पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७२३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


तूफानोरान भूकवरत्वादि दुटमा यो रतिक्षा असतो असित मारिय म कतामा जोगवा बलवा तूफानके विषम त्यातीय (सी) लोय एवोदादित्वात् मा १ जल, सामने बहुत कनिमो जाती। इस तूफानप्रायः पामो चित्र, तिजो। । २०वाज और ७००. मनुष नष्ट हुए थे। ... तया(ो ..) बालो सरसों। ... - मेघना नदी मुहानाखित सनीय, साहबाजपुर, तस• वि.) तूर-बत्तरि:लिका १ गिल का हतियों अधति धान्यदेव तथा नारियलसे मुशोभित समो (क)ग दी। ..... . . . . रोपको भी तूफानसे अनेक बार हानि पहुंचो यो विशेष तूर(सं.सो.) पूर्वन मुक्त पण। १ वावरील एक जली बहुत र पसिनास लिये जो हानि प्रकारचा बाजा, मगारा। २. हरी नामका वाम itक्ला तूफानसे वायुराशिव पसाधारशा तुरही। भाव बोर भावाशको लालिमा हारा वाके पश्यिामो सूर (जि .) १ मा बरोबो समीकमय पहले ही तूफान भागमन मातम कर सकतेः सम्बो एक-सवाड़ोसमें तानो कपटी जाती किन्तु १८७०को सवी पास घरको तूफान सासा होने सिरों पर ले घरपोर चारको लपेटको उचरकी पोर पाया। दूसरे दिन पर्थात् पहली बार पलियाला । २ जनानी पासको वारी पोर पोर को बहुत विगी बहने लगा।' चार बहुत ऊंचा 3 एकरो। यह हवा परदा बड़ जानिपातो.। पाया। इसके बाद पचिम दक्षिण कोनसे भारी-तूफान पर।". पा जानिये १३ १४ पुस्तक सागरतरा बढ़ गई। ४ बजे तूरत ( ) एक प्रकारका परी ....... तक जल बढ़ता सा, पौरि धीरे धोरे घटने लगा, इसमें तूरबा ( पु.) एका चिलियाका नाम... प्राय १६५०० मनुष्यों के प्राण गये थे। . . तान (का.पु) पारसोत्तर मि एमिया.. तूफानो ( फा०वि०) १ अधमो, उपद्रवी, बड़ा धरने का सारा भाग। यह तु तातामा वाला, फमादो। २ मा बाला लगानवाला, तोहमत जातियोवा निवास स्थान है। . . जोड़नेवाला । ३ उप, प्रचण। . रान पर्थात् पारखदेसके उत्तर घोरतापूर्वक तूबर (म. पु०-खो.) तु-क्षिप् तू व वस्या पर वा पर पखित 'मधएपियाके समस्त देवको पारो लोग • पृषी पखव। १ पजातमा पप, विना मोगवा पेस, 'तराम' कहते हैं। जिस तरह हिन्दू, पार्य और को इंडा पैसा २ दाढीमूहका मनुष। पथा पुरुष. ये दो शब्द व्यवहार करते है, उसी तरह पारसो रेखा, का लक्ष। ४ कवाय रस. कसैला रस। (वि.) पोर तराम' करत है। पूरा देश सोमोसो तरको बवायरसया, जिसमें कसेला रसो। तुमकूर-तुमकूर देखो।

पाचात्य जातित्वविद कुभीरमा मत मारे.

तूमड़ी (हि.सी.) १ तूंबो। २ मपरीव बजानेका तूंजो- बीय(जाफतवंशीय) जातिका मानि मासस्वामी का बना हुषा एक प्रकारका बाजा। सोडले पन्तर्गत पसाब पर्वत पर. वा. यावे हम-तड़ाका (फा. सो.) १क भड़क, पान शोकात, उत्तर पौर मा एशिया तथा गङ्गा नदीको उत्तरप्रदेश पाम बान। २ बनावट, उसका तक जा बसे। बत्तमान समयो तामी सगला, तूमंना Eि) १ का गासे सटे हुए रेयोको कोन भादि जातिया रसो बड़ो नरामी कातिको पाला बाछ पसा पसग वारना, उधेड़ना। २ धब्बो धज्जो कालाती करना। सारे मसलना. मसना दमना। रहस्य प्रागैतिहासिक कालसे एक कबीर जाति गों पोशनाणेस बोलना पातको रुपमा। . रिमालले ले कर लटाय तबजोशात् पर्कनमायाको हमार (प.पु.माया निशाRATing पक्षियका प्रदेशम बास करतो कोवा प्राचीन समय..