पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


टॉकी-टांक टाकी (दि.. स्त्री०) १ पत्थर गढ़नेका यन्न । २ काट कर टॉड (हिं. स्त्री०) १ चीज पसबाव रखने का पाटन, पर. बनाया हुआ छेद। ३ एक प्रकारका फोड़ा। ४ गरमो छत्ती। २ मचान। यह दो या चार खम्भोके योगसे या सूज क का घाव । ५ पारीका दात, दाता। ६ छोटा बनाया जाता है । अपरम खाट या तम्तो बिछाई रहती हौल, यह मचा। ७ पानी रखनेका बड़ा बरतन, है जिस पर बैठ कर गृहस्थ खेतको रखवाली काण्डाल। करते हैं। ३ एक प्रकारका गममा जिम स्त्रियां बाइ टांकीबन्द (हि. वि. ) जिसमें लगे हुए पत्थर दोनों ओर पर पहनतो है, टडिया । ( पु.) ४ समूह, ढेर, गशि । गड़ने वाली कोलकि हारा एक दूसरेमे ख ब जुड़े हो। ५ ममूह, पति । ६ घर्गको पहि। (स्त्री० ) ७ टांग (हि. स्त्री०) १ ज की जड़से ले कर एडो तकका ककगेलो महो। ८ गुलो पर डडेको चोट, टोला । अड़या घुटन मेले कर ऍड़ी तकका भाग। २ कुप्रताका टोडा (हि.पु.) १ बनजारोंके बैलों पादिका मुण्ड, एक पंच। ३ चतुर्थाश, चौथाई भाग। बरदो। २शापारियों के मालको चलान । ३ व्यापारियोंका टाँगन (हिं. पु. ) कम ऊँचाई का घोड़ा, पहाड़ी टट्ट। झगड़। ४ परिवार. कट,म्ब। ५ गये पादिकी फसल- योगना ( क्रि०)१ किमो वस्तुको दमरो वस्तुमे इम प्रकार को नकमान पहुंचानेवाला एक प्रकारका कोड़ा। बांधना कि उमका मब भाग नोचेको घोर लटकना टायटाय (हिं स्त्रो० ) १ अप्रिय शब्द, कड़ई बोलो, रह. लटकाना। २ फांसी चढ़ाना, फॉमो लटकाना। । २ प्रलाप, बकवाद। टोगा ( हि पु० ) १ बड़ी कुल्हाड़ी। २ वोर्ड या बनमे टॉम (हिं. स्त्री० ) हाथ या परके बहत देर तक सिकुड़े खोचो जाने को एक प्रकारको गाड़ी। इसमें मवारो रहनके कारण नमोका तनाव । इममें यद्यपि बहुत पीड़ा प्रायः पोछकी और ही मुह करके बैठती है। इम होती है लेकिन वह बहुत कम काल तक ठहरता है। गाड़ौके इधर उधर उलटने का भय भी बहुत कम रहता टाकी-बङ्गाल के चोबोस परगना जिलेके अन्तर्गत बमिर है, क्योंकि इसके नीचेका भाग जमीनमे मटा रहता है। हाट उपविभागका एक शहर। यह प्रक्षा० २२ ३५ यह प्राय: पहाड़ी गम्तकि निये बहुत लाभदायक उ० और देशा० ८८५५ पू०के मध्य यमुनाक किनारे होती है। अवस्थित है । लोकसंख्या प्रायः ५०८८ है यहां सरकारी टांगानोचन ( हि स्त्री. ) खोच खुमोट, ग्वींचाताना। हाई स्कन, बालिका विद्यालय और दातव्य चिकित्सा टागुन ( Eि स्त्री० ) सावन भामि तैयार होने वा. लय है। यह नगर स्वास्थ्य कर है। यहाँ मलेरियाका एक प्रकारका बनाज। दमक दानं बहुत बाक और प्रकोप नहीं देखा जाता। यहां के राजा वमन्तगयके पोले के होते हैं। यह गरीब ममप्याक खाने के काम वंशज हैं। स्वर्गीय कालीनाथ राय बाराभातसे एक आता है। लम्बो चौड़ो मड़क प्रस्तुत कर गये हैं। इस नगरमें अच्छे टॉच (हि. स्त्रो०) १ दूसरे का काम बिगाड़ने वाली अच्छ गड़वे प्रस्तुत होते हैं। यह चावल व्यवमायका बात । २ टोका, सिलाई, डोभ। वह ट कड़ा जो किमो केन्द्रस्थल है। यहाँ १८६८ ई में म्युनिसपालिटो स्थापित फटे हुए कपड़े या और किसी वस्तुका छेद बन्द करन के हई है। लिये टोका जाय, चकती। टचिना (हि. क्रि० ) १ टोकना, मीना। २ काटना, टाकू (हि. पु. ) टकुत्रा, तकला, टेकुरो। छाँटना, छोलना। टार (म क्लो०) टन तद्रसेन निवृत्त । मद्यविशेष, टाँची (हि. स्त्री०) १ कार्ड को वह लम्बो पतली टोली एक प्रकारको शराब। यह शराब नोल कथके रमसे जिसमें व्यापारी रुपये भर कर कामरमें बांध लेते हैं, तैयार होतो है। इसके बारह भेद है-पानम, द्राक्ष, मियानो। २ भौजी। माधक, ग्वज्जर, ताल, ऐक्षव, माध्वीक, टाक, मार्डीक, टाँठा (हि. वि.) १ कठोर, कड़ा। २ दृढ़, हष्टपुष्ट, ऐरेय पोर नारिकेलज ये ग्यारह प्रकारके मय है। बारहवे मजबूत । प्रकारके मद्यका नाम सुरा है। पहले ग्यारह प्रकारक