पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२०८ भागिया या भाम्पनिया तीतो पालकमें में ठ कर विवार करते हुए किसी ने कहा है कि एक कातनेवालेका प्रस्तुत करने, समलिये ये झम्प नया करनाये। प्रोपोज तातो उत्कट ८८ गज सते तोलमें एक रत्तीसे भी वाम हए पहले कायस्थ थे, बाद अवसयनवृत्ति प्रबल बन करनेके थे। अभी एक ग्लो बढ़िया महोनसे महोन सता. कारण ये आतिथ्य त किये गये। गजमे अधिक नहीं होता है। इससे मावित होता है कि इनमेमे परम्ला या बड़ा भागिया गाग्वा को बहत दर या तो मित्रयाँ पहलेको माई मता कात नहीं सकतो सक विस्तृत है। इनमें बहन को उपाधि वाक। अथवा कयास ही मोटो हो गई है। पाजका उनका पहले जब कोई मम्भ्रान्त तागय पत्र बुनना कोड यह व्यवमाय विलुप्त हो गया है। कर कपडे का शवमात्र प्राम्भ काता या तब उमे यर विहारके तोतियोको सतवा कहते हैं। ये प्रधानमः उपाधि दी जाती थी। गिडया कपनो को कोठोमें दो मम्प्रदायाम विभक्त है-कमोजिया और त्रि इलिया। जितने सन्तुवाय नियुक थे रन हो उ गधि वगानुक्रगिक मलम पडता है कि बिहारके चमार तांतो और कहार आज तक भी चलो पाती है। यथा-यानना या तांतो चमार पोर कहार जालिसे उत्पनर शायद मूल्यनिरूपक, मूविम पदाक, दलान भोर मार कोई चमार भोर कार वस्त्रवयनवति अवलम्बन करके (एक दन कागेगरका मदार)। क्रमशः तातो हो गये हों। उड़ीसे के मातिषश साँसो ढाकाके मग बाजार में मगो थेगो ना एक दन मोटा कपड़ा बुनते हैं। इनमेंसे बहुत पाजकल वनवयन जातिभ्रष्ट तन्तवाय वान करते हैं। परित होने पर भी वृत्ति छोड़ कर पाठशालाके शिक्षक हो गये हैं। गाना उनका पाचार व्यवहार शूद्र सन्तुवायों के जमा है। तोतो म.क्ष्म वस्त्र और हमी तांती अनेक तरहके रंगोन डाकर वाजने निग्वा है कि छोटा भागिया अर्थात् वम् प्रस्तुम करते हैं। कायेत तातो पहले मोनार थे, बाद अपना व्यवमाय छोड़ ढाकेमें अनेक हिन्दुस्थानो या मुंगेरिया नाँतो वाम कर इन्होंने कपड़े बुननेका व्यवसाय प्रारम्भ किया। करते हैं। इनमेसे पनेक बाहरमें प्यादा. मोटिया, मजदूर पभी वे भी वसाकके माथ वाले पोते हैं। वमाक भो तथा पंखा खींचनका काम करते और घरमें वस्त्रययन उन्हें मामाजिक मर्यादा प्रत्यय ण करते हैं। ओर जाषिकार्य भो किया करते है। ये दो श्रेणियों में कुछ धनो कायेत ताँती प्रपनको कायस्थ बतलाते हैं। विभक्त हैं-कनोजिया और बिहुतिया। कनौजियेको हो ये ढाकामें रहते हैं। इनमेमे बहुत महाजनी या नक्कासो मख्या अधिक है। समाजमें इन्होंने अधिक उन्नति की वृत्ति हारा अपनी जीविका निर्वाह करते हैं। है। विहुतिया पालको बानक, गायक, बायकर, सहोम, पूर्व बङ्गालमें वङ्गताँतो नामक एक दूसरो श्रेणोके मांझो प्रभृति निकष्ट कार्य करते हैं। ताँतो बमते है। ये नागरिक तौतियांसे मम्पूर्ण स्वतन्त्र बङ्गालके तन्तुबाय नवशाख के अन्तभुत हैं। इसलिए है। ये कहते है कि ये हो इस देश के धादिम तातो है इनके विवाहादि दूसरो दूसरो नवशाख जातिको नाई तथा सम्माट् जहाँगोरके पहने हो देयाम कपडा बुन है। पश्चिम बङ्गालमें कहौं पर कोई कोई पण ले कर कर देते पा रहे थे। जो कुछ हो वभाग तातो इन्हीं कन्याका विवाह करते हैं। अन्यादान करना हो समाजमें अपनसे श्रेष्ठ मानते हैं। ढाकामे २० मोल उत्तर धामगई मर्वत्र मम्मानम चक पोर यशस्कर है। प्रभो दूसरो उच्च नामक नगरमें प्रायः २५० घर तातो वाम करते हैं। वेणोके हिन्दूको नाई कन्या कर्ताको भो वरको विद्या, ढाकाके तोतो विवाह के समयमें लाल वस्त्र पहनते हैं, बुद्धि और ऐश्वर्यानुसार पण देबर कन्यादान करना किन्तु वा तांती एक वस्त्र धारण करते हैं। पड़ता है। पहले सो धामगई नगरमें हो सुविख्यात सन्म सूत्र बिहारके तौतियों में विधवा विवाह और परित्यक्ता प्रखत होते थे। सियों नरखेमें हाथ से महोन सून तयार स्त्रोका मगाईको प्रथा प्रचलित है। जब कोई स्त्रो करती थौं । उनके हस्तनिर्मित का सूत्रको प्रयसा | सजातीय शिसो पुरुषके साथ भोग करतो तो एक