाद्य (स' नि ) विनिर् पद्-णिच यत् ।। निष्पा- | विनीतप्रभ (स० पु० ) पौरपतिमेद । दनके योग्य। विनीति (सं० स्त्री० ) १ विनय, सुशीलता । २ सम्मान । विनिप्पेप ( स० पु.) वि.निर-पिप घम् । १ पेपण, | ३सद्व्यवहार । पोसना । २ विनाश । ३ निपीडन, निप्पेषण । विनीतेश्वर (संपु०) देवमेद। (ललितविस्तर ) ४ मतिशय घर्षण। विनीय ( स० पु. ) कलक । विनेय देखो। . पिनिवेसिन (स.नि.) घसयासकारो। | विनोल. (स' नि०) अतिशय नोल । (हेम) विनिहित (स. त्रि०) विनि इन्का १ विनर, विनीवि (स.लि.) नीविरहित। . विध्वस्त, वरवाद । ९ माहत, चोट खाया हुमा। ३ मृत. | विनुकुण्डा-मन्द्राज प्रेसिडेन्सोके गण्टर जिलेका एक मरा हुआ ! ४ लुप्त, तिरोहित । तालुक। इसका भूपरिमाण ६४६ वर्गमील है। इस विनीत ( स० वि०) घिनी का १ पिनययुक्त, जिसमें तालुफेके भोवर अग्निगुण्टल घोग गरम, घोलापल्ली, 'उत्तम शिक्षाका संस्कार और शिष्टता हो । २ शिष्ट, नम्र, चिन्तलचेरुयु, दोएडपाड़, गण्डिगनमल, गरिफेपाड़, व्यवहारमै अधीनता प्रकट करनेवाला। ३ जितेन्द्रिय । गोकनकोएड, गुम्मणमपाड़, इनिमेल, ईपास, कणुमापुड़ी