पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/३८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


सबके वर्तमान दर्पण-ताडितमान यच ( Mirror. इंग्लंगड में लण्डन हम को ग्रेटवेष्टन रवमें galvanometer) के समान था। . मबसे पहले टेलि लगा था । इन टेलिग्राफोंके ____ उपरोक्त वैज्ञानिकों के अनुरोध करने पर मिउनिक तागेको अपरिक पदार्थ से मण्डित कर मटोके नोचे वासो अध्यापक मि०टाइन-हिल (Mr.Stein LIcel -ने गाड़ा जाता - परन्तु पोछे इसमें खर्च पधिक होनसे इस विषय में बहुत परोक्षाएं कीं और यथेष्ट उवति भो काठको खयां पर लगाया गया । एक कॉटेके यन्त्रमे को। बहुत परिश्रमके बाद आपने १८३७ ई में एक एक त और दो काँटों के यात्रा दो तार लगा कर टेलिग्राफ बनाया और उसी वर्ष उमे (iottonven टेलिगका यवहार होने लगा। इसके बाद इस्टष्टोन Academy of Sci:Incis सभामे मबको दिखाया। मान इमको बहुत कुछ उन्नति को थो। अच ताडि वार्तावह वा टेलिग्राफ-यन्त्र के भूततत्त्व, इन्हों ने सबसे पहले ताड़ितप्रवाह के प्रत्यवत नके लिए। . को गठन और कार्य प्रगानो का विवरण लिखा जाता दूसरा तार न रख कर एक हो तारके दो छोगेगी दी। ष्टं शनों में जमोनमें गाड़ कर एक हो तारमे वाद ___ताडितकोष व बेटरी --मम्पति जितने भो प्रकारके भेजनेको प्रथाका आविष्कार किया था। इस सम| 7 टेलिग्राफ प्रचलित हैं, मत्र प्रवाह ताडित हारा सम्पन दो कम्पासक कांटकि हनन जनित दी मूल भङ्ग । ' गो होते हैं चोम्बकोय ताहितको टेलिग्राफमें नियोजित के म मिश्रणमे मम्प ण वर्गमाला प्रकट को जा वाह । करने के लिए तहत कोशिश को गई थो, पर उममें खर्च ये दोनों कॉट, एक धन और दूमरो ऋणना को गति अधिक पाने तयारी हारा, एक हो तरफ झुक आते थे। कभी "गात अाधक पहन तथा दिक्कत होने के कारमा उनका मा को देख कर और कभी टेमे एक कार बिन्द नहीं हो मका। अङ्कित कर अक्षा मूचित होते थे। * ताड़ित वार्तावह के लिए अब नाना देशाम मामा नन्न रहता था। प्रकारकै ताहित-कोष प्रचलित है। कुछ समय पहले काटेके अग्रभागमें भूचो वा ममो-पूर्ण । "बिन्दयाको दो , डानियन माहबका तडित कोष व्यवहृत होता था। कॉट क्रमशः हट जाने थे और 'यो चुम्बक से उत्पन्न । अब अधिकांश स्थानमि उमक बदन 'बाइक्रमेट बैटरो' थेगो अङ्कित हो जाती थीं। .. .म्पन्न होतो थी। काममें अ.तो है। दम देशम, टेलिग्राफ आफिीम ताडितके द्वारा यह ताडितरचालक सूत्राटि मण्डित । मिनोटो का ( \finot too's ) ताडितकोष व्यवहत होता ताँबेका तार लपेट कर सम्बकत्व आ जाता है, और हित करनसे, उसले तार-टेलिग्राफका तार साधारणतः लोह-निमित 7 उमका चुम्बकत्व नष्ट हो और जस्ते हाग मगिड़त होता है । कहों कहौं विशेष ताड़ित खात बन्दय चम्बककै आकर्षणमे प्राकष्ट सभाति के लिए तॉबका तार भी व्यवहत होता है। यह जाता है। एक चोट मार कर मङ्गत करनेको तार काष्ठ वा धातुके म्तम्भी पर लगो हुई चोनामटोको करके, एक एक: यही मोम साहब के टेलिग्राफका अपरिचालक टविया में बांध कर ले जाना पड़ता है। ये प्रथा उसाइटष्टोन साहबने इस उपायसे घण्टा टोपियां इतनो सफाई मे बनाई जातो हैं कि वर्षा होने मूल समाफ करनेसे पहले, वहां के कर्मचारोको पा भी इमका कुछ अश बना रहता है और नमलिए बजा उपय निकाला था। ताड़ितप्रवाह तारसे निकल कर स्तम्भों में नहीं जाता। में मट प्रथम तीन देशाम टेलिग्राफ व्यव- आजकन प्रायः मभी स्थानों में खंभों पर तार जाता है। स्थाति हुआ। मिउनिकों ष्टाइनशिल कहीं कहीं, जहां बाहरमें विपदको पायका अधिक है, मेरिका मोस माहब का ओर मण्डमें। जमोन के भीतरमे तार लगा है। इस तार पर गुटापाई, पौर साहबका टेलिग्राफ प्रचखित इपा। कुक, रबर भादि भपरिचालक वस्तएँ चढी रहतो में ___एक लौह-दण्ड के जपाडलो ताडित-स्रोत प्रवा- है।