पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/५६७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विमोहित-वियम ४८७ ' विमोहित (सं० ति०) वि.मुह-णिव के। मोहयुक्त, । पिग्नित (सं० वि०). विग्यि तच । प्रतिविम्यत, प्रति- मोहित। फलित। . विमोहिन (सं० नि ) वि-मुह-णिनि । विमोही देस। विम्बिसार-पक शाक्त राजा। ये महाराज अशोक के विमोहो (सं० स्त्रो०) १ मोहित करनेवाला, जो लुभाने- प्रपितामह और अजातशन के पिता थे। वाला । २ सुध बुध भुलानेवाला । ३ भ्रममें डालने पिम्बिसार शब्द देखो। वाला, भ्रान्त करनेवाला'! 8 मूच्छित या बेहोश करने विम्यो (सं० स्रो०) विम्य-गौरादित्वात् डोप । विम्पिका । घाला। ५जिसे मोह या दया न हो, निष्ठुर। विम्खु (सं०३० ) गुवाक, सुपारी। विमौट (हि पु० ) दीमकोका उठाया हुभा मिट्टोका हृद, । विम्वोष्ठ (सं० पु०) विम्ये-इव ओष्ठो यस्य, 'गोत्वो- दायी। ठयोः समासे वा' इति पाक्षिकाऽकारलोपः । यद जिसके विमोन ( स० वि०) मुनेर्भाव मानः, विगतः मौनः । दोनों होठ विम्वफलको तरह लाल हो । पिवयोष्ठ मौनरहित। । सन्धि अनुसार प्रकार और मोकारमें सन्धि विमौली ( स० लि.) शिरोभूषा-विरहित, जिसे शिरकी हो कर वृद्धि होती है तथा विश्वोष्ठ पद बनता है। किन्तु भूपा न हो। 'मोत्योष्ठयोः समासे या' इस विशेष सूत्रके अनुसार एक विम्लापन (i० स्त्री०) शिथिल करना। जगद प्रकारका लोप और एक जगह वृद्धि हो कर विवोष्ठ पिम्य (१० पु. स्त्री०) यो (उल्यादयश्च । उण ४।६५)| गौर विनौष्ठ ऐसा पद बनेगा। इति-धन प्रत्ययेन साधुः। १ सूमोचन्द्रमण्डल । विम्पोष्ठ (सं० पु०) वियोष्ठ देखो। (अमर ) २ मण्डलमात्र, मएडलको तरह गोलाकार । विय-जातिविशेष। ३मूर्ति, प्रतिविम्य, छाया। (पु०) ४ कलास, गिर | वियद्यारिन (सं००) वियति आकाशे चरतीति चर-णिनि । गिट । ५ विम्बिकाफल, कुदरू नामक फल। .. आकाशचारी। विम्यक ( क्ली).विम्य स्वार्थे फन् । १ चन्द्रसूय्ये | वियत (सं० क्ली) वियच्छति न विरमतीति । विल्यम 'मएडल। २ पिम्यिकाफल, कुदरू । ३ मञ्चक, माना। (भन्येभ्योऽपि दश्यते ।पा २२१७८) इति कि क्या व ४ मुखाकृतिविशेष। (दिव्य १७२।१०) मादीमामिति वि-पा-शतृ यियत् मलेोपे तुफ् । १ आकाश। पिवजा (सं०स्त्रो०) विश्वफलजायतेऽस्यामिति जन (नि.)२गमनशोल। स विम्पिका देखो। । : . . यियत्पताक (हि० स्रो०) विद्युत, विजली। विम्बट (० पु० ) सर्पप, सरसों। | चियस्पुर-चम्पारणफे अन्तर्गत तिलपर्णा नदीतीरस्थ विम्यगज-सह्याद्रि-वर्णित दो राजाओं के नाम । (सह्या. पक नगरका नाम । (मविष्य-बदाख० ४२११४६ ) ३१॥१८३३१५८) विधा (सं० स्त्री० ) विम्पं विम्बफलमस्त्यस्यामिति वियति (सं० पु० ) नहुपके एक पुत्र का नाम । (मागयत ६।१८१) विम्ब अच् टाप । विम्बिका देखो। विग्मागत (सं० नि०) विम्येन आगतः। विश्वप्राप्त, | विपद् (सं०नि०) वियति आकाशे गछतीति गम-। विम्वित । आकाशगामी । विवादितैल ( पु०) अर्बुद रोगको उपकारक तैलमोषधः वियद्गङ्गा (सं० स्रो | वियद्गङ्गा (सं० स्रो०) वियतो गङ्गा। स्वर्गगंगा, मन्दा. विशेष । प्रस्तुन प्रणालीकैदसका मूल, कवरीमूल और 'किनो। .. . . .. निमोघ धारा पांचित तेलको सुधनी लेनेमे गण्डमाला | वियभूति (सं० स्त्री० ) वियतोभूतिमस्मेव । अन्धकार । 'दूर होती है। | विपन्मणि (सं० पु०) घियता मणिः। · सूर्ण । (दारापनी) विम्बिका ( सं० स्रो०) १ दिम्य । (भमर ) २'चन्द्र-स्वयम (स० पुणविन्यमय पियम (सं० पु०) वि-यम-(यमः समुपनिविषु च । मा ३।३।६२ ) 'सूर्णमएडल.. इत्यप् । १संयम, इन्द्रियदमन । २ दुःख, केश।