पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/८२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


. विनस्-विहरण - विसस् ( स० स्त्रो० ) विसन्स् किए । नष्टकारी, यम: । चन्द्रमा । ५ सूर्य । ६ नागयिशेष ।' .. कारी। (भारत १५७११). " घिनसा ( स० सी० ) जरा, बुढ़ापा। विहङ्गक (स० पु०) पिङ्गः खार्थे कन् । पक्षी, चिहिया। . . वित्रस्त (स. त्रि०) विनन्स क्त। पतित, गिरा हुआ। विहङ्गम ( स० पु० ) बिहायसो गच्छतोति विहायस्-गम- वित्रस्य (स.नि.) प्रन्धिसम्बन्धीय । खच् (पा ३।२।३८) इत्यत्र 'बच् प्रकरणे सुप्युपसंगया. (तैत्तिरीयस०६२रा) ! नम्' इति काशिक्तिया' खच, विहायसो विहादशः। विना (सं० स्त्री) वित्र गंधेोऽस्त्यस्या इति अच, तन | १ विहग, पक्षो। २ सूर्ण। । . टाप । १ हवुपा, हाऊयेर । २ चर्खा। विहङ्गमा ( सं स्त्रो०) १ पक्षिणी, मादा पक्षो। २ सूर्याः विस्राव (सं० पु०) अन्नमण्ड, भातका मोड़। की एक प्रकारको किरण। ३ ग्यारहवें मनन्यन्तरफ घिस्रावण (सं० को०) विस्र -णिच् न्युट् । १ क्षरण, गिरना । देवताओं का एक गण। ४ भारयष्टि, वह गोमेकी लकड़ी २ निकले हुए फेोई का दर्द दूर करने तथा उसे पकने न / जिसके दोनों सिरों पर थे।झ लटकाया जाता है। देने के लिये प्रक्रमविशेष । (सुश्रु त ) | विहङ्गमिका ( स० स्त्रो०) मारयष्टि, वहंगी। विनाव्य (सं० त्रि०) विन णिच् यत् । विस्रायणयोग्य। विहङ्गराज (स० पु. ) मिहङ्गानां राजा राजाह इति टच गिराने लायक। समासान्ता। गरुड़। विनि ( स० पु० ) अपिभेद । विहङ्गइन् ( स० पु०) विहङ्ग-इन-पिव। यााध, 'बहे- विज़न ( स० वि०) घिस्स-क्त । १ विस्मृत, भूला हुआ। लिया। २ प्रधावित, दौड़ा हुभा । ३ क्षरित, गिरा हुआ। विहङ्गाराति ( स० पु०) १ यााध, यह लिया। यह विस्नु ति (स' स्त्री० ) यि-स-फ्तिन् । क्षरण, रसना, पच भरातिः। २ पक्षीरूप शत्रु, गरुडादि । | विहनिका ( स० स्त्री०) मारयटि, वहंगी। ( अमर ) विस्नु ह ( स० स्त्री० ) १ नदी । (ऋक ६७६ ) २. औषध, पिहत् ( स० स्त्री०) गर्भापघातिनो गाभी। " दया। (ऋक ५४४१३) (संनिससार उणादिवृत्ति) ' विस्रोतस् ( स० क्ली० ) उच्च संण्याभेद । विस्त ( स० लि.)वि-इन क्त । विनष्ट, व्याहत, विफल, विस्वन (सपु.) विस्थन-म। शम्द, ध्वनि। . भग्न ! विस्वर ( स०३०)१ विकृतस्वर। (नि.) २ विकृत- विहति ( स० स्त्री०.). वि-इन-क्तिन् । विहनन, विनाश, 'घरवादी। स्वरयुक्त। विग (स० पु०) विहायसा गच्छतोति विहायस् गम- । | विहनन ( स० क्ली० ) वि-हन.ल्युट्। . १ विघ्न, व्याघात | ( प्रियवशेति । पा ३२६३८) इत्यत्र डे च विहायसो। २. भङ्ग । ३ हत्या । ४ हिंसा। ५ तूलपिझल, । राईकी बत्ती। विहादेशो वक्तवा' इति काशिकोतो. प्रत्यये विहा- | विहन्त ( स... त्रि.) वि-हन-तृच । विहननकारी, यस् शब्दस्य विहादेगः । १ पक्षी, विड़िया । २ घाण, नाश करनेवाला। तीर । ३ सूर्य। ४ चन्द्र। ५प्रह। | विहन्तव्य (सं. नि०) विहननयोग्य, नाशके उपयुक्त। . . विहगालय ( स० पु०) विहगस्य मालया। विहगोका विहर (सं. पु०) बिह-अप। १ वियोग, विच्छेद । मालय, घोसला। २ विहार। विहङ्ग (सं० पु०) निहायसा गच्छतीति 'विहायस्गम विहरण (म. ल्युट । कोड़ा। खच (पा ३।२।३८ ). इत्यत्र 'गमेः 'सुपोति' खच.। २ भ्रमण, ..... विहायसा विहादेशा, 'पच डिदा यतयाः' इति डिउच ।। फैलना। ( १ पक्षी, चिड़िया । २ वाण, तोर। ३ मेघ, बादल : . . गिरना।