पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/६००

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५१८ . विरोधकृत-विलक्षण विरोधकृत् (सं० वि०) घिधिकारी। (पु०१२ साठ , विरोधेोक्ति ( स० स्त्रो०) परस्पर पचनविरोधी वचन । संवत्सरफे अन्तर्गत ४४वां वर्ण । पर्याय-विप्रलाप, विरोधयाक, फोधेोक्ति, प्रलाप । .. विरोधक्रिया (स स्त्री..) शत्रुता। विरोधोपमा ( स० स्त्रो०) उपमालङ्कारमेद । इसमें विरोधन (सं० क्ली०) विरुध ल्युट । १ विरोध करना, : किसी घस्तुको उपमा एक साथ दे, विरोधी पदार्थासे दो बैर करना। २ नाश, घरवादो। ३ नाटकमें विमर्पका) जाती है। जैसे-"तुम्हारा मुख शारदीय चन्द्रमा और एक अङ्ग। यह उस समय होता है जब किसी कारणवश | कमलके समान है", यहां कमल और चन्द्रमा इन दोनों - कार्यध्वंसका उपक्रम (सामान ) होता है। जैसे- | उपमानों में विरोध है। . . . . कुरुक्षेत्रयुद्धके अन्त होनेके निकट, जय दुर्योधन बन रहा | बिरोध्य (सं० त्रि०) विरोध-यत् । १ विरोधके योग्य। था, तब भीमका यह प्रतिज्ञा करना कि "यदि दुर्योधनको २ जिसका विरोध करना हो। .. न माझगा, तो अग्निमें प्रवेश कर जाऊंगा।" सव यात विरोपण (सं० पु०) १ लेपन, लोप करना। २ लीपना, . वन जाने पर भी भीमका यह कहना युधिष्ठिर आदिके | पोतना। ३ जमीनमें पौधा लगाना, रोपना। .. मनमें यह विचार लाया कि यदि दुर्योधन मारा गया, तो विरोम (सं० वि० ) रोमरहित, यिना रोएका।.. हम लोग भी भीमके बिना कैसे रहेंगे। यहां पर यही विरोप (सं० वि०.) १ रोपविशिष्ट, क्रोधी। विगतो रोपो । कार्यध्व'सका उपक्रम या विरोधन है। । यस्य बहुमो० । २ रोपशून्य, जिसे फ्रोध ग हो । ३ एटक. विराधमाफ (स० वि०) विरोधी । | रहित, विना कांटेका। विरोधयत् (स' त्रि०) विरोधशील, विरुद्ध । विरोह (सं० पु० ) १ लतादिका प्ररोह। २ एक स्थानसे विरोधाचरण ( को०) १ शत्रताचरण, प्रतिकूला। दूसरे स्थान में ले जा कर रोपना। . चरण, खिलाफ कार्रवाई । २ शत्र ताका व्यवहार। विरोहण (सं० लो०) विरोपण, एक स्थानसे उखाड़ विरोधाभास ( स०पु० ) अलङ्कारभेद। इसमें जाति, कर दूसरे स्थान पर लगाना। .. .. गुण, क्रिया और दृष्यका निषेध दिखाई पड़ता है। विरोहित (सं० नि०) १ रोहितविशिष्ट। (पु०) २ विरोध देखो। विभेद । । विरोधित (स नि०) जिसका विरोध किया गया हो। | विरोहिन (सं० त्रि०) १.रोपणकारी, रोपनेवाला, पौधा । विरोधिता ( स० स्त्री०) १ शत ता, यैर । २ नक्षत्रोंकी लगानेवाला । २ रोपणशील, रोपने या लगाने लायक । प्रतिकूल दृष्टि। विरोही-विरोहिन देखो। .... विरोधित्व ( स० क्लो० ) विरोधिता, शत्रु ता। विरौती ( हि स्रो०) बाजरा, मडवा, कोदो वगैरहको विराधिन ( स० त्रि०) विरुध-णिनि। १ विरोधकारी, एक प्रकारको जोताई जो उनके पौधेचे होने पर भी शन, विपक्षी। २ हितके प्रतिकूल चलनेवाला, काय | जोती जाती है । सिद्धिमें पाधा डालनेवाला । (पु.)३. पाईस्पत्यम् | विल ( सं० ली० ) पिलाक। १ छिद्र, छेद । २ गुहा, संवत्सरोंमसे पचीसवां सवत्सर।. , कन्दर । (पु०) ३ उच्चश्रवा घोड़ा। ४ येतसलता। घिरोधिनी (स. स्त्री० ) विरुध-णिनि-डोप । १ हिरोधः पिलकारिन् (सं० पु०) पिलं करोतीति 'क-णिनि । १ फारिका, चैरिन। २ विरोध करानेवाली,दो आदमियों-- मूषिक, चूहा । -( त्रि०) २ गतकारी, कोड़नेवाला। में झगडा लगानेवालो । ३ दुम्सदको कन्या। (मार्क० पु० विलक्ष (सं० वि०) विशेषेण लक्षयतीति विलक्ष-पचायच । ५१५) . . . . . . . . . . ! १ यिस्यानिपत, माश्चर्यान्वित, अचंभेमें पड़ा हुशा । २ विराधीश्लेप ( स० पु०.) केशवके : अनुसार श्लेष अल /- ललित ! , ३ घास्त, घबराया हुभा । .: .! झारका एक भेदः। इसमें श्लिष्ट गठहों द्वारा दी पदार्थों में | विलक्षण (सं० क्लो०) विगतं लक्षणं आलोचनं यस्य ।। भेद, विराध या न्यूनाधिकता दिखाई जाती है। ..] हेतुशून्य आम्या । २ निष्प्रयोजन प्रिनि । ' (लिए)