पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/६२७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


तिथना ( फा• पु. ) तामा. मिहना। तिसरायत ( सी.) तोसरा होनेका भाव। तिह (स.नि.) पवस्थान करो, ठहरों, रहो। तिसटेत (..) मधला। २ तीसरे हिस्से का सिहदगु (सं• पु. ) तिष्ठन्त्यो गावो यस्मिन् काले तिष्ठदगु मालिक। प्रभृतित्वात् निपातनात् अव्ययोभावः । दोहन काल, वह सिसका (म• सो० ) विभावे कन् तिस पादेशः । तिस- ममय अब गायें अपने खूटे पर चर कर पा जातो है भावे संज्ञायाँ कम्नुपसंख्यान । मा ORARE | पामभद, एक संध्या, शाम । गांवका नाम। तिष्ठद्गुप्रभृति (सलो०) पाणियुक्त गणविशेष, पाणिनि तिमधन्य (स' को०) तिमभिरिभितं धन्य धनुः वैदिक के एक गणका माम । अध्ययोभाव समासमें निपातप्रयुक प्रयोगे पच समासान्तः पविभवावपि वेद विसादयः । तिष्टदगुः प्रभृति कई एक शब्द सिह होते, यथा- वह धनुष जिममें सोन वाय लगे हो। तिष्ठदगु, वहदगु, पायतोगव, खलेयव, खलेबुस, लुनः तिस्रा ( स्त्री०) शपुष्यो। यव, पूतयव. पूयमानयव, संतयव, संप्रमाणयध, तिस्म (.हि. पु. ) पीक राजाकं सगे भारका नाम । महत स, समभुम, समपदाति, सयम, विषम, दुःसम, तिहत्तर (हि. वि०) १ जिसको संस्था सत्तरसे सोन नियम, अपसम, प्रायतीसम, प्रौढ़, पापमम, पुण्यमम, अधिक हो। (पु०) २ वा संस्था जो सत्तर पौर तोमके माझ, परथ, प्रमग, प्रदक्षिण, पपरदक्षिण, सम्पति और योगसे बनी हो। असम्प्रति । ( पाणिनि ) . . .तिमहा (हिं. पु० ) वा स्थान जहा तोन मोमा मिलती तिष्ठहोम (म त्रि० ) तिष्ठता होमो यच । यजतिरूप हो। यागभेद। रस यागमें वषट कार मन्बहारा होम करना सिहन (म पु०) तह पद ने कमिन् निपातनात् साधु । पड़ता है। १व्याधि, रोग, पोड़ा। बीषि, धान। धनु, धनुष । तिष्ठा (म. स्त्रो०) तिस्ता नामको नदी । यह हिमालय ४ सद्भाव । पर्वतके पाममे निकल कर नवाबगजके पास गंगामें तिहरा (fr'. वि०) १ तेहरा देखो । (जी.)२ महीका जा मिली है। बरतन जिसमें दही जमाया जाता है। तिथ (म. पु०) तुष्यत्यस्मिन् तष-क्यप निपातनात तिहरामा (हिं० कि. ) तीन बार करना। साधुः । १ पुष्य नक्षत्र । (क्लो) विष -दीप्तो पनादि तिहरो (हि स्त्री० ) १ तोन बड़ोको माला। दूध खात् य क निपा० माधुः । २ कलियुग। तिनतन- जमानेका महोका बरतन । (वि.) तिहरा देगे। .. मस्तास्य पौर्णमास्यां पच । ३ पोषमास । पुष्यानक्षत्र में सिझवार (हि.पु. ) त्योहार, पर्वका दिन। . . पोषमासको पूर्णिमा होतो है। (वि० ) तिथे नक्षत्रे तिहवारो (हि. खो. ) त्योहारी देखो। . . जातः पण तस्य लुक । ४ पुप्यानक्षवजात, जो पुष्यः तिहाई (हि. पु.) १ बतोयांग, तीसरा हिस्सा । (बी.) मचत्र में उत्पबहो। ५ मानल्य, कल्याणकारी। २ खेतको जपज, फमल। तिष्थक ( स. पु. ) तिष्थ एव स्वार्थ कन। पौषमास। तिहानी (हि. स्त्रो० ) चूड़ो बनाने के काममें पाने- तिष्यपुष्या (स. स्ती.) तिष माग्य स यस्याः, वालो एक प्रकारको लकड़ो। यह एक बालित बी बहुवो। पामलकी, पांवला। और तीन पगुल चौड़ी होती है। तिष्यफला (स' स्रो०)तिय फल यस्याः, बहती। तिहायत (हिं० पु. ) तिसरत, मध्यस। . पामसको। तिहाली (हि.स्त्री० ) एक प्रकारको कपासकी. बौड़ी। तिथा (मो .) तिष्य मंगल देत नास्त्यस्याः अच् । तिहया (हिं. पु. ) वतीयांश, तीसरा भाग । । पामलकोच, पविलेका पड़। तोकुर (हिं. पु०.) खेतको जपजको बँटाई। इसमें तिसपुर (हि.सी.) तिसङ्कट देखो। ।। . तिहाईपंच जमींदार पौर दो-तिहाई ग्यास लेता।