पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/३९७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वायव्य-ताता ३९५ तात्रय म. पु. ) तगड मुनेर गर्गादि यत्र : लिया था। बाबावखाम जमशेदजीने नाममारीम' १ सम्डि मुनिक वगज । २ सारवेदको एक ब्राह्मएका हो प्रारम्भिक शिक्षा पाई थी पौर वहीं धर्म ग्रन्धोका माम। पढ़ना सीखा था। उस समय ये शिकार खेलना बहुत सात (म. पु. ) तनाति विस्तारयति गोवादिक तन्ता पमन्द करते थे। पर शास्त्र में इन्होंने विशेष व्युत्पत्ति दीर्घश्च (द्युतनिभ्यां दीघश्व उण । ३.९०) अनुदात्तति तनेगा लाभ को थी। इसके बाद १८५२९ में ये उच्च शिक्षा लोपः । १ पिता । २ खेहास्पद अल्पवयस्को प्रति सम्बो. प्रान करने के लिए बम्बई भेजे गये। उम वरण इनको धनमें व्यवहत शब्द, प्यारका एक शब्द या संबोधन जो उमर १० वर्षको यो। भाई बन्धु, इष्ट मित्र विशेषत: अपनेमे छोटे के लिये बम्बई पहुँच कर तासाने मामो भयो दुनियाँम पर व्यवहत होता है। ३ अनुकम्पा, दया । ( त्रि०) ४ पूज्य, रक्खा । वहां चारों भोर ताता जाति के लोग माना कार्योम पादरयोग्य । मशगूल थे; नयो नयो चिन्तामों पोर नये नये कार्यों को तातगु ( म० पु. ) तातस्य पितरिय गौ वर्वाचक शब्दो यत्र विचित्र धारा प्रवाहित हो रही थी। जमशेदजी बम्बई बहुव्री । १ फिट य, चाचा । (नि.) २ जनकहित, पा कर एलफिन्स्टन स्क ल में भरता हुए। १८५८१ में पिताकी भलाई करनेवाला । इनका विद्याभ्याम मम हत्रा। छात्र-जोवनमें ये विशेष तासजनयित्रो ('म स्त्री. ) तातच जनयत्रो च। पिता कोई लतित्व नहीं दिग्या मके थे। और माता । यह शब्द नित्य हिवचनाम्त है। जमशेदजीके पिता एक मामूलो रोजगार करते थे। ताततुल्य ( म० त्रि०) तातस्य पितुस्तुन्यः ६-सत्। पिताके चीनदेशके साथ उनका बाणिज्य चलता था। साता तुल्य, जो पिताक ममान हो। इमका पर्याय-पिटसम, कालेजसे निकल कर पिताके साथ व्यवसायमें लग गये। मनोजवम्, मनोजव, पिटमविभ और सातल है। अफोमका रोजगार उस समय पार्गमयों के साथ ही सातम ( म०पु० ) तात प्रशम्त यथा तथा नृत्यति तात था। अन्य लोग इस व्यवसाय को कम समझते थे। विशे- नृत् डा रखनन पक्षो, विडरिच । षतः उस समय चीनमें चोजोको आमदनी रपतनीका तातरी (स्त्रिो० ) एक पेडका नाम । विशेष सभोता न था । ताताने पिताके पास रख कर कुक नातन ( स० पु. ) तात नाति ना-क पृषो० पस्य तः। काम मोखा भोर फिर वे होङ कोङ, भेजे गये वर्ग १ रोग। २ पाक, पक्वता। ३ लौहकूट, लोहेका प्रफोमके रोजगारको इन्होंने भली भांति सोख लिया, कॉटा। ४ पिटतुल्य सम्बन्धी। ५ मनोजब, मनके जिससे इनको बाणिज्य बुद्धि खुल गई। समान जिसका बैग हो, अतिवेगवान् । ( त्रि.) ६ इसके कुछ दिन बाद हो, अमेरिकामें अन्तर्विश्व सलमान, गरम। होने के कारण वहाँसे रुई की रफ्तनो बन्द हो गई, फिर साता (जमशेदजो )-भारतवर्ष के गौरव-स्वरूप एक क्या था; बम्बई नगर नईके व्यवसायका केन्द्र हो गया। प्रधान बणिक। इन्होंने हमारे देश के व्यवसाय-बाणिज्यमें साता कम्पनोने प्रसिद्ध प्रेमचन्द रायचन्द के साथ मिल • देशोयोंको प्रतिष्ठा स्थापित को है। आज, इनके द्वारा कर रुईका व्यवसाय प्रारम्भ कर दिया। साता लन्दन स्थापित जमशेदपुर का लोहा कारखाना देख कर जा कर नईके व्यवसाय पर्यवेक्षण करने लगे। १८६५ पृथिवीके प्रायः सभी व्यवसायो पाचर्य करते हैं। . में अमेरिकाका युद्ध सहसा समान हो गया, जिससे . १८३८ में बड़ौदा राज्य के अन्तर्गत नाममारोमें साताको कुछ क्षतिग्रस्त होना पड़ा । लन्दनमें जमशेदजीमे इनका जन्म हुआ था। जिम ममय मुमलमानों प्रत्या- जो बेचने के लिए शाखाएँ खोलो धौं, उ बेच कर चा से घबड़ा कर पारमो लोग भारत पाये थे, उस वे भारत लौट आये। बम्बई में जो उनका कारोबार था, समय नाभसारो पारसो समान का एक प्रधान केन्द्र हो वह किसी तरह कायम रहा। गया था। जमशेदजो ताताने पारसो जानिम ही जन्म ताताकम्पनी पोरे और इस पतिको पूर्ति के लिए Vol. Ix.99