पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/५५३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


विवि . . . सविन । जिनके दांत नहीं। उनके मुख कोमल बाटीको तर कुछ लोम स पमई ठोक पस्थिफलककी भांति एक तरहकी कोमल अखि होती मीर मामा अपरो भागमें एक पुटसे लेकर दो फुट रनको टुण्डो खूब भारी और मोटी होतो है। मछ- तक जालको तरह के पाच्छादनके भीतर चर्षी रहतो है। लियोकी तरह उनके बदन में किलक नहीं होते : नाकक अदाकार तिमिक शरीरको ममस्त चर्बीका परिमाण छेद बहुत बड़ा होता है। ये जलके तृण और जोव ७५० मनसे ज्यादा होता है।सी चर्बीसे रसका शरीर जन्तुभों का पाहार करते हैं। जिनके दांत नहीं होते उष्ण रहता है, पोर उसके शरीरका पापेक्षिक गुरुख अंग्रेज प्राणितत्वविदों ने उनका नाम बलिनिडि कम हो जाता है, जिससे वर जसके अपर तैरा करता ( Balenide' रक्खा है अर्थात् इनके ऊपर चोनामहोको तरह एक हण्ड) जन्मतो है, जिसे अग्रेजोमें Balarn or whale-thone की सोसेरस जातिका नाम- करण हुपा है । दन्तहोन तिमि फिर चार भागों में विभत है। बलिन ( Balaena ) पर्थात् समए'ठ दन्त- बृहत्काय तिमि । दोन तिमि कई मइलोको पीठ के जपरो भागके काटौं पोर इसीसे गहरे जलमें भी उसे जलका भार माल म को सरस एनके छोटे पख या पृष्ठकण्टक नहीं होते, नहीं होता। इनके शोरम की तरहकी कोई होते है। पोठमें जटको तरह कुब्बड़ या सड़की तरह कंधावर यह कोट अनेक प्रकार के होते है, जिनमें तिमिका अँ नहीं होता। उदर (मनुषयों को तोद बढ़ जानेसे जिस नामक एक श्रेणी है जो एनके शरोरमें हो उत्पत्र सर सह दिखलाई देती है उस तरहके ) स्सर नहीं और उनके अपरका शरीर कोर कोर कर खाते हैं। हो। सो श्रेणी में सिमिको पस्थि ( Balaen ) खुब उसके शरीरमें घोघे भो लगे रहते। तिम्यखियोको मोटो और हड़ होती है। यह सिम्यस्थि ठोक दांतों को मख्या और परिमाण देख कर इनके ववस निरूपित को तरह तालुके जपरको कतारमें उत्पन्न होती है। एक एक जातिमें एक पोरके मसूड़े में ३१४ तक तिम्पखि उत्पन होती है। एक एक अस्थिम पत्रकके परतों की तरह १२ तक परत रही। थे तिम्यस्थिया तालुको भाति मध्यरेखासे हो कर समस्त तास को धेरै रहती है। संस्था में अधिक शेनेके कारण तिमिका उस्कुण है। थे खूब धनी उगती है। प्रत्येक अस्थि भोतरकी पोर गई, जिससे इनको परमायु ८००से ८००वर्ष पर्यन्त स्थिर भामयासूम हो कर कोमल कण्डोके काटीको तरह मसू हुई; किन्तु यह प्रान्त विवेचित नहीं होता। के निकट लटकती रहती है। यह सिम्बखि व्यवसाय हम दन्तहीन समपृष्ठ तिमि जातिके फिर देश मेदसे का एक मूल्यवान् उपकरण है। व्यवसायो लोग इसे तिमि कुछ उपभेद है। यथा - कण्टक नामसे पुकारते हैं। इनको निशा कोमल और । | Balaena mysticetus or the Right whale- गलकी नाली बहुत छोटो होतो है, यहां तक कि बड़े से वृत्तिमि-ग्रीनलैण्ड। बर्ड तिमि भो गलेका छिद्र एक पर बड़ा नहीं होता। | Bulaena murginata or the Westeru मस्तक समस्त, देहके नापका तिहाई होगा; माथेके दोनों Australian whale -पथिम पट्रलियादेयोय तिमि । पार्ण समान नहीं होते, दाहिमा भाग वाये भागमे बड़ा प-प्रष्ट्रलिया। होता है। इसका माम रसवर्ण, दृढ़ और खरखुरा होता I Bahreua Australia on the gapo whale, उत्त- बदनमें कांटे वा हिलो नहों, केवल चको पोर माया पन्तरोपका तिमि-समाया अन्तरोप। Vol Ix. 188