पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/२९०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२६६ तमा Visines)ने तमाकूकी प्रामदन' को थी। उन्होंके नामान- युतप्रदेशमें विनायतो वा कलकत्त को समाकूके नामसे मार इस श्रेणीक उडिद का नाम पड़ा है। निकोटियाना- प्रमिह है। पञ्जाबमें कसाहागे तमाकू वा कान्दाहारी गोमें कई एक प्रकार की तमाकू के मिया अन्य कोई भा। ककर नामसे प्रमिड है। उद्भिद राहीन नहीं होता। वन्य और कपिलब्ध ममम्त निकोटियाना टाबाकम् वा माधारया तमाकू पमेिरिका नमामि आज तक ५० प्रकारकं तमार्क पडाका वा भाजियानाको तमाकू कहनाती है। विवरमा प्रकाशित हुआ है। इन ५० प्रकार के प्रडामस भिन्न भिन्न देशों में तमार्क नाम इस प्रकार है-- ४८ प्रकारका प्रादिस्थान अमरिका है, अवशिष्ट २ प्रकार युक्तप्रदेशम ... तमाक् तम्बाकू, वज्जरभाज। के पेडाम में एक प्रकारका पेड़ अष्ट्रेलियाम और एक बङ्गालम तामाक्, दोका, तामाकू। प्रकारका नये क्यालिडोनिय होपमं पाया जाता है। उता मिन्ध, गुजरात और गजपुतानाम ... तमाकू । ४८ प्रकारक तमाकूक पडमिसे विशेषत: हम देशम निकी बम्बई प्रदेशमें तम्बाख । टियाना टाबाकम (N. labacum ) और निकोटियाना , उडियाम धूमपतड़ (म्रपान । गष्टिका(Nistica) इन दो गिायोका प्रचलन अधिक। मंतमें कलन। है। देश और जमान भेदमे तथा कृषिको प्रतिक भेदमे गठित ) . धम्रपत्र, ताम्रकूट। इनके नाना प्रकारक मामान्य विभाग देखनमें आते हैं, तामिलमें पोगई-इन्लाई। तन्लगूमें ___.. . पोगाकू, धूम्रपत्रम् । काश्मोग्में मवन् पाण्डव । कटकम होगमप्प । मलय में .. पुकाइला, पुकालो, तामाको। ब्रह्मदेशम में, माक, माकपिन। मिहलमें दिशाजहा. टिंकोला। पारस्यमें सम्बाकू । अरबमें तुतन, बज्जरभाग। सुतन, दोखन । बालि वा यवहोपमै ताम्राको। चोनदेशर्म ... मियाइयेन, हेयनमाई, तान्या। जापानर्म टाबाको। १। साधारण तमाकूका पेड़। २ । तुर्की तमाकूका पेड़। इटलीमें टैबाको। जिनमें अधिकांश ही व्यवसायके स्थान और जन्मस्थानकं लैटिनम टाबाकम् । मामले परिचित हैं। भार्जियाना, मेरिलैण्ड, कण्टाकि, इस, जर्मन, डेनमार्क और फ्रायमें ... टाबाक। लाटाकिया, हाभाना, मामिला, सिराज आदि एसिया, हलेण्ड में ... टोबाक। यूरोप और अमेरिकाको प्रसिद्ध समाकू एक निकोटियामा पतुगाल, स्पेन और दंगण्डमें ... टोबाको। टाबाकामसे ही उत्पन्न हुई। प्रसिद्ध तुर्की तमाकू मेक्सिको देशमें ... कोयाजरियेट । निकोटियामा राष्टिकासे उत्पन है। ___ माकूका पेड़ सीधा होता है । इसके पत्ते काण्डा निकोटियाना राष्ट्रिका वा तुर्की तमाकू साधारणतः जोषी, हन्तहीन पोर कोणाकार होते हैं तथा काणको घरोपमें पूर्व भारतकी तमाकू ( Turkish or East तरह विक्कुल जड़से हो जगते है। वाणके अपर मुद्र Indian tobacco : के नामसे तथा बङ्गाल, बिहार पोर कोमल सोमव काटे पनि पावरको तुरुष्कमें