पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/४३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


टीन-टी दुलतान था पोर रस गुपके कारण हो साधारण पाठकों के वे हाथीने शरीर पर लेप करनेको घोषध ।१५ महाजनका पादरणीय थे। एक कागज । इस पर वे कमल ममय व्याजके बदमे में जराग्रस्त हो कर टोण्डालने शेष जीवनमें कुछ शारी- अनाज आदि देने का करार लिया लेते हैं। रिक कष्ट पाया था। उनके वन्धुवग पोर चिकित्सकीने टोपटाप (स्त्रिी .) दिखावट, गठ बाट । सोचा था, म पौड़ासे अध्यापक टोगडालको पब छटः टोधन (हिंस्त्रो०) गांक टाका, पहा । कारा नहीं मिल सकता । परन्तु एक पाकस्मिक कारणले टोपना (हि.क्रि.)१ चापना, मसकना। २लका टोण्डलको मृत्यु हो गई। कुछ दिनोंसे ये माना प्रकारको प्रहार करना; धोरे धोरे ठोशमा। जैसे खरसे गामा, पीडामोसे तकलोफ पा रहे थे ; किन्तु चिकित्सकोके परा- जोरको तान देना। ४ मस्मि कर लेना, दर्ज कर मोना, मर्श मे शारीरिक यन्त्रणादिके मिवारणार्थ नियमित रूपसे लिख लेना। ५ गोफे के खेसमें दो पत्तों से एक पत्ता "भलफट पाव मगनेशियम्" काममें लाते थे और पनिद्रा जोतना । दूर करने के लिए कभी कभी दो एक बूंद 'क्लोरल सोगप' टोपू गार - प्राकटके एक प्रसिद्ध मुमलमान फकोर । पो लिया करते थे। एक दिन टोण्डलको स्त्रीने भूनम इन्हीं के नामानमार मैमरके शामनका प्रसिद्ध टीपू ज्यादा "कोरल पिला दी, जिससे उनको मृत्य को सलमान का नामकरण हुपा था। टीपू सुलतानके पिता गई। इंटरप्रमोनको प्रत्यन्त भक्ति करते थे। पब भी टोप बहुतोका कहना है, कि टोडल ईखरको मत्ता पर शाहको कब पर बहुसमे फकोर पाया करते हैं। कर्णाटी विश्वास न करते थे पोर न उनको ईसाई धर्म पर विशेष भाषणम टोपू शब्दका अर्थ व्याघ्र होता है। हा हो थी। वारवेलमें लिखित "मिराफल" पादिके टीपू सुलतान--मेस रके राजा हैदरपलोक पुत्र । १७४८ विना लेखनी चलानसे पदरी लोग इन्हें ईसाई धर्म का ईमें इनका जन्म हुआ था। जिस समय खरावने विरोधी समझते थे। अक्सफोर्ड की डी० मो० एल० मराठी मेनाको सहायतासे हैदरासीक विरुद्ध युद्ध उपाधि ग्रहण करते समय टोगडलकी आस्तिकताके घोषणा की थी, जिस समय हैदरपलो १०० पखारोहित विषयमें ज़िक उठा था किन्तु कोई आपत्ति कार्य कारो यो के माथ गम्भीर रात्रिमें शव के भयसे भाग गये थे, म हुई । टोण्डलका कहना था कि "उच्छ जल इच्छा- उस समय टोपूको उम कुल ८ वर्षको थी। दरअम्लीके पोका नोतिके बन्धनों हारा दमन करना मनुष्यका प्रधान परिवारवग के साथ टोपू भो महाराष्ट्रों हारा कद कार्य है, एवं पाशत्तिको जो जितना दमन करेंगे, किये गये थे। हैदरअलोक माथ निबटेरा हो आने वे उतने ही पादर्श चारित्रके निकटस्थ होवेंगे।" पर ये छूट गये थे। हैदरअली देखो। टोम ( पु.) १ एक रासायनिक धातु । त्रपु देखो ।२ जिस समय टोपूवो उम्म १७ वर्षको थी, और इंदर के लोह को पतलो चहर जिस पर राँगेको कलई को हुई साथ पंप्रेओका घोर युद्ध चल रहा था, उस समय रहता है।३ लोई को पतलो चहरका बना हुमा बरतन। युवक टोपू साहब सेना सहित मद्राजके चारों तरफ टोप (हि.सो.) १ दबाव, दाब। २ हलका प्रहार। सूट मचा रहे थे। १७८०में मंग्रेजीक हैदरपली विश प्रसधारण जोरको सान। ६ दूध और पानीका गोरा । ७ स्मरण करने पर हैदरअलोने टीपू सुलतानको ५००० पैटन पौर रखने के लिये किसी बातको टाँक लेनेकी क्रिया, नोट। ६००० अखारोहो सेनाके साथ कर्नल बेलोको रोकनके ८ दस्तावेज इंडी, चेक । १० कम्पनी, सेनाका एक लिए भेजा था। ( मेन म्बरको उन्होंने कर्नल बेलो पर भाग। ११ गजीफे का एक खेल । १२ टिप्पन, कुडलो। प्राक्रम'म किया था, उनके प्राक्रमणमे भीत हो कर ११वा लकीर जो बिना पलस्तरको दोवारमें टोंके अंग्रेजसेनानायक इकरने मनरोमे सहायता मांगी बोहोंने नसाला देकर मास बनाई जातो।। १४ ची। उसके बाद दरपली जब महमदपलीको यासित