पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/१५६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१५२ डाकापाटन-ढिवरी बाड़ीके सामने डाकघर, बाजार प्रभृति है। रथयात्रा रास्ता । ३ रचना, समावट। (स्त्रो०) ४ एक प्रकार, तथा झूलनोत्सव यहाँ बहुत धूम-धामसे मनाया जाता है। का गहना जो कान में पहना जाता है। इसका मा कार मके सिवा ढाकादक्षिण में प्रमिद 'गोपेरशिव' ढालसा होता है, बिरिया। ५ पछेलो नामक गहना । हैं। ठाकुरबाडोमे पायः टो कोग दूर कैलास नामक एक ढारम (हि.पु.) ढाढस देखो। छोटे पहाड़ के ऊपर शिवालय है । उक्त ग्रन्थमें लिखा है, ढाल (म० पु.) ढाक अच पृषो० माधुः । १ चमनिमित कि चैतन्यदेव उन्हों शिवको देखने के लिये गये थे। फलक, चमड़े का एक प्रकारका पस्त्र । इससे तलवार, के नाम के पाम हो अग्निकुगड है। भाले पादिका वार रोका जाता है ! यह थालीके पाकार ढाकापाटन (हिं० पु. एक प्रकारका महोन कपड़ा गोल होतो पोर गैडे के पुढे, कछुएको खोपडो, जिममें फलके चित्र दिये रहते हैं। धातु आदि कई चीजों को बनता है। २ उतार, तिरकी ढाकेवानपटेल (हि. पु. ) एक प्रकारको पुरवो नाव। जमीन। ३ प्रकार, तरोका, ढङ्ग। इसके अपर धूप तथा वर्षासे बचाने के लिये छप्पर दिये ढालना (हि... कि०) १ एक बरतनमे दूसरे बरतन में रहते हैं। गिराना, उडेलना। २ मद्यपान करना, शराब पीमा : ढाटा (हि पु० ) १ डाली बाँधनेको कड़े को पट्टो। ३ बिक्री करना, बेचना। ४ कम दाम पर माल बेंचना । २ वह बड़ा मुंठा जिम का एक फट डाढोमे ले कर ५ व्यङ्ग बोलमा, ताना छोड़ना। पिघलो हई धात गाल तक लपेटा रहता है । ३ कफन के मरकने से बचानक प्रादिको साँचेमें ढाल कर बनाना। लिये मुरदेका मुंह बांधनका कपड़ा। ढालवा (हि.वि.) ढालदार, ढाल । ढाड़ (हि' स्त्रो०) १ चिघाड़, चोख, गरज।' ढालिया (हिं० पु. ) वह जो साँचे में ढाल कर बरतन २ चिल्लाहट। आदि बनाता हो, सांचिया भरिया। ढाढस ( वि. पु.) , पाखासन, मावना, तमली। ढालो ( स० वि० ) ढालमस्यास्ति ढाल-इनि। ढालविशिष्ट, २ दृढता, सारस। ढालधारो, चर्मी। ढाढिन (हिं० स्त्री० ) ढाढ़ोकी स्त्रो। ढालुओं (हि. वि. ) ढालवां देखो। ढाढ़ी (हिं. पु. ) एक प्रकारको नीच जाति। ये जन्मो ढाल ( हि वि०) ढालवा दखी। मवर्क अवसर पर लोगोंके यहाँ जा कर बधाई आदिके ढामना (हिं पु०) १ सहारेको वस्तु, टेक, उँढकन । गीत गाते हैं। २ तकिया, बालिश। टाढीन (हि. १०) जलसिरिमका पेड। यह जालो ढि ढोरना ( हि क्रि.) १ अनुसन्धान करना, खोजना, मिरिममे कुछ छोटा होता है। इसका गुण-विदोष, तलाश करना। कफ, कुष्ठ पोर प्रतिमारनाशक है। ढिंढोरा (हि. पु०) १ घोषणा करने का ढोल, डुगडुगी। ढाना (हि. क्रि०) १ ध्वस्त करना, दहवाना। २ घोषणा, मुनादो। २ गिराना। टिकचन (हि.पु. ) एक प्रकारका गया। डापना (हि. क्रि०) ढापना देखो। ढिकुलो (हिं. स्त्रो०) ढेकुली देखो। दावा (हिपु.) १ अोलतो। २ जाल । ३ परछत्तो। ढिग (हि कि० वि०) १ समोप, निकट, नजदीक । ७ रोटोको दूकान । (स्त्री०) २ सामोप्य, पाम । ३ सट, किनारा । ढामक ( हि • पु० ) दान नगारे प्रादिका शब्द, ढमढम। ४ पाड़, कोर, हाथिया । ढामना (हिं. पु. ) एक प्रकारका साँप । ढिठाई ( हिं० स्त्रो०) १ पृष्टता, चपलता, गुस्ताखो । गमा (स'. स्त्री०) हंसो, मादा हम । २ निर्मलता। ३ पमुचित साहस । ढार (हि.पु.) १ सतार, दाल जमीन । २ पथ, मार्ग, विबरी (हि. सो) मीका तेल जलानेकी डिविया ।