पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/५६१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


तिरफमा-विगत तिरफला (हिं. पु.) त्रिफला देखो । तिरस्कर (सं. वि. ) तिरस्कारोति णिच् सन्नोपः तिरयति तिरबो (हिं. स्त्री०) सिन्धु देशमें एक प्रकारको नाव- पाच्छादयति । सिर: करोति छ-ट । पाच्छादक, परदा का नाम। करनेवाला, ढांकनेवाला। तिमिरा (हि. पु) १ कमजोरीके कारण मजरका तिरस्करिन् (म. वि. ) तिरः करोति गिनि । पाच्छा. एक दोष। तीक्षण प्रकाशमें नजरका ने हसना. टक, ढाकनवाला। . चकाचौंध। ३ घी तेल इत्यादिक कौंटे जो पानी तिरस्करिणो (स. स्त्रो०) तिरस्कग्नि मज्ञापूर्व क- दूध तरल पदाथ के ऊपर हैरते दिखाई देते हैं। विधेरनित्यत्वात् वृद्धाभावः तमो कोष । १ पटमय पाच्छा. तिरमिराना (Eि क्रि० ) रोशनीके मामन नजरका न दक पदार्थ , परदा, कन त, भिक । २ ओट, पाड़। ठहरना. चौधना, झपना। ३ मनुष्यको अदृश्य करनेको एक प्रकारको विद्या। तिरवट (हि.पु.) तिल्लानेको जातिका एक प्रकारका तिरस्कगे (जि. पु. ) आच्छादक. परदा। राग। तिरस्कार (सपु० ) तिरम का पत्र । १ अनादर, पप तिरवा ! फा• पु. ) किसो स्थानको उतनी दूरो जहां तक मान । २ भत्स ना, फटकार । ३ अनादरपूर्वक त्याग । एक सोरामके। (वि.' ४ अवज्ञाकारक, अपमान करनेवाला। तिरञ्च (मक्लो.) शय्याधारका तिर्यक अवलम्ब, तिरस्क रिन् (म त्रि तिरम् करोतिक णिनि । १ पाच्छा- चारपाईके सिग्छ पाये। दक, ढांकनेवाला। (पु०) २ पटभेद, कनात, चिक। तिग्यता ( म. वि. ) तिरसीन, तिरका । (त्रि.)३ अवज्ञाकारक, अपमान करनेवाला। तिरश्वथा (स.अध्य०) गुणरूपमे, विपके। तिरस्कृत (स० वि० ) तिरम क-कमणि का।१ पनाहत, तिरविराजि ( स० पु.) पाङ्गिरम वंशके एक ऋषिका जिसका तिरस्कार किया गया हो। २ पाच्छादित, परदे नाम। में छिपा हुआ। ३ अनादरपूर्वक त्याग किया इमा। तिरश्ची (म० स्त्रो०) तिर्यक् आतिः स्त्रियां डोष । १ पशु- (को० । ४ तन्नसारोक्त मन्त्रविशेष, तन्त्रसारका एक पक्षियोंकी स्त्रो, मादा । (पु.) २ पाङ्गिरस वश एक मन्त्र। इसके मध्यम दकार और मस्तक पर दो कवच ऋषिका नाम। . पौर अस्त्र होता है। तिरथीन ( स० लि. ) तिर्य गेव स्वार्थ ख। १ तिर्यग: तिरस्क्रिया ( स. स्त्रो०) तिरस क भावे श।१ अनादर, भूत, तिरछा। २ कुटिल, तिरस्कार । २ पाच्छादन। ३ वस्त्र पहरावा। तिरोनगति (म० स्त्री०) मल्लयुद्धको एक गति, कुश्तोका तिरस्य (स• पु०) तिरम कण्डादित्वात् यक । अन्तर्धान, एक पेंच। गायब। तिरचीननिधन (सलो. ) मामभेद । तिरहुत-यह संस्कृत तोरभुक्ति शब्दका अपमश है। तिचीनपृश्नि ( सवि. ) जिसमें तिरछा दाग दिया १८७४ ई. के शेष तक यह भारतवर्ष के अन्तर्गत गया हो। विहार प्रदेशकै पटना विभागकं सर्वोत्तरवर्ती एक जिला तिरम (सं० अव्य०) नरति दृष्टिपथ-प्रसन् । १ अन्तर्धान, था। बङ्गालके छोटे लाटके प्रधान ऐसा बड़ा और अधिक गायब । २ तिर्यग, तिरछा । ३ तिरस्कार। संख्याविशिष्ट जिला दूमरा नहीं था। इसमें मुजफ्फरपुर, तिरसठ (हि. वि०) १ जिसको मख्या माठसे तीन हाजीपुर, सीतामढ़ी, दरभङ्गा, मधुवनो चौर ताजपुर ये अधिक हो । (५०) २ वह सख्या ओ माठ और सोनके छह उपविभाग लगते थे। उस समय उसके उत्तरमे योगसे बनी हो। नेपालराज्य, उत्तर-पूर्वमें भागलपुर जिला, दक्षिण-पश्चिम- सिरसा (हि. पु. ) एक सरहका पाल जिसका एक में मुजर जिला, दक्षिणम गङ्गानदी, दक्षिण पथिममें सिरा चौड़ा और दूसरा ता हो। सारण जिसा वागण्डक नदी, उत्तर-पश्चिम चम्पारण Vol. 1x. 140 गमा