पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२२ देहलनी-टाँकाटक धीरे धीरे चलना । २ हवा खाना और करना। ३ पर टाइमपोम ( अम्बी० ) घड़ीका एक भेद। यह बजती लोक गमन करना, मर जाना। नहीं केवल सूरयो के हारा समय बताती है। टहलनी । Eि स्त्री.) १ दामो मजदूरनो, लौंडो। २ 'टाई ( . स्त्रो० ) अंगरेजो पहनावे में कालरके अपर बत्ती उसकान के लिये चिराग पो हुई लकड़ो। गांठ दे कर बांधो जानकी कपड़े को पट्टी। टहलाना ( हि क्रि० ) १ धोरे धोरे च नाना, घुमाना, ट!उन । अ० पु० ) शहर, कमवा । फिगना । २ हवा खिलाना, सेर कराना । ३ हटा देना, टाउन य टी (अ० स्वी० ) चुगी, पौटी। दूर करना। टाउनहाल ( . पु. ) किमी नगरका मार्वजनिक भवन । टहला (हिं. पु. ) मेवक, टहल करनेवाला, चा। इसमें नगर की सफाई रोशनी अादिकं प्रबंध कर्ताओं को टहलाई (हिं. स्त्री०) १ दामी, नौंडो । २ चिरागको बती मभाएं होती हैं। उमकानेकी लकड़ी। टाक (हिं. स्वो.)१चार माशेको एक तोल। हमका टहलुवा (जि. पु.) टहलुआ देगी। प्रचार जौहरियों में है। २ लिखावट। ३ कन्नम को टहल (हि.पु.) नीकर, चाकर, मेवक । नोक, नवनीका डङ्ग। ४ पचौम मेर के बराबर की एक टहका (हि. पु.) १ पहेलो। २ चमत्कार-पूर्ण उति, प्राचीन नौल। इममे धनुषको शक्तिको परीक्षा को चुटकुला। जाती थी। प्राचीन समयमं हम तौलका बटखरा धनुष टसोका (हिं० पु०) झटका, धक।। को डोरोम बाँध कर लटका दिया जाता था। जितने टा सं० स्त्री०) टलति प्रलये भूकम्पांदी वा टल डाटाप । बटवर बधिनम धनुषको डोरो अपने पूर खिंचाव पर प्रथिवी। पहुंच जाती थी, उम धनुपकी उतनी ही टांकका मम टाइटिन्न पेज (अं० पु. ) पुस्तकके अपरका पृष्ठ । इम पर झते थे। ५ अन्दाज, जांच, प्रांक । ६ हिम्मदारीका हिस्सा, बखरा । पुस्तक और ग्रन्थकारका नाम कुछ बड़े अक्षराम अंकित टोकना (हि० कि०) १ कौल कांट ठीक कर एक वस्तुको रहता है। दूमरी वस्तुसे मिलाना। २ सिलाई के द्वारा जोड़ना। टाइप ( पु०) कॉटेका अक्षर जो मोमका बना होता है। ३ मिलाई के हारा एक वस्तुको दूसरे वस्तु मे अटकाना । टाइप कास्टिंग मशीन ( ० स्त्री०) वह कल जिमसे ४ कूटना, रहना । ५ रेता तेज करना । ६ स्मरण रखने- काटक अक्षर ढाने जाते हैं। के लिये कागज पर लिख लेना, दर्ज करमा, चढ़ाना । टाइप मोल्ड ( अपु.) वह मांचा जिसमें कांटेके असर ७ खाना, उड़ा जाना, घट कर जाना। ८ अनुचित ढाले जात हैं। रूपसे रुपया मा प्रादि ले लेना, मार लं ना। टाइप-गस्टर (अ. पु.) एक कल । इसमें कागज रख टॉकली (हि.स्त्रो०) एक प्रकारको घिरनी जिससे कर टाइपकम अक्षर छाप सकते हैं। जहानका पाल लपेटा जाता है। टायफायड ज्वर ( . पु. ) एक प्रकारका विषेला और र | टॉका (हि. पु.) १ जोड़ मिलनिवालो कोल। २ प्रागनाशक ज्वर । पर शब्द में आन्त्रिक पर देखो। मिलाईका अलग अलग भाग, डोभ । ३ सिलाई, टाइफोन ( अपु. ) चीनकं समुद्रम तथा उसके आसपास मोवन । ४ चिप्यो, चाती। ५ वह सिलाई जो शरीर बरसातके चार महीनों में प्रानवाना तूफान। परके घाव या कटे हुए स्थान पर को जाती है। टाइम (अं० पु. ) कान्न, ममय, वक्त। धातुपोंको जोड़नेका मसाला। ७ लोहेको कोल, पत्थर टाइम-टेबुल ( अं० पु.) १ भिन्न भिन्न कार्याक लिये निखित जानकी चौडी हनी। हौज, चहबञ्चा। ८. पामो समय लिख रहने का विवरणपत्र । - रेल संबंधी कागज। रखनका बड़ा बरतम , कैंडाल।। इसमें ग्ल-गाड़ों के पहुंचन और छटनेका समय लिखा | टकाटक (हि. वि.) जो तौलमें ठीक निकले. वजनम रहता है। पूरा पूरा।