पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मोक twar मगोकर सजी) गोधन द्रत्वात् । १ वि द्वता (संजी.)यमिक सामवे ताय- 11 कोल, विपवालो। २ वषीका, एक प्रकारको ओंक। चाप, कमान २ बरख गया भाव। . . . . . तखगौर (सं.की.) सुगम द्रव्यमद, एक सुगन्धित पदुर (सं. पु.) बड़वादि। . ..' : घास, शेषिस धाम। हषम (सं..पु.) तमिव द्रुमः पसारत्वात् । १ हृणपन्धि ( स० बी० बायामिव प्रन्ययस्य । स्वर्ण जीवन्तो नारिकेस, नारियन्स । २ तास, ताड़का पेड़।। गुमाया सुपागे।४ तासो, एक प्रकारका छोटा ताड़ासको। वग्राही (सं.पु.) वर्ष गति तण-ग्रह-विनि रबर, बजारका पेड़। ७हिन्ताल। सो निर्बासी मणिविशेष, एक रसका माम, मोलमणि । पर्याय-शूकाः पुन्छयह शीतल, सा, मोहन, बनवारक या बच्चा पूल बरमपि। और सन्तापनाशक तृणाचर (#'. पु० ) वणेषु चरति चर-पच ।। गोमेद बाधान्य (सं• लो०). वनबाबुलं धान्य। - मधि। (वि.) २ वणचारिमात्र, तण चरनेवाला। विशिष, तिजोका धान । २ सिबोका चावल । सवा । हपजनन् (वि० ) वृग जम्भो भई यख। जम्मा- वमन ( पु.) १ भ्रश, बांस । २ तासनताका सुहरिवतृणसोमेभ्यः । पा ४१२५ । रति. निपात पैड। मात् माधुः। १ भक्षक. घास चरनेवासा। तप- हनिम्ब (म.पु.) वृखाकार: निम्ब: मंपासनिम्म, मिव जम्भो दणी यम्य । २ वष तुख दन्तयत, जिम- चिरायता। केहोस.पासके रंगसेहो। . तपए ( पु.) तपाति पा-क। मन्धर्व मेह, एक जलाय का (. श्री. बाबारा जाता वा गन्धर्व का नाम । जलाय का। जलौकामद, एक पकारको जोक। पचमूल ( को०) तपस्या पक्षाणां मूलपक्षा- । बणजालका (सं. स्त्री०) जलौकामद, एक प्रकारको विशिष्ट पाचन। कुप, काम, घर, दर्भ, पर ये पाँच दरपणमूल । शालि, पशु, कुम, गर और काम के ढणजलोका (स.पु.) जलौकाविशेष, एक प्रकारकी भौ पाँचवपक। नक मूलके गुण-याक्खा , जोक। दार, पित्त, पक्षक और मुखमाशक है। वृगजलीकान्याय (#. पु.) यजमोका समान । बणपति (स.पु. ) राजधास, काला कपूर। नयायिक लोग इस वाक्यका प्रयोग तभी करते है, जब तरपत्रिका (सं. स्त्री.) तणस्येव पचमस्वस्खा: इन उन्हें पारमा एक शरीर छोड़ कर दूसरे शरीरमै जाने टाप । प्रदर्भय, एक प्रकारको घास । का दृष्टान देना होता है। जिस प्रकार जोक जल- तणपत्रो (सं. स्त्री० ) तणमिव पनमस्खा डोषः। में बहते हुए तिमकेके पप्रभाग तक पहुंच कर जब पत्रिका, एक प्रकारको पास । ढूंसरा तिनका पका लेती है तब पालेको छोड़ देतो है, वषपदी (सं. स्त्रो.). तपस्येव पादोऽस्या पसोपा उसो प्रकार पारमा जब दूसरे शरीर में जातोपो . डोषि पचावः । ततुल्य मूलबुता सता. या सता को परिव्याग कर देती है। जिसकी जड़ धासको जैसी होती . . तणजाति (म• स्त्री.) णमेव जातिः। सपादि वषपावि (• पु०) धिमक, एका ऋषिका नाम । .. तपपोड़ ( को०) वयस्येव पोल बा। बुद्धभेद, तणजोबन ( स० वि०) पेन जोवति जीवन-द। एक प्रकारकी लड़ाई। जो प्राणी पास खाकर जीवन धारक करते पुष (स.की.) असा पुष्पमिव । १ मा नयोतिष (सं० लो• ) वर्ष मध्ये ज्योति कोहि । र अग्विपर्णी, गठिबना .' ज्यमतः। तिमती लता। " it . बरपाधिका (मो .) सिरपुप्पो काम .