पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/६२१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विवशता-विवासनपद ५३५ जिसमें कोई शक्ति या . पल.न हो। १० मृत्युकालमें विवाद (स'० पु०) विपद-धम्, विरद्धो यादः । १ कलह, निमौक, प्रशस्तचेता। | झगडा । २ वितर्क, वाकयुद्ध। ३ धर्मशास्त्रोक धनधि विवशता (स' स्रो०) विषशका भाव या धर्म। . भागादि विषयक न्यायादि, मृणादि न्याय । मनु. वियशीकृत (स.त्रि०) अवियशः विवशतः अभूततझाये | संहिता १८ प्रकारका विवादस्थान कहा है, जैसे- चिः । जिसे विवश किया गया हो, अवशीभूत.। . १ ऋणप्रहण, २ निक्षेप, ३ अस्वामिकृत विक्रय, विवस् (सक्लो०) वि-यस् फ्यिपः। १ तेज । २ धन । ) ४ सम्भ्य समुत्थान, ५ दत्तका अनपकर्म या क्रोधादि .. (ऋक् ॥१८५७) | फिरसे प्रहण, ६ संविद, ७व्यतिक्रम, ८ फयविक्रया- विवसन (स' त्रि०) वसनरहित, विपन, नंगी । नुशयो, ६ स्वामिपाल और सामाविवाद, १० वाक्- विवस्त्र ( स० पु० ) यत्रहीन, जिसके शरीर पर वस्त्र न पारुष्य, ११ दण्डपाराष्य, १२ स्तेय, १३ साहस, १४ स्त्री- हो, नग्न, नंगा। संग्रह, १५ पुरुषका धर्म, १६ पैतृक धनविभाग, १७ धूत विषत्रता (स स्त्री०) वस्त्रशून्यका भाव या धर्म। और १८ पण रन कर मेवादि पशुओंका लड़ाना। वियस्यत् (.स० पु०) विशेषेण वस्ते आच्छादयतीति वि. व्यवहार देखो। वस-बियप । .१. विवस । विषस्तेजोऽस्पास्तोति ४ मतभेद । ५ मुकदमेबाजी, अदालतकी लड़ाई । वि.वसमतुप मस्य यत्यम्। २ सूर्य । ३ अर्कवृक्ष, विवादक ( स० पु० ), विवाद करनेवाला, झगड़ालू । अननका पौधा। ४ देवता। ५ अरुण । ६ वैव. विवादानुगत ( स० वि०) :विवादकर्ता, झगड़ा करने. स्थत मनु। .( अजय )। ७ मनुष्य । ( निघण्टु ) | बाला! . . .. (त्रि.)८ परिचरणशील। . . . विवादास्पद (स.नि.) जिस पर विवाद या झगड़ा विवखती (स० स्रो०) सूर्यनगरी। (मेदिनी ) हो, विवादयोग्य। विवस्वन् (स. लि.) विवो विविधयसनं धनमुदकलक्षणं विवादिन (,स० वि०) विवाद-णिनि । विवादी देखो। या तद्वान् सुपो लुक् अन्त्यलोपश्छान्दसः। १ विवासन- विवादो (स.पु०:) १ विघाद करनेवाला । २ मुकदमा धान् । २ विद्यदू पप्रकाशवान । ३ धनवान् । लड़नेवालोमेंसे कोई एक पक्ष, मुद्दई और मुहालेह । ३ विवह ( स० पु० ) १ सात वायुमसे पक। २ अग्निको सङ्गीतमें यह स्वर जिसका किसी रागमें बहुत कम व्यय. स त अर्चि अर्थात् शिखामेसे एक। हार हो । विधाक ( स० त्रि.) विवेचनाकत्ता, विचारक, जो विवाधिक (स.पु.) १ जो 'धे पर चीजें दो कर ले शास्त्रार्थम दोनों पक्षों के तर्कको देख कर न्याय करें। जाय। २ घूम कर चोर्जे घेचनेयाला, फेरीवाला। विवाफ्य ( स० त्रि०) १ विचारया, विचारन लायक । वियान (सपु०) १ चिह्न । ३ छेदनकार्ग, काटनेका २ घाफ्यहीन। (को०)३ वाक्य । 'काम । ३ सूचीकार्य, सूईका काम । धिया ( स० पली० ) १ कलह, झगड़ा। २ वितर्फ । ३ विविध चाफ्य। (नि.) ४ विविध परस्पर आहाग विवार (स.पु.) १ स्वरभेद । २ निवारण। ' ध्वनियुक्त । (भृक. १३१७८४) विधारयिपु (स. त्रि०) विधारणेच्छु, जो वाधा देना विवाचन ( स० पली० ११ विविध आला, तरह तरह- | चाहता हो। की बातचीत । २.विवाद, झगड़ा। . |वियास (स० पु०) १ निर्यासन । २ प्रयास । ३ यास । (सति०) विविध कथा या पाठयुक्त । । ४ उलङ्ग नंगा। . नलि०) १ विवादयोग्य । २ विचारयोग्य । | वियासन (सं० फ्ली) १ निर्वासन । २ पास करना । . . . । विवासनयत् (स० नि० ) निर्वासनयिशिष्ट, जिसे निर्वा- ) पातरहितः। . . : सन किया गया हो।. .. , .