पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/५१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


तिथियोंकी तालिका। 4 ईखो सन् जनवा फरवरी मार्च अपील जुलाई अगस्त सेप्टेम्बर जन प्रक, .: नवम्बर .: दिसम्बर . - - . १८७१ ८ १९ १० ११ १२ १३ १४ १५ १७ १७ १८ १८ १८७२ २० २२ २१ २२ २३ २४ २५ २६ २८ २८ . . १८७३ १ ३ २ ३ ४ ५ ६ ७ ८ ८ ११ ११ १८७४ १२ १४ १७ १८ २० २० २२ २२ १८७५ २३ २५ २४ २५ २६ २७ २८ २८ १ १ ३ ३ १८७६ ४ ७ ८ ९ १० ११ १२ १३ १४ १८७७ १५ १८ १९ २० २१ २२ २३ १५ २५ १८९८ १८७६ ७ ८ १८८० १८ २० १९ २० २१ ____२२ २३ २४ २५ २६ २८ १८५१ . २ १ २ ३ ४ ५ ६.८ ८ १० १८८२ ११ ११ १२ १३ १४ १५ १६ १७ १८ १९ २१ १८८३ २२ २४ २३, २४ २५ २६ २७ २८ • • २ । १८८४३ ५ ४ ५ ६ ७ ८ ९ १० ११ १३ १३ १८८५ १४ १५ १५ १६ १७ १८ १९ २० २१ २२ २४ २४ १८८४ २५ २७ २६ २७ २८ २८ . १ ३ ३ ५ ५ १८८७ ६ ७ ८ ९ १० ११ १२ १४ १४ १५ १६ १९८८ १७ १८ १८ १८ . २१ २२ २३ २५ २५ २७ २७ १८८८ २८ ० २८ १ २ ३ ४ ५ ८ ८ पास बनता है तथा हमके विवाहमें विधवा, ऋषिवर्ममें जन्माष्टमो रोहिणोयुक्त होने पर उपवासादि करें तथा फलका प्रभाव, विद्या प्रारम्भमें मूख, खो-सङ्गममें गर्भ पहले दिन षष्ठीदण्डामिका पाष्टमी है, किन्तु रोहिणो पात और बाशिन्धमें मूलधनका नाश होता है। इसलिये योग नहीं है, दूसरा दिन यदि रोहिणोयुक्त हो तो उस बरिमान व्यक्ति दग्धा तिथियों में कोई भी शुभवार्य नहीं दिन उपवासादि करें। करते।. यदि जयन्तीयोगके पूर्व दिन उपवास हो पौर दूसरे प्रतिपदासे लेकर परमो तककी अवस्था पहले दिन राति साचप्रहर बीत जाने पर तिधि-मशन दोनोंसे लिखी आ चुकी है। या एक्से विमुक्त हो तो उस दिन सवेरे पारण करें। जन्माष्टमोको पारणविधि-रोहिणीयुक्त षष्टमी होने उपवासके दूसरे दिन तिधि और नक्षत्र अन्तमें पारण पर पारप न करें। पन्यथा पूर्वक्षत कर्म और उपवाम- करें पोर जब महानिमाके पूर्व एकका अवसान और जनित फल नष्ट हो जायंगे । जन्माष्टमौके पारपके लिये पन्थको महानिशामें स्थिति हो, तो एकके पवसान होने या नियम, पन्यान्य व्रतोंके लिए भी ऐसी विधि। पर पारण करें। महानिशा में यदि दोनोको स्थिति हो जिस तिधि और नक्षत्रके योगमें उपवासादि करें, उसमें तो उस दिन सुबह पारण करें। किसो विहानने एमालायम होने तक पारण करना उचित न.। बारह महीनेही रोक्षिणी अष्टमोपने अतो-पहमी