पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/८१०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


७०८ विस सर्पिन-विसर्जयितव्य विसंसर्पिन ( स० नि० ) सम्यक् घिस्तृत, चारो मोर | विसम (स नि०) असमान! वि पम देखो। .' जानेवाला । विसमता (स. स्त्री० ) असमानता । विषमता देखो। . . विसस्थित ( स० लि. ) असमाप्त, असम्पूर्ण। विसमाप्ति ( म० सी० ) यि-सम्-आप-क्ति । असमाप्ति, . ' ( कात्यायनभौ० १४११२७) सम्पूर्ण । विसंस्थूल (स० त्रि०) विसंष्टुन देखो। | विसर (स० पु०) विसरतीति वि-सृअच् पचादित्यात् । विसकण्ठिका (स'० स्त्रो०) चिससदृशा शुभ्रः कण्ठो १ समूह। (भमर ) २ प्रसर, विस्तार । यस्या इति बहुग्रोही कन् रापि मत इत्यम् । क्षुद विसरण ( स० लो०) यिसार, फैलाव। शातीय यकपक्षी, एक प्रकारका छोटा बगला। (अमर) विसर्ग (सपु०) वि-सृजघम्। १ दान । (रघु ४१८६) विसकुसुम ( स० क्लो०) विसस्य कुसुमम् । कमल, २ त्याग। (महाभा० १२३२।३) ३मनिर्गम, मलका पद्मा त्याग करना। ४ सूर्यफा एक अयन । ५मोक्ष । विमप्रन्थि ( स० पु० ) पदुमका मूल, भसींह। ( इलायुध ) ६ विशेष । सृष्टि । ७ प्रयोग। ८ प्रलय । . विसङ्कट ( स० पु० ) विशिष्ट सङ्कटो यस्मात् । १ सिंह। वियोग, पिछोछ । १० दीप्ति, चमक। ११ परि- २ इंगुदोवृक्ष या हिंगोट नामक वृक्ष । ( त्रि०) त्यक्त वस्तु । १२ व्याकरपम अनुसार एक यर्ण जिसमें ३ विशाल, गृहत् । ऊपर नीचे दो विन्दु (:) होते हैं और जिनका उधारण विसङ्कल ( स०नि० ) जटिल, यहुत कठिन । | प्रायः अर्ब ६ के समान होता है । १३ वर्षा, शरद गौर विसज (स. सी.) विसं मृणालं तस्माजायते इति हेमन्त ये तीनों ऋतुए। (वि०) १४ पिसज्जनोय । जन-ड। पद्म, कमल । १५विसृष्ट। विसञ्चारिन ( स० ति०) विषय सञ्चरणशील, विषय विसर्गचुम्बन ( स० को०) नायकका यह चुम्पन जब भोगी। } यह रात्रिके शेष प्रियासे वियोग होता है। विसदृश ( स० लि.) धिपाक, फर्मका विपरीत फल विसर्गिक ( स० वि०) आकर्षणकारी, सोचने विसदशा ( स० वि० ) १ विपरीत, यिराद्ध । २ विल. पाला। क्षण, विभिन्न रूप। (शुक १।११३१६) विसर्गिन ( स० नि०) १ उत्सर्गकारी, दान करनेवाला । विसनाभि (सं० स्त्रा० ) विस नाभिकल्पत्तिस्थानं ! २ आकर्षणकारी, वो चनेयाला। ( भारत शान्तिपर्व') यस्याः। १ पमिनी, कमलिनी। २ पद्मको नाल1 विसर्जन (संशो०) वि-सृज ल्युट । १ दान। ३ पद्मसमूह। (मिका०) २ परित्याग, छोड़ना। ३सप्रेषण, किसोको यह कह विसन्धि (संपु०) १ सम्धिरहित, दो या अनेक पदो | कर भेजना कि 'तुम जा कर अमुक कार्य करो। ४ विदा का मिलनाभाव। २ विश्लिए सन्धि, शरीरके सन्धि- होना, चला जाना। ५ पोडशोपचार पूजनमें अन्तिम स्थानका विश्लेष। उपचार ; अर्थात् आवादन किए गये देवतासे पुनः स्व. . विसन्धिक ( स० त्रि०) जिसकी सन्धि नही होती, स्थान गमनकी प्रार्थना करना, देव प्रतिमा भसाना। जिन दोनोंका मिलन नहीं होता। ६ समाप्ति, अन्त। (पु०) ७ यदुवंशियोमसे एक। (काव्यादर्श ॥१२५.१२६.)। (नि.) विशेपेष सृज्यते इति कर्मणि ल्युट । ८ उत्पा- विमन्नाह ( स० वि०) सन्नहनशून्य, कवच आदि दित । युद्धसजासे रहित । (मनु ७६१) | विसर्जनीय (स. त्रि०) वि.सून अनीयर। १ दानोय,. विसपीग्राम-मिथिलाका एक छोटा गांव। यहां कवि दान करने योग्य । २ परित्यज्य, छोडने लायक। . विद्यापतिका जन्म हुमा था। विद्यापति देखो। ३ विसर्ग अर्थात् (:) ऐसा चिह। . . . यिसप्रसून ( म० लो० ) पदम, कमल । ... विसर्जयितथ्य (सं० वि०) विसर्जन करने योग्य, छोड़ने । . .. .. (शिशुपालवध २८): लायक ।