पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२७८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२७४ तपोबा-तपोस्ट तपोजा (मो०) सपोज टाप । जम्न, पानी । तपस्या तपोभूमि (सं० म्लो ) त कानेका स्थान, नोयवन । को अग्निमे अप, (जन्न) उत्पन्न होता है। पहले अग्निमे तयोभृत् (स' त्रि.) तपो वित्ति नपः भकिप. तुक छ । धम, धममे अझ ( मेध ) और मेघमे वृष्टि होती है। सपोधारक, जो तपस्या धारण करते हैं। मोलिये वृष्टि तप यामे उत्पन्न होनेके कारण इमका । तपोमय ( म० पु. ) तपः प्रचुरः तपः स्रष्ट यपदार्थालोचन नाम तपोजा हश्रा है। । तदात्मको वा तपम् मयट। १ तपः प्रचुर, यथेष्ट तपस्या। तपोडी (हि, स्त्रो० । काठका एक बरतन। २ परमेखर। तपोट ( म• पु० ) मगधका एक तोर्थ । तपोमयो ( म स्त्रो० ) तपोमय-डोप । तपस्वरूपा, वह तपोदान ( म० को०) तप इव दान यव, बहती। जिमने यथेष्ट तपस्या को हो। नोथ भेद, पुण्य-तोमि तपोदान एक प्रधान नौथ माना तपोमूर्ति (म०५०) तपः आलोचनभेद एव मूनि । गया है। ( भारत १३१५२ अ०) नीर्थ देखो। यस्य वा तपःप्रधाना मूतिर्यस्य, बहुव्रो । १ परमेश्वर । जपोधन ( म० त्रि०) तपोधन' यस्य, बहवो । १ तयोरत, २ तपस्वो। ३ सप्तर्षि भंद, बारहवं मन्वन्तरके चौथे तपस्यो। तपोधन मन वाक्य और काय द्वारा जो कुछ सावणिक मर्षियों मेंमे एक। ( हरिवंश ७ अ० ) पाप करत, वे तपम्यामे नाश हो जाते हैं। (को०)२ तपसोमनि देखो। तप एव धन, कम धा० । २ सपोरूप धम, तपस्या तपोमल (स० प्र०) तपो मूल यस्य, बहतो. १ तपस्या के जिमका एक मात्र धन हो। तप: धन मूल्य य या ३ : निये स्वर्गाटि। २ तामम मनके एक पुत्रका नाम। तपस्याहारा पाने योग्य म्वर्गादि । ४ दमनकक्ष, दान तप देखो। का पेड़। तपोयुक्ता ( म० वि० ) तपमा युन, ३ तत्। तपम्या द्वारा तपोधन-गजगतो ब्राह्मणांको जातिका एक भट । नारा युक्त, तपम्यासे भरपूर । नन्द्रोक तोग्वों देगम ये अधिक संख्या में पाये जाते हैं। तपाति ( म वि० तपमि रति यस्थ, बहवो । तय: प्राचीन कालमें हम वर्क लोग बड़े तपस्वी थ, यहाँ परायण, जा तपस्याम लोन ह।। प.) २ तामम मनुक तक कि तपस्याको हो अपना मर्वम्व ममझते थे और एक पुत्रका नाम । तपस्या देखो। लौकिक धनको इच्छा न रख करके तपरूपो धनको एक- .. तपारवि (म० पु. ) तपमा रविरिव। १ वर जो त्रित करनेवाले थे ! डमो कारण इन्हें तपोधनको उपाधि मूर्य क मदृश तेजवन्त हो। २ धारहवें मन्वन्तर के चौथ मिली थी। आज कल ये नाम मात्र के तपोधन रह मावणिक समयमें समर्षियों में से एक ऋषि का नाम । गये हैं। सपोराशि (म पु० ) महामुनि, बहुत बड़ा तपस्खो । तपोधना ( म स्त्री० ) तपाधन-टाप । मण्डोरीवक्ष, तपोलोक (म पु० ) तपोनाम लोकः, मध्यपदलो. गोरखमुण्डो। तपोधर्म ( म० पु० ) तपः एव धर्मा यस्य, बहुवा। १ कर्मधा। ऊर्ध्वग्थित लोकविशेष, ऊपर के सात लोका. मसे छठॉ लोक । यह लोक जनलोकसे चार करोड़ तपस्या ही जिमका धर्म है, तपम्वो। तपमो धमः, ६ योजन अपरम अवस्थित है। तत् । २ तपस्याका धर्म । ३ ग्रामकाल का धर्म ! "चतु:कोटिप्रभाणं तु तपोलो कोस्ति भूतलात् ।"(काशीख० २४।२०) सपोत (म० ए०) तपसि धुत: ममोषो यस्य, बहवोः । ____भू प्रभृति सात लोक ब्रह्मासे उत्पन्न हुए है। ब्रह्माके १ तपोरत, तपस्खो। २ मर्षि भंद, बारहवं मन्वन्तर दोनों परसे भूलोक, नाभिसे भवर्लोक, हृदयमे स्वर्लोक, चौथ मावणि के मामर्षि योमिसे एक ऋषि । तपोनिधि ( म० ए०) तप एव निधिः धन यम्य, बहुव्री.। वक्षःस्थलसे महर्लोक, गलेसे जनलोक, दोनों स्तनसे तपो तपोनिष्ठ, तपस्वी। लोक और मस्तकसे मत्यलोक उत्पन्न हुआ है। (भाग- तपोनिष्ठ ( म० पु. ) तपसि निष्ठा यस्य, बहुबो । तपो. वन २।५।३८३-९ ) विशेष विवरण सप्तलोकमें देखो। रत, तपस्वी। नपोषट ( पु.) तपसो वट-दव । अमावस देश।