पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/७३५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


यात् । २ पिपायानाथ, प्यासका दूर होना। मिवनवासा वासिका पावित्री या पोल. बचात्र (स'• fo) तान्ति चाहन्-ठया १ को जातिकाता। बोर भवारसा यार पानी । र तृणानायक, जिससे वणा जातो सती हो। चोर चोदने काममा पोतोटा हणात (संपु.) बचाया श्रतः ३-तत्। पिपासाबुत होता पौर बोतलोतरारमनी मरहम पर भी पयास पिपासाबातर, वह जो प्यास बटपटाता । महोती। याचार पाता। बचारि (सं. पु०) सजायः परिः तत् । १ पर्पट, के भरोसा पोस-होताना रख पित्तपापडां। (वि.) २ बच्चामाशक, प्यास दूर करने बातिक जानवर का रंग वाला। तेंदू( पु.) भारतवर्ष मा पोर पूर्व दणातुर (स'• पु.) वृष्णायाः पातुरः तत्। पिपासा. बहायके पहाड़ों पर काम मेवाखो एकबाका युल वा जिसे प्यास लगोगे। छ। पुराना होने पर रवी शेरको पालो बचालु (स.वि.) बचा पसाचे पातु। ।बवित. विसावाबोहोजातो. बोधाबादी भावना प्यासा। २ सुब्ब, लायची, सोभो। मासने विकतो। रसके पो सम्योती मोकहार, ते (सपा ) १लया, तुमसे। परदुर पौर महुवेक पत्तों की सराव परीस्वीस तेरस (6.वि.) तेईस देखो । कति ।। सका हिसावला होता. पोर पार तेरसा ( वि.) ईसा देगे। चिड़चिड़ाता है।कसी पेडका पानीको तेईस (हि.वि.) जो बीसमे सोग अधिक। (.) तराका पद संगका होता बापान, २ वा संस्था जो बीम और तोगके योगसे बनो हो। तबमकाज पोसा जाता पोरवासपाता तेरेसा (हि.वि.) जो कामसे तरस खान पर है। इसके बारे फरकी गुप-विक पासे . पड़ता हो। मसरोधक, श्रोतक, पति और मातीत्यकार तरा (हि. पु. ) वह साड़ी जो लगायोमें पड़के पी पालकी मुर-भारो, मारवारीबोर पिक नोचे लगी रहता है। खारोग तथा बातमयका एक प्रकारका मन ततालिम (हिं. पु. ) तेंतालीस देगे। बोधिोरपंजाबमें पाया जाता। तेंतालिसा (हि. वि. ) तालीसा देगे। तेग (प.जी.) बार। सेंतालोस (हि. वि.) १ जो गिनतोमें बयालिस एक वेगबहादुर (तेजबहादुर)-विकसदार अधिक हो। (पु.) २ वाया जो चालीस तोन गुरगोविन्दवी पुन । गोविनोन जियो अधिक हो। पुनधि, जिनमें दामोदरी मनोनयन पु र तालोसा (1.वि.) जो काम तालीस खान पर थे और नानकोके गर्भ निगवचादुर। पिताको पोषित पड़ता हो। पवनाम हो मुबलवी बस को वर पाणी तिस (•ि वि.) तीस देगे। . परवाय पर परगोविंदबा बढ़ाया । जी.. तेतिसा (जि. वि. ) तेतीसा देते। राबबोरगोविन्द पपनी गहो दे गये।सपा मानबोने में तीस ( वि.)जो गिनतोम तोसी ज्यादा है। पतिक सामने अपना दुग्य प्रकट किया। मरीसमबर. (पु.) २ या संख्या जो तौस और तोगको योगसे बनी गोविन्द मानबोले गये कि "मविचारी निवार बोलोगही मिखयो। तुम मेरे साव(सबोन) तीमया ( वि.)ोनामसे तोसी खान पर को रख दी। जबकि पुरा होगा, तब देना। पड़ता हो। __गुहाररावी भी दो पुन माय और हर दुषा (हि.पु.) पालीका और एविमान बने मामि किसन रानादारविन बीमाम्बार