पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/६१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५३१ विवतु-विव विवक्ष, (स' नि०) 'भूयः सनि वच्यादेशे' ( सनाश। विवरिषु (सं० त्रि०) प्रकाश करनेमें इच्छुक । सभिन्न :) इति उ प्रत्ययः'। बोलनेका इच्छुक । विवरुण (सं०नि०) घरुणकार्य विशेष। विवचन (स० को०) वि-वच ल्युट। प्रवचन, कथन । वियर्चस् (सं० लि०) दीप्तिहीन, जिसमें चमक दमक विवत्स (स.पु०११ गोवरस, गायका पछदा । २शिशु, न हो। बच्चा । (लि०) ३वत्सहीन, विना बच्चे का। | भिवर्जक (सं०नि०) परित्यागकारी, छोड़नेवाला।। (मागवत १।१६१६) विजन (सं० लो०) १ त्याग करनेकी क्रिया, परित्याग । विवदन ( स० क्लो० ) वि-यद ल्युट् । १ पियाद, कलह ।। २ अनादर, उपेक्षा। युद्धका उपदेश। विवर्जनीय (सं० वि०) धि-यज अनीयर् । त्याजा, विवदमान (सं० त्रि०) वि वद-शानच! विवादकर्ता, छोड़ने लायक। - कलह करनेवाला। | विवजित (सं० त्रि०) १ वजित, मना किया हुआ। २ वियदितथ्य ( स० त्रिक) विवादकं पाय। उपेक्षित, अनादरित ।। ३ वञ्चित, रहित । विवदिष्णु (स० लि०) विवाद करनेमें इच्छुक ! विवर्ण ( सं० पु.) विरुद्धो वर्णः । १ नोचजाति, होन- विवध (सपु०) विविधो यो हनन गमन' वा यत्र । वर्ण। २.साहित्यमें एक भायका नाम । इसमें भय, १ पीवध, धान चावल आदि लेना। २ राजमार्ग, चौडी | मोह, क्रोध, लजा आदिफे कारण नायक या नायिकाफे सहक । ३ मोहितणादिका हरण, धान घास आदिका मुखका रंग बदल जाता है। चुराना! ४ भार ढोनेको लकड़ी बहगी। ५ भार, ! (त्रि०) ३ नीच, कमोना। ४ नोव जातिका। ५ योमा ६ यह लकहो.जो थैलोंके कंधो पर उस समय नीच पेशा यो धावसाय करनेवाला। ६ कुजाति । ७ रखी जाती है जब उन्हें कोई वस्तु खोंच कर.ले जानी। जिसका रंग खराब हो गया हो। ८ रंग बदलनेवाला। होती है। जुमाठा। ७ भूसे या अनाजको राशि। बदरंग, घुरे रंगका । १० जिसके चेहरेका रंग उतरा वियधिक । स० पु०) विधेन हरतीति विषध टन् । हुआ हो, कान्तिहीन। , ' ( विभाषा विवधवीवधात् ।। पा ४|४|१७ ) वैयधिक। वियर्णता (सं० स्रो०) विवर्णका भाव या धर्म, मालिन्य, विवन्दिपु (स० वि०) यन्दना करनेमे इच्छुक । दीप्तिहीनता, कान्तिशून्यता, निष्प्रभता। विपन्धक (सपु० ).१ रोकनेवाला। २ कोष्ठबद्धता, विवर्णत्य ( स० क्लो० ) म्लानगात्रता । . कब्जियत। ‘विवर्णमनीकृत ( स० वि०) गयिवर्णननः विवर्णमनः विवन्धन (सं० पु०) रोक, बंधन . कृतं अभूततभावे यि । मलिनोकृत, कुरूप किया विधिक ( स०नि०) १ विन्धयुक्त। २ वियधिक । हुआ । विवयन (सं० लो०)ययन, वोना। . विवर्त (सपु०) वि.वृत्-घम् । १ समुदय, समूह । पियर (०ली) वि-यपचाप। १ छिद्र, पिल। २ अपवर्शन, परिवर्तन । ३ नृत्य। ४ प्रतिपक्ष। '५ २ देष, प्य। ३.अवकाश, छुट्टो । ४ विच्छे , जुदाई। परिणाम, समयायिकारणसे नदोय यिसदृश (विभिन्न- ५पृथक, मलग। ६ कालसंख्याभेद । ७ गतं, दरार।। रूप) कार्यकी उत्पत्ति । समषायिकारण = अवयव, ८ गुफा, कन्दरा। कार्य अवययी। इन सब कारणोंसे जिन सय कार्योको विवरण (सं० लो०) विल्युट । १ घ्याख्या, किप्ती | उत्पत्ति होती है, ये प्रायः उन्हीं कारणों के विसदृश हैं पस्तुको स्पष्टरूपसे समझानेको क्रिया १२ यर्णन, वृत्तान्त ! अर्थात् आकृतिप्रकृतिगत विभिन्नताप्राप्त है । जैसे, ३ भाष्य, टीका!' ४ मर्यप्रकाश। ५प्रकाशन हस्तपदादि अङ्गमत्यङ्ग आदिके मैलसे उत्पन्न देवसमष्टि, . वियरनालिका (सं०नि०) वियरयुक्त माल यस्याः। पृथभावमें उनमेसे प्रत्येक साथ आकृतिगत विभिन्न १ घेणु, पांप्स.। २ यशो; बांसुरी। ।। है अर्थात् सम्पूर्ण देह जो एक उंगली या एक हाथ