पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२०४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


सदपि-सनि वस्था पौर प्रमाणबाधितार्थ प्रसङ्ग। तक देखो। तदितथं ( मवि. ) तदित् तदेवार्थ: प्रयोजन यस्य, मपि (स अव्य. ) तथापि, नोभो ।। बहो । तषियक स्तोत्र, उम संबन्धो पति । जिसका सदबीर (प. सो. ) यति उपाय, साकोब। प्रयोजन है। “वयुमूत्वा तदिदा इन्द्र" (ऋ १२९६) सदभिव। मत्रि ) सम्मादभिवः, ५ तत्। तस्वरूप. 'यद्विषयकं स्तोत्र नदित् तदेवार्थः प्रयोजनं येषां तादृशा' (मायण) समीके ममान, उमौक जैमा। सदोय (म त्रि०) १ तत्सम्बन्धी, उसका, उसमे सम्बन्ध सदर्थ ( म.वि.)) १सतप्रयोजनक, उसके लिये। २ रखनेवाला। तदभिधेय। ३तत्प्रयोजन, तविमित्त, तज्जन्य। सदुपरान्स ( स० अव्य ) उसके पोछे, उसके बाद। सदर्षगा ( म० को. ) सस्य सस्मिन् निक्षिप्तस्य अर्पण तदुपरि ! म. वि. ) तत् उपरि। उसके ऊपर । तन्। उम वनका प्रत्यर्पण, उम पहाय का देना। तदेक ( म०वि० ) म एव एका प्रधान यस्य. वहबी० । नदई (म त्रि.) सदयोग्य, उमके लिये। नत्वरूप, उमके मदृश । तदवधि (मलो०) मा अवधि यस्मिन् तत्, बहब्रो०। नदेकात्मा (म. लि. ) म एव एकः प्रात्मा पात्मस्वरूप: सदवस्य (म त्रि. ) मा अवस्था यस्य बहवो। जो यस्य, बहुमो०। उमोके जैमा, उपोक ममान । उमी अवस्था हो, जिमको पहली अवस्था कुछ भी नहीं तदोकम ( म० वि० ) वहो म्यान. वहां । घटो हो। नदीजम् ( म० वि० ) वनस्वरूप, उमाके जमा नदा ( म भव्य ) तस्मिन् काले तद्-दा। उस ममय, बलवान् । लिम समय, तब। तहज (म० वि० ) तत् गज:. २-सत् । १ तदासला, सटाकार ( स.वि.) १ तद्रूप, उसी आकारका, वैमा उमई अन्तगत। २ सममे मम्बन्ध रखनेवाला। हो। २ तन्मय, लवलीन, लगा हुआ। तहगण ( म वि०) तस्य गुण रव गुणो ऽस्य, बहवो । सदात्मा ( म० पु.) १ सत्स्वरूप, उसके ऐमा । २ तनिक, १ तत्तन्य गुणयुक्ता, उमौके ममान गुणवान् । २ अर्था- उसोके महश। नझारविशष, एक अर्थान्लङ्कार । जहाँ अपना गुण त्याग सटाव (मलो ) नदा इत्यम्य भावः तदा त्व। करके ममोपवती किसो दमरे उत्तम पदाय का गुण तत्काल, वर्तमान ममय। ग्रहण किया जाता है, वहाँ यह अलङ्कार हुआ करता सटामों (पं. पत्र्य.) तस्मिन् काल तद-दाना । है। (प.) तस्य गुणः, -तत। ३ उसका गुण । ४ नदो दा च । पा ६।११। उसी समय, तब। प्रधान विशेषण। दानान्सन (म. वि. ) तत्र भव पति धन ल्युट, च। ताण मंविज्ञान (म. पु० ) तत्र बहब्रोडौ गुणस्य गुणी- सदासन, उम समयका। भूतस्य विशेषगस्य सविज्ञान सम्यकजान यत्र, बहुव्री तदाप्रभृति ( स० वि०) सदा तत्काल प्रभृतिरादियं स्य, ममामविशेष, एक ममाम। बहवोहि ममासके दो भेद बहुवो। उसी समयसे । हैं-तह,याम विज्ञान और अतहु गमविज्ञान । बहुव्रोहि तदामुम्नु (म त्रि०) सदा मुख यस्य वहम्रो । ममाम करने पर समस्यमान पदार्थ जहाँ ममामवाचार्म पारंभ, शुरू। सदायुक्तक (स'० पु. ) तस्मिन् पायुक्तः, ७-सत् स्वार्थ - रहता है, उसको तहगस विज्ञान कहते है। यथा- • श्रीणि लोचनानि यस्य स त्रिलोचन: शिव ।" यहाँ पर समास कान् । राजपरिषदविशेष, राजाकी एक सभा। तदारक (अ.पु) १ किलो खोई हुई चोज पथवा वाच्यमें अर्थात् शिवके सोन नेत्र ' ऐमा आन कर इसका अपराधोका पन्वेषण। २ प्रबन्ध वन्दोवस्त, पेशवन्दो। नाम तह पास विज्ञान पड़ा है। समाप देखो। ३ दण, सजा। नहड (म त्रि. ) तत्दण्ड, कम धा० । वह दड, वा तदित् (सं.वि.) सदेति इन् लिप तक। तद. काल, तव । विषयक स्तोत्र। तहिन (सं० लो०) मत् दिन, कर्मा । वह दिन, इस बा।