पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/१४४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२४० घोघ्र ही भोष्ट लाभ कर मकता है। ध्यान- ढकई (हि. वि. ) १ ढाकेका। २ ढाकेकी पोर होने "कोत्पलनिभां म्यां रक्तपंकजलोचनाम् ।

वाला एक प्रकारका कैला।

अष्टादशभुजां भीमा महामोक्षदायिनीम् ॥ ढकना (हि पु० ) ढक्कन, चपनो । एवं याया ब्रह्मरूपा तन्मत्रं दशधा जपेत् ।” ढकनी ( हि स्त्रो० ) १ ढाकने को वस्तु, ढकन । २ एक (वर्णोद्धारतन्त्र ) . प्रकारका गोटना। दमका आकार फलसा होता है इनका व रत्तोत्पल मदृश और लोचन रक्तपद्मके और हथेलो पोछे को और गोदो जाता है। तुल्य है, ये अष्टादशभुजा, भयकारी और परम मोक्ष प्रदा ढकपेडरू (हि. पु० ) एक चिड़िया का नाम । यिनी हैं। मात्रावृत्तम इम वर्ण का प्रथम विन्याम करनः . ढका ( हि पु.) १ तोन मेको एक तोन। २ वड से विशोभा होतो है। देखो। म्यान जहाँ जहाज पा कर ठहरता है। ट ( म पु० ) दौकत श्रवणन्द्रियं ढोक ड। १ ढक्का. बड़ा ढकार (म पु०) ढ स्वरूपे कार प्रत्ययः । ढ स्वरूपवण । ढान्न । २ कुक्कुर, कुत्ता। ३ कुक्क र लाङ्गल, कुत्तं को "ढकार प्रणमाम्यहम् ।" ( कामधेनुतन्त्र ) ।छ। ४ निगुगा, परमेखर। ५ ध्वनि, नाद, शब्द। ढकेलना (हिं क्रि० ) १ धक्का दे कर गिराना । २ वल. ६ , माप। पूर्वक हटाना, ढकेल कर मरकाना । ढंकन (हिं पु० ) ढकन देखो। ढकेलाढकेलो (हिं स्त्रो०) ठेलमठेला । ढकना (हि • क्रि० ) ढकना देग्यो । ढकोमना (हिं.क्रि.) बहुतमा पोना। ढंग (हि. पु०) १ पद्धति, रोति, तोर, सरोका । २ प्रकार, ढकोमला (हि. पु. ) आडम्बर. पाखण्ड, मिथ्या, जान्न । भॉति, किस्म । ३ रचना, बनावट, गढ़न। ४ युनि. उपाय, ढक्क ( म० पु० ) १ देशविशेष, एक देश का नाम ढाका। तदबीर। ५ पाचरण, व्यवहार । ६ पाखण्ड, बहाना, २ अभिलाषा, इच्छा। होला । ७ लक्षगा, आसार, आभास । ८ स्थिति, अवस्था, ढकन ( मं० पु. वह वस्तु जिममे काई चोज ढौंको जाय । दगा। ढक्का ( म० स्त्रो० ) ढग इनि गम्भार शब्द न क य न केक ढंगउजाड़ (हि. पु. ) घोडाको दुमके नोचेको एक . टाप च । १ वाद्यविशेष. बड़ा ढोल। दमके पर्याय - भौगे। इस तरह के घोड़े ऐबो ममझ जाते हैं। यशःपट ओर विजयमल है। इसके ऊपर पक्षियों के ढंगो (हि. वि. ) चतुर, चालाक, चालबाज़ । पर इत्यादि लगे रहते हैं। २ नगारा, का। ढं ढम (हिं• पु० ) ढंढरच देखो। ढक्कानादचलज्जला ( म० स्त्रो०) ढक्काया नादव चनत् ढंढार (हिं० वि० ) अत्यन्त जोग, बड़ा बुट्टा। जल यस्याः, बहुव्रो । गङ्गा । ( काशीख. ) ढं ढोर । हि पु०) १ ज्वाला, लपट, लो। २ वह बन्दर ढक्कारवा ( म स्त्रो. ढक्काया रख इव रवो यस्याः, जिमका मुंह काला हो, लंगूर । बहुव्रो । तारिणो देवो । हँ ढोरचो ( हि• पु० ) वह जो ढंढोरा फेरता हो, मुनादो । ढक्कारो ( म स्त्रो०) ढम् इति शब्द' करोति क-प्रण फैग्नवाला।

गौरा डोष । तारिणो. तारादेवी।

ढंढोरा (हि. पु० ) १ वह ढोल जिससे घोषणा को । "ढकारवा च ढकारी ढकारवरवा ढका।" जाती है, दुगडगो, डौंडी। २ ढोल बजा कर को गई। (तारासहस्रनामस्तोत्र ) हुई वोषणा, मुनादो। ढको ( हिंस्त्रो०) पहाडको ढाल। ढंढोरिया (हिं. पु.) वह जो डुगड़ गो बजा कर घोषणा ढगण (म. पु. ) मानावृत्तमें त्रैमात्रिक प्रस्तावविशेष। करता हो। एकमाविक गण जो तोन मात्राओका होता है। इसके हँपमा ( क्रि०) १ ढक जामा, बाड़ हो जाना । (पु. तीन भेद है,-.) १ ध्वजा, (.s) २ साल, () २ वह वस्त जिससे कोई चोज ढांको जातो है, ढकन। सागड़व।