पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/५९६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५८४ तिम-विम् मेढक; (जलचर- ) मकरादि जन्तु ; ( नभचर-) तियंग्ज (म• वि. ) तियेक जन छ । १ जो पचो रत्या- गोध, बगला, मोर, भ, कौवा, पंचक इत्यादि । दिमे उत्पन हो । (पु.) पक्षो इत्यादिको जाति । तिर्य ग (म० पु. ) नियंग ग, कुटिलगामो पशुपादि, तिग्जन ( स० पु. ) तिर्यक जनः कम धा० । कुटिल, वे पशुपक्षी जिनको चाल टेढो हो। कपटी मनुष्य पादमी।। तिय गतिक्रम (म. पु. ) जन्मतानुसार टिग्वतके पांच तिय जाति ( • स्त्री० ) तिरश्चां जाति ६ तत्। पक्षि- प्रतीचामिमे तोमग प्रतीचार। पवतादिको गुफामों जाति । तथा सरंग आदिमें टेड़ा जाना, जिममे व्रतमें दोष लगे, तिय ग्दिा ( म स्त्रो०)तियं क दिश-विप । उत्तर- तिर्यक -अनिक्रम कहलाता है। ( नल्वार्थसूत्र ३०) दिया। तियगन्तर ( स० लो०) दो द्रश्या के मध्यस्थानका परि- तिर्यग्धार (म पु० ) तिय क ध-पत्र । वक्रधार, जिसका माया। किनारा तेज हो। तिर्यगयम ( स० ली. )तिरयां प्रयन, ६ तत्। १ पशु- तिर्यग्नामा (म० स्त्रो०) तिर्यक नामा यस्य, बहुव्रो० । वह पक्षियोंको गति तिर्यक अयन कर्मधा० । २ वक्रगति, जिपकी नाक तिरछी या टेढो हो । टेढो चाल। तिय भागवातिक्रम (म० पु० ) सागारधर्मामृत नामक तिर्य गागत (म त्रि.) तिर्यक वक्रभावेन आगतः। जैन ग्रन्थमें वर्णित अतोचार-भेद । जो वक्रभावसे आता हो। तियग्यवोदर (म. क्लो० ) जोका दाना (Barley corn) तिर्यगोक्ष (म त्रि.) तिर्यक ई-पच । वक्रमावसे तिर्यग्यान (म. क्लो.) तिर्यक यान यस्य, बहनो। देखना, जो तिरको नजरमे देखता हो। कुलोर. केकड़ा। तिर्यगोश (म. पु. कृष्णका एक नाम । तिर्य ग्योन ( स० पु.) शुकमारिकादि पक्षो-जाति, नोता तिर्यगेकादश - जनमतानुसार ग्यारह तिर्यक प्रतियो का और मेमा पक्षीको जाति । माम । तिर्यञ्चगति आदि २, एकेन्द्रियादि जाति ४, प्राताप तियग्योनि ( स० स्त्री०) पशुपक्ष्यादि तियक जाति। उहोत, स्थावर, सूक्ष्म भोर माधारण --ये ११ तिर्यक प्रक- गृहस्थ यदि ब्रह्मचारियोंका वेश धारणा कर भिक्षादि तियां हैं। इनका उदय तिर्यश्चगतिमें ही होता है; इसौमे हारा जीविका निर्वाह करें, तो वे तियग्योनिको प्राप्त 'तिर्यगेकादश' ऐमा पड़ा है। होते हैं। पशु, पक्षी, मृग, सरीसृप और स्थावर इन्हीं (गोम्मटसार कर्मकांड ४१. ) देखो। पांच भागोंमें तिय क योनि विभक्त है। तियग्ग (म' त्रि.), नियंक. गच्छति तिय क -गम-ड। तिर्यग्योन्यन्वय (म पु०) तिय क योनोनां अन्वयः ६ तत् । कुटिलगामी, जिसको गति टेढ़ी हो। पशुपक्ष्यादि जाति। तियग्गन (म' नि०) तिर्यक वक्रभावेन गतः । वक्रगामो। तिग्विड ( स० वि० ) सिय क भावन विवः । सुश्रुतोर लियम्गति (सं० स्त्री०) निरचा गतिः, कर्मधा० । १ वक्र- एक प्रकारका शिरावध । तिय क (वा)-भावसे रदन, गति, तिरछी या टेढ़ी चाल। कम वश पशु-योनि-प्राप्त । पात होनेसे यदि ममस्त अङ्ग कट जॉय, केवल थे तिर्यश्चगति देखो। (त्रि.)२ तियं क गति यस्य । ३ वक्र- बच रहे तो उसे तिर्यक विद्ध कहते हैं। यह अन्तर्धान, गमन शोन्न, जिसको चाल टेढी हो। अत्यन्त दूषणीय है । (सुश्रुत चिकि० ८अ०)२ तिर्य म्गम (म को ) तिर्यक गम गमन । वक्रगमन, भावसे विद्ध किया गया हो। टेढो चान। सियङ नास ( स० पु० ) वह जिसको नाक टेढ़ी हो। लियम्गमन (स० क्लो०) तिर्यक गम्-न्युट । १ ३ गमन, तिर्यच् (१० पु. ) तिरो पञ्चति-तिरम अञ्चक्लिप . तिरमः टेढी चाल (त्रि. ) तिय क गमनं यस्य। २ वक। सिरि प्रादेशः पञ्चेनं लोपश्च । विहङ्ग प्रभृति, पक्षो ३गतिशील वायु। इत्यादि । पाप करने पर मनुष्य पच्ची-योनिमें जन्म लेता