पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/८२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


७२५ विस्मयङ्गम-विनवण विस्मयङ्गम ( स० वि०) विस्मय गच्छति विस्मय-गम | विस्यन्द (स० पु०) विध्यन्द देखो। खश । विस्मयगामी, आश्चर्यान्वित। विन (सं क्ली०) विस-रक । १ मामगंध, श्मशान - विस्मयन (सलो०) वि.सिम ल्य ट । विस्मग देखो। आदिमें मुर्दा जलनेको गध। कोई कोई अपक मांसकी विस्मयनीय ( स० वि०) विस्मि-अनीयर। विस्मयके गधको भी विघ्न कहते हैं। (मरत )२ चाणक्यमूलक, ___ योग्य, आश्चर्यका विपप। बड़ी मूली। (त्रि.) २ मामगंधविशिष्ट, मुर्दे की सी विस्मयविपादयत् ( स० वि०) विस्मय और विपादयुक्त । गध। ‘विस्मयान्वित (स० वि०) विसमयेन अन्वितः युक्तः। बिनम (स'० पु० ) वि-मनस घम् । १ पतन, गिरना । _ विस्मययुक्त, माश्चर्यान्वित । पर्याय -विलक्ष । (अमर)। २ क्षरण, पहना। 'विस्मरण (स'० क्ली० ) वि-समृ-त्य ट । विस्मृति, मूल | विनसन ( स० क्ली०) वि.सन्सप्युट । विनस, जाना। पतन। विस्मर्तव्य (स.लि. ) वि.समृ तव्यत् । विस्मरणके विम्नासिका (म० स्त्री० ) प्राचीनकालका एक प्रकारका . योग्य, भूलने लायक। उपकरण जिसमें यश आहुति दी जाती थी। विस्मापक ( स० लि.) विस्मयकारक, आश्चर्य पैदा | विनसिन् (सं० वि०) वि-सन्म-शोलायें णिनि । १ पतन- करनेवाला। शोल, गिरने लायक। २क्षरणशील, बहने लायक । विरमापन (सं० लि०) वि-स्मि-णिच ल्युट इकारस्या | विनक ( स० त्रि०) विस्र स्यायें-कन् । विन, मुदकी सी गन्ध। स्वम् । १ विस्मयजनका, जिसे देख कर विस्मय हो। "येन मेऽपहत तेजो देवविस्मापनं महत् ।" (मागव० १११५५) ! विरगन्ध (स० वि०) विनस्य गन्ध इव गन्धो यस्य । १ . (पु० ) २ गन्धर्मनगर। ३ कामदेव । ४ फुहक, माया। विस्रकी तरह गन्धयिशिष्ट, मुगे जलनेको सो गन्धवाला' ५ विस्मयप्रदर्शन। । (पु० ) २ पलाण्डु, प्याज ३ गोदन्ती, हरताल । . -विस्मापनीय ( स० वि०) विस्मय उत्पन्न करनेके योग्य, | विनगन्धा (सस्त्री०) विन' गधो यस्याः। युषा, हाऊ देर। । जिसे देख कर आश्चर्य हो सके। विनगन्धि (सपु०) विनामय गंधो यस्य । गोदन्त, यिस्मापयनीय ( स० त्रि०) विस्मापनीय, विस्मापनके | हरताल। योग्य। वित्रता ( स० स्त्री० ) विसस्य भाव तल टाप् । विनत्य, विस्मायन (सल0) विसमापनार्थक । विसका भाव या धर्म। विस्मारक (स.लि.) विस्मृतिजनक, भुला देनेवाला। विस्रग्ध (स.लि.) वि-सन्म का विश्रग्ध, विश्वस्त, यिस्मारण (संपु० ) विलायन, लीन हो जाना, नष्ट हो निशिङ्कः । जाना | विनम्म (सं० पु० ) वि.सन्म घम् । १ विश्वास, यकीन । विस्मित (स.त्रि०) वि.सिम-क्त । १ विस्मयापन्न, २प्रणय, प्रेम । (रत्नमाना ) ३ फेलिकलह, कॅलिक. चकित । (पु.)२ प्राकृत छन्दोभेद । इसका दूसरा समय स्त्री और पुरुषमे होनेवाला मगहा। ४वध, नाम मेघविसर्जित भी है। हत्या । विसिमनि (स स्त्री०) विस्मि किन् । विस्मरण, सम-विम्भिन (स'. नि०) विस्रग्मते विश्वसितोति यि-सन्म. रण, याद न रहना, भूल जाना। घिणुन् (वौ कथामसकत्यसम्भः : पा ३।२।१४३) १ यिभ्यासी । विस्मृत (स.नि.) वि-समृ । यिस्मरणयुक्त। . २ प्रणयी। . विस्मृति ( स० स्रो०) विममुक्तिन् । विस्मरण, मूल । विनय ( पु.) वि-स्त्र अप् । .क्षरण, गिरना। . .यिम्रवण (सक्को०) विल्युट । १ विनय, बहना। विस्मेर (म. वि०) विसमयकर, आश्चर्यजनक। । २क्षरण, रसना। . Vol. xxl 182 जाना