पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/६७९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विवेचनीय-विशनगर ५८६ विवेचनीय (स' नि०) विवेचन करने योग्य, विचार करने । यश ( स० लो०) विश:क । १ मृणाल, कमलकी एंठी। लायका . (रायमुकुट) विधेषित (स' त्रि०) १ विचारित, जिमको विवेचना की। "पद्मनालं मुग्णानं स्यात् तथा विशमिति स्मृतम् ।" . गई हो। २.मिद, निश्विन, ते किया हुमा । (मावप्रकाश) थियेय ( स० मि०) विवेचना योग्पा २ रौप्य, चांदी। (पु.)३ मनुष्य, आदमी । विधेदयिपु ( त्रि०) शि-विद णिच सन् । विशेष (स्त्री०) ४ कन्या । (नि.) ५ प्रवेशकर्ता, घुसनेवाला । रूपसे जानाने में इच्छुक, जिसने अभीष्ट विषय बतानेको । ६ व्यापक, फैला हुमा। इच्छा को हो। विशंवरा ( स० स्त्री० ) विशं मनु शृणोतीति विश पृ. वियोद ( ०नि०) यि-चम-तृव । १ वर, पति। अव्, स्त्रियां टाप अभिधानात् द्वितीयाया अलुक् । २ वहनकर्ता, ढोनेवाला। पली, बड़ा प्राम। विष्याधिन् ( ० त्रि०) विशेषेण ध्याधितु जोल' यस्य | यिशकएठा (स' स्त्री०) विशं मृणालमिय कण्ठो यम्याः। यि ध्याध-णिनि । १ उत्तेजनकारो। २ पन्धनशील, | दलाका, यगला। विद्ध करनेवाला। विशङ्कः ( स० लि०) विगता शङ्का यस्य । शङ्कारहित, यिमत (०नि०) विविध कर्मशील, नाना कार्योम व्यस्त । जिसे किसी प्रकारको शंका या भय न हो। विव यत् (मं. ति०) यि व्र-शत् । विरुद्ध यक्ता, खिलाफ | विशङ्कट ( स० त्रि. ) बि-शङ्क-टच ( पा ॥२२८) योलनेवाला। | १ विशाल, बहुत बड़ा या विस्तृत । २ भयानक, सरा. पिध्वोक (स० पु०) स्त्रियों को शृङ्गारमाज क्रियाविशेष। पना। घे शनवारयणतः प्रिय पस्तुमें जो अनादर दिखलाती हैं, विशङ्कनीय ( स० वि०) जिसे किसी प्रकारको शङ्का उसीका नाम विव्योक है। जैसे कोई मित्र उपहासकी। हो, परने लायक। तौर पर अपने मित्रको आशीर्वाद देता है, "मित्र ! तुम विशङ्कमान ( स० वि०) वि-शनक-शानच । आशङ्का- सद्गुणानुसरणशील हो, तुम्हें जो सर्वदा दोपी बनाती है, कारी, शंका या भय करनेवाला । तुम उसीको जगत्के श्रेष्ठतम पदार्थ प्राण तक भो विशङ्का ( स० स्त्री०) १ माशङ्का, भय । • शङ्काका ग्योछावर कर देने हो, फिर भी यह तुम्हें प्रेमको रिसे अभाव। ३ अविश्वास । नहीं देखती तथा जो कार्य निन्दित नहीं है अपन तुम्हारा विशड्डो ( स० लि. ) जिसे किसी प्रकारको आशङ्का या अत्यन्त प्रिय है। ऐसा कार्य करने में जो तुम्हें सर्वदा | मय हो। वाघा डालनी हैं, यह बैलोपविस्मयकर प्रकृतिशालिनी | विशड्यय ( स० त्रि०) १ माशङ्काके योग्य । २ मधि. पामा तुम पर प्रसन्न हों।" यहां पर प्रस्तावित स्त्रीके | श्वास्य । ३ निर्भयके योग्य । गर्यासिशय सम्यन्ध फिरसे आलोचना करना अनाव विशद (स. त्रिक) विशद-मच । १ विमल, स्वच्छ । श्यक है। मतपय यहां गर्वातिगयके कारण प्रिय यस्तु | २ स्पष्ट. साफ। ३ध्यक्त, जो दिखाई पड़ता हो। ४ में अवधा यथेष्ट अनादर दिखलाने के कारण स्त्रीका | शुम्र, सफेद। ५ वियिकाययय । ६ प्रसन्न, खुश । विवोकभाव प्रकट होता है। ' ७ अनुकूल। ८ सुदर, मनोहर । ६ उज्ज्वल । (पु० ) .: "विष्वोकस्यतिगवेग वस्तुनीष्टे ऽप्यनादरः।" , १० श्वेतवर्ण, सफेद रंग । ११ भागवतके अनुसार __ - (साहित्य० ३।१३०) । जयद्रथके एक पुत्र का नाम । १२ फसोस । १३ पूहती, घिश (सं० स्त्री०) विश-पिधप ।१प्रजा, जाप्तक । (पु०)। बड़ी कटाई। २ वैश्य, कृषि और वाणिज्यण्यवमायो जातिविशष। विशन (स क्लो०) प्रवेशन, आगमन। . ३ कन्या। ४ मनुष्य । (नि.) ५ व्यापक। .. विशनगर -सम्बई प्रदेश के बड़ौदा राज्यके अन्तर्गत एक ___Vol, RKI. 148..