पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष एकविंश भाग.djvu/८३७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विहतियोचीतरङ्ग ७३१ विहति (सं० सी०) शिक्किन्। १ विशेषरूपसे हरण | योक्षणीय (स.नि.) विदेश अनीयट्। घीक्षणयोग्य, वा पलात्कार, जबरदस्ती या बलपूर्वक कुछ ले लेना या देखने लायक । कोई काम करना । २ विहार, फोड़ा । ३ उचाटन, खोलना। वोक्षा (स' स्रो० ) धि-ईस मड टाप । दर्शन, पोक्षण, विस्तृति, फैलाय। देखनेको क्रिया। - • पिहस्य सं०ली) १६दयहीन, साहसशून्य, कायर। पीक्षापन्न ( स० वि०) चोक्षामापन । विस्मयापग्न, (मय ५।२१।१) चकित । विहेठ (स० पु.) विदेठ अप । विदेठन, हिसा। बोक्षित (सं० लि. ) वि-ईशक्त । विशेषरूपसे इक्षित, विठक (स० सि०) विहं बुल। १ हिंसक, हिंसा मच्छी तरह देखा हुवा। करनेवाला। २ भेदक, पलन करनेवाला। पौक्षितध्य (सनि०) विक्ष तव्य । दर्शनाय, ओ विदेठन (सं० लो० ) यि हेठ-क्युट । १ हिसा । २ मर्दन । देखने योग्य हो। ३ विडम्पन। ४ यातना, दुरख । विशितृ ( स० वि० ) वि-ईश-तृच्। वोक्षणकारी, देखने- विटा (सं. स्त्री० ) १ क्षति, नुफसान। २ दोष ।। वाला। ३ मानहानि।' वोक्ष्य (सक्लो ) घोक्ष्यते इति विक्षिप्यत् । विस्मय, विहदिन ( म०नि०) असिहत सोत । माश्चर्य । २ दृश्य, वह जो कुछ देखा जाय। ३ लासक, यह त् ( स० सी०.) किमिभेद, एक प्रकारका कोड़ा। यह जो नाचता :दो | ४ घोटक, घोड़ा। (ia) (शुक्छयाः २८1०)५ दर्शनीय, देखने योग्य । विल (स.नि.) विहल-अन् । मयादि द्वारा अभिभूत, : धोखा ( स. स्त्री०) पीडा देखो। भय या इसी प्रकारफे गौर किसी मनोधेगके कारण राम की माता ( माया घी ( स० क्ली० ) सामभेद । (माट्या० ३।४१३ ) "जिसका मिस ठिकाने न हो, घरा हुआ। पर्याय- घोडा (स. स्त्री०) पीडमिति वि-इन । गुराश्च हल: ग्रिलय, घियश, अचेतन, योमूत। इति -राप। १शकशिम्धी, फेवाच । २ गतिमेत, मिलता (सस्त्री०) व्याकुलता, घबराहट। एक प्रकारकी चाल। ३ नत्तन, नाच । ४ मश्यगति- विहली ( स० वि०) जो बहुत घबरा गया हो। घी~१ कारित । २ गति । ३ च्याति । ४ क्षेप । भेद, घोड़ की एक चाल । ५ सन्धि, मेल । (शब्दरला० ) .५ प्रजनना। घोधि (सं० पु. खो०) यहति जल तटे घई यतीति थी (सपु० ) वयविति चो-गती न्यादित्शत् माघे -इति । वेशा टिच्च । उप्य ४१७२) १ तरङ्ग, लदर ।२ अव- - चिप , मभिधानात् पुंस्त्वं। गमन; चलना। काश, बोचको खाली जगह । ३ सुख । ( मेदिनी। ४ दीप्ति, (एकाक्षरकोष) चमक! ५ अल्प, घोड़ा। योक ( स० पु०) अजतीति अजफन् ( भनि युधूनीभ्यो धिमाली ( स.पु.) समुद्र। दीर्घष । उष्ण ३४७) अजेयोभायः । १ वायु । २ पक्षी। वीची (सं० स्त्री० ) वीचि कृदिकारादिति छोप। १ '३मन। (संक्षिससार उणादि) घोचि, लहर। धीकाश ( स० पु० ) विफाशनमिति वि-कश-घडा, (:. 1 काशे पा ६।३११२३) इति येरुपसर्गस दीर्घः १ निभृत, योचीकाक ( स० पु० ) जलकाक, जलकोमा । माईण्डेय. एकान्त स्थान । २ प्रकाश, रोशनो । ( अमर) पुराणमे लिखा है, कि जो लवण चुराता है .यह बाची- ' वीक्ष (संपु०सी० ) वि-ईक्ष-अस् । दृष्टि । काक अर्थात् जलकाक होता है। . . 'घोक्षण ( स० लो०.) विस क्युट । विशेषरूपसे ईक्षण- योचीतरङ्ग (म० पु०) न्यायभेद, यौवीतरङ्गन्याय! . दर्शन, निरीक्षण, देखनेको किया।