पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/३१०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३०६ तरमीम-तरस्थिन् तरमोम (प्र० स्त्रो० ) संगोधन, दुरुम्तो। । महत पर्याय-प्रेगोलित, लुम्लित, प्रेशित, दूत चलित, तरम्ब जमको । तर जगन्न अम्व वत् जायते यत्र कम्मित. धृत, बेनित और पान्दोलित है । जन सरवचनात र तरबूज देखो। ।तरवट ( मली०) वृक्षभेद, एक पेड़का नाम । (Casvia तरन . 7. न कलच । वृषादिभ्यचित् । उण ११० i uriculata) इति न यथित् । १ हरक बोचका मणि । ! तरवड़ी (मि. स्त्री० ) छोटो तगज का पलड़ा। २ धार! ३ तन्न, पेंदा। (त्रि.) ४ चपल चञ्चन्न, ।। तरवन (हिं. पु. ) १ एक प्रकारका गहना जो कानमें ५ कामग, र क ! विम्सग, फलाहा । ७. पहना जाता है, तरको। २ का फल । र, चकोन्न! । ८ मध्यशून्यद्रव्य, ग्वोग्वन्ना, पोला। तम्वर (हि. पु०) १ बड़ा वृक्ष । २ मध्यभारत और दक्षिण- वोभून पदवं, पानीको तरह बनवाना । ( पु० ) में होनेवाला एक प्रकारका बड़ा पेड़। इसके छिलकमे १. जनपदविशेष, एक देश का नाम । २१ उम देश का । चमड़ा मिझाया जाता है। रहमताला ! १२ क्षणभङ्ग, र, अनिन्य । १३ होरकरत्न ! तम्वाँची (हि. स्त्री० ) जुए के नोचेको नकड़ो मचेगे। । १४ नोह, मनोरा । १५ घोटक, घोड़ा। १६ मद्य तरवाई मिवाई ( हि स्त्री. पहाड़ और घाटो, ॐ चो विशेष, एक प्रकारको शराब । १० मधुमक्वा । : जमोन और नोची जमीन । नग्नता ( . स्त्री. ) तरल भावे तन्न स्त्रियां टाप । तरवाना (हिं. क्रि० ) १ बेलीका लँगड़ाना । २ तारन ।' १ तरन्नत्व। २ चञ्चन्नता । प्रेरणा करना। करनयन ( म०प०) कन्दावशेष, एक वा वृत्तका वारि। म.प.) तर ममागविवक्षन धाग्र्यात नास। म प्रत्येक चरणम चार नगण होते हैं। मान रनवरतनवार । खग देखो। तलनयनी ( म. सा.) तरल नयन यस्याः, बहुव्रो। तरम । स को० ) त असन् । १ बल । २ वेग । ३ तोर १ चमनाति चंचल ग्व । २ कन्दोभद, एक प्रकारका ' तट। ४ वानर । ५ रोग । तरस ( म० लो० ) त बाहुलकात् अमच । १ माम । तरत्नभाव ( म० पु. १ पतलापन। २ चञ्चन्नता चपट्या , करुणा, रहम ! (त्रि.) तरस अस्ताथं च । नता। ३ वेगयुक्त, तेज। सरकलीचन (म त्रि०) तरल लोचन' यस्य, बहतरमत ( स० ४०. स्त्री० ) तरस इव पाचरति तरम् क्विय :: वो.। १ मञ्चन नत्र, जिमको अखि चञ्चल हो। (क्लो०)। शाट । मृगभेट. एक प्रकारका हिरण । तरत्न लोचन, कम धा० । २ चञ्चननत्र, चनायमान तरसना (Eि क्रि० ) प्रभावका दुःख सहना । अखि। तरमान ( म पु० ) तरत्यनेन तृ-पानच, सुट् च । नौका, तग्नलोचना (म० स्त्रो०) तरल लोचन यस्याः, बहुव्रो० । नाव। चञ्चलनयना स्त्रो, वह औरत जिमको ऑखें चञ्चल हों। तरसाना (हि. क्रि०) १ अभावका दुःख देना। २ व्यर्थ तरना (म' यो०) तरन्न-टाप.। १ यवागू, जौका मोड़। ललचाना । २ सूरा मदिग, शराब।३ कानिक। ४ मधुमक्षिका,तरस्थान (म.ली.) तगय अवसरणाय यत् स्थान राष्ट्रको सको। तरस्य स्थान वा। १ घट्ट, घाट । २ वह स्थान जहाँ तरम्ना ! हि पु० ) छाजनके नोचेका बोम। उत्तगई ली जाती है। तरलाई । दि. मत्रो० ) १ चञ्चम्नता. चपन्नता । २ द्रवत्व । तरवत् (स'• वि. ) तगेवसं वेगो वा प्रस्त्यस्येति मतुप. तरलित ( स त्रि. ) तरलमस्य मनात तारकादित्वादि- मस्य वः । १ शूर, वीर, बहादुर। २ वेगयुक्ता, तेज । तच यहा तरल इव दरति सरल करोति तरल-क्लिप ३ चतुर्थ मनुके एक पुत्र का नाम । णिच.-। कम्मित, क पता हुषा, थर थराता हुषा । इसके तरस्थिन् (स.नि.) सरी वेग: वसं वास्वस्य तरस -