पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/१८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१४ टमस-टलस्टय (लियो) टमम (हि. स्त्री० ) टॉम नदो, नममा । उलना (हिं. क्रि०) १ अपनी जगहसे मरकना, हटना । टमाटर (हिं० ) बैगनका एक भेट। इसका फल । २ अनुपस्थित होना, किमी जगह पर न रहना। ३ चंगा गोलाई लिए हुए चिपटा और स्वाद खट्टा होता है, बिन्ला होना, दूर होना, मिटना। ४ ममय बढ़ना, मुलतबी यती भटा। होना । ५ अन्यथा होना, ठीक न ठहरमा । ६ उल्लधित टमको ' हि स्त्री० ) टमकी देखो। होना, पूग न किया जाना। ७ ममय गुजरना, बोतना। टर (हिं० स्त्री०) १ कर्कश शब्द, कड़ई बोलो . २ मेढ़क- टलित (म' त्रि. ) टन-त । विचलित, जो अधीर हो को बोलो . ३ अभिमानयुक्त वचन, धमडमे भरो बात। गया हो। ४ हठ, जिद, अड़। ५ क्षुद्र वचन, तुच्छ बात, बे मेन टनमय ( लियो )-रूसियाके सुप्रमिह उपन्याम-लेखक बात। ६ मुसलमानोंका एक मेला जो ईद के बाद और समाज-मस्कारक । १८२८ ई० ता. २८ अगस्तको, लगता है। यशनाया-पलियाना नामक स्थान, धनाव्य पितामाताके टरकना (हिं.क्रि.) चला जाना, लट जाना। घरमें इनका जन्म हुआ था। टलस्टय के पूर्व-वंशीयगण पहले टरकाना (हि. क्रि०) १ स्थान परिवर्तन करना, हटाना, जर्मनी में रहते थे, पोछे पिटर-दो ग्रेटके गजत्वकालमें वे विमकाना । २ टाल देना, धता बताना। रुमिया आये। इनके वशी, अधिकांश लोगोंने गज- टरको ( तु० पु० ) एक प्रकारको मुर्गो। इमको चोचके कार्य करके ख्याति लाभ को है। जिम ममय टनस्टयकी नीचे गले में मामको लाल झालर रहता है। इसका माम माताका देहान्स हुआ, उस समय इनकी अवस्था मात्र बहत स्वादिष्ट माना जाता है। कोई काई इमे परु भो तीन वर्ष को थो। माताको मृत्य के कुछ दिन बाद ही कहते हैं। इनके पिताको मृत्य हो गई। बाल्यावस्था में टलस्टयका टरगी (दि. पु०) भारतवर्ष के मटिगोमरो आदि स्थानों में मन पढ़ने लिखनेकी और विशेष प्राकष्ट न था। इन्हें जानकारोवामा से बचाव मोमे मिलना-जलना भी पसन्द न था। बाल्य-जीवन में खातो हैं। १२से १२ वर्ष रखनं पर भी इसका स्वाद वे मर्व दा इमो चिन्तामें मग्न रहते थे, कि कैसे लोग मही बदलता है। इसका दूमरा नाम वलवा या पल उन्हें 'अच्छा लड़का ममझ, कैमे वे यशस्वी हो मक। वन है। परन्तु उनका चेहरा देवर्नमें अच्छा न था, इसलिये टरटराना (हिं० कि० ) १ व्यर्थ बात बोलना, बकबक लोगोंको दृष्टि इन पर कम पड़ता थी। इसके लिये करना, २ टर टर करना। बालक टलम्टय बड़े दुःखित होते थे। बाल्यावस्थामें टरी (हि. वि० ) घमण्ड से बात करना, सीधे से न । विद्यालय में जा कर इन्होंने वहांके कुत्सित पालापादि बोलना । २ पृष्ट, कट वादो। सुने और बालकोंमें जो दुनोतियां प्रचलित थी, उसके टरांना (हि. क्रि०) घमण्ड के साथ चिढ़ चिढ़ कर स्रोतमे इन्होंने अपनेको बहा दिया। टलस्टय शिकार बोलमा। खेलना बहुत पसन्द करते थे। पिन ( हि पु० ) कट वादिता, वह जो ऐंठ कर बात ग्यारह वर्ष को अवस्थामें टलस्टयके लिये एक करता हो। फगमोमो शिक्षक नियुक्त हुए। १८४० ई० में, जब टई (हिपु.) १ वह जो चिढ़ कर बातें बोलता हो। इनको उम १५ वर्षको थी, ये कजानको विश्वविद्यालय . २ मेढ़क, वेग, दादुर। ३ घोड़े को पूछके बालसे एक में प्रविष्ट हुए। उम ममय रूसियाक मभान्त वंशीयगण लकड़ीमें बंधा हुआ खिलोना। यह चमड़े को झिलसि विश्वविद्यालयमें पढ़ने-लिखने के लिये न जाते थे बल्कि मढ़ा होता है। ममाजमें मिल कर रहनेके गुण सोखनेको लिए जाते थे। टलन ( संलो०) टल भावे बर। विक्लव, खलन. टलस्टयको १५ वर्षको उममें ही समाज के विभिन्न स्तरों- विहस, परेशान। को जटिल समस्यापोंसे परिचित होनेका अवसर मिल