पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/६२०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६०८ तिलगाना तिलपन पाच्छादन पोर पञ्चरत्नी मे सुगोभित करते हैं। बाद तिलपेत्र म• पु०) निकलम्तिलः तिल-पैन । १ निस्कन मन्त्रपूत कर दान किया जाता है। तिमधेनु दान करनेसे तिम्स, बंझा तिनका गाकर संततिल, सफेद तिल। सब कामना मिह होतो है, उसमें कुछ भी सहेज नौं। तिलस्टा ( पु.) चौपायों का एक रोग। रममें गलेक तिलनामा ( म स्त्रो० ) एक प्रकारका धान । भीतरके मामक बढ़ जानसे वे कुछ खा-पी नहीं सकते। सिम्सनालभूति ( म खो०) तिलका क्षार। तिलको तिलघर (#िपु० ) एक प्रकारका पक्षो। . गव। तिमभार (सं• पु०) देशमेद, एक देशका नाम जिसका तिलनी ( म स्त्रो०) धान्य विशेष, एक प्रकारका धान: विवरण महाभारतमें पाया है। तिलहोखिो ) rate गडमें पगे हर सिनोका तिलभाविनी (मस्त्रो०) सिल' भावयति तिसम-णिनि कतग। | स्त्रियां डोप । तेलभाविनी, चमेलीका पेड़। तिनपपड़ी (हिं. स्त्रो. ) तिलपट्टी दे। । तिलभुना (हि. पु.) तिलकुट । तिलपर्ण ( पु.) तिलय व पर्ण मसा।। धौवेष्ट .. तिम्नभृष्ट ( म० लो०) सिलेन भृष्ट तत्। तिल हाग मरलका गोंद। (को०.२ ग्लचन्दन। ३ तिला भर्जित, सिल के साथ भूना या पकाया इमा । माभारत पेड़का पत्ता। लिखा है कि तिल के साथ भुनी हुई वस्तु का खाना तिलपणिका (म० स्त्रो.) तिलपणे स्वार्थ का टाप च निषित है। स्मृतियों में तिल मिना इचा पदार्थ बिमा रत्राचन्दन । देवापित किए खाना वनित है। . तिलपर्णी ( म स्त्रो.) तिलस्येव पपोन्यमाः डोष । तिलभेद (H• पु०) खाखस, पोस्त का दाना । तिसंपर्षी नदो पाकरोऽस्य पाा पनि अच डीच । १ रता- तिलमय ( म. वि. ) निम्नस्य विकारः प्रमजायां भयट् । तिलका विकार । चन्दन । नदीविशेष, एक नढोका नाम । निम्नपिञ्चट ( म' लो० ) तिलस्य पिष्टक पृषोदरादित्वात तिनमयूर (म. पु. स्त्री.) तिमपुष्पचिहित: मयरः मध्यलो.मयरभेद, एक प्रकारका मोर जिमके शरीर पर माधुः । तिबपिष्टक, तिलो को पोठो । तिलके ग्मान काले चिहोते हैं। तिमविश्व( पु.) निष्फनस्तिने तिल-विन। निष्फल निमावडो खिो .) एक प्रकारको पाम जो तिम्लच, व तिलका पौधा जिसमें फलफल नहीं लगत, दक्षिणमै विनारो और करन लमें होती है। बझा तिनका पेड़। तिम्लमिल (Eि बो.) चकाचौध, तिरमिरास्ट । तिलपिगडो ( म. स्त्रो.) तिलकल्क, तिलका चूर्ण । तिलमिलाना (हि.क्रि.) तिरमिराना देखो। तिमपिटक (सं.को.) तिलस्य पिष्टक तत् । सिल- तिलमित्र (म.वि.) सिजन मिश्रः २-तत्। जिसमें 'पञ्चट, तिलों को पोठी । इसका पर्याय पलल है। गुष- तिल मिला हो। यह बलकत्. वृच, वातघ्न, कफ, पित्त, हरण, गुरु. निलमोदक ! स० क्ली• ) सिनोका बड, तिलवा। . . विन्ध, मृत्राधिक्यकारक पौर निवर्तक है। तिम्लरस (म.पु.) तिलस्य रसः ६ तत् । तिलका तेल । तिलपोड (स.पु.) तिल पीड़यति पौड़-पच । सेलिक, भिलरा (हि.पु.) कसेरेको एक छेनो जिससे वे टेढ़ो तेली। लकीर बनाते हैं। तिलपुष्प (मलो. ) तिलस्य पुष्य-तत्। १ तिलका तिलवट (हि. पु. ) तिलपहो, तिलपपड़ो। ' फल २ व्याघ्रनखल, बघनखी। तिलवन (खिो०) जंगलों पोर बगोचो में मिलनेवाला तिलपुष्पक (स. पु.) तिलस्य व पुष्षमस्य का । १ विभो- एक पौधा। बमके दो मेट १-एक सफेद फ खका, तकहाच, बहेड़ा । २ तिलका फल । ३ नामिका, माक। दूसरा नीलापन लिये पोले फ सका । मके बीज, फल रमको रुपमा सिम्लके फनमेहो जातो है । समलिये नाक- पाटि रवाके वाममें पति रामसे गरम और वामगुल्म को तिलपुपका गया है। .. पादि जाति रही।