पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष नवम भाग.djvu/८५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


FE मा कृपा स्यात् । । घोड़ों की एक चान sama a टूटे फटे रतन में लगी रहतो है। एक प्रकारको मोटो महताबी। छड़ी या लाठोको मामो । ठेकना (M' नि.) १ पात्रा लेना, सहारा लेना। शरी टिकामा रहना ठहरना। ठोक (जि . ठेकवा बाँस (हि. पु.) बंगाल और पासाममें होने- ठोक कर उस पर बाला एक प्रकारका बाँस। यह छाजन तथा चटाई मेवाना (EिOfo) पादिक बनाने के काममें पाता है। पोटना । १ ठोकर मारना. मारमा हैका (हिंपु. ) १ मोठगनेको वस्त, ठेक । र बैठक ४ पेश करना, हासिल करना पडा। तबले में बायो। ४ कोबालो ताल । ५ ठोकर, वडियोजकाइना, काठमें डाल धकाठीका देखो। ७लगाना, जाना। खटखटाना, ठेकाई (हि. स्त्रो०) काले हाधियेको छपाई। ८ थपथपाना, हाथ मारना। . ठेकी (हि.पु.) सहारा, टेक। ठोग (हि.स्वी.) १ चोंच ।२ पापका प्रहार। १ ठेगनो (हिं. स्त्रो. ) वह लकड़ो जिससे सहारा लो | गुलोको ठोकर, खटका। जाती है। मेंगना ( बि)१ चाचसे पाघात पहुंचाना। ठेठ (हि. वि.) १ निपट, बिल्कुन । २ शुद्ध, खालिम । २पंगुलोसे ठोकर मारना। निर्लिम, निर्मल, माफ । ४ साधारण बोली। ५ पारम्भ, ठोठा (हि.पु.) ज्वार, बाजरा और रेखको मुकसान पहुंचानेवाला एक कोड़ा। ठोकचा (हि.पु.) पामकी गुडौंका पावरख । ठे (हिं. स्त्री०) १ घंटोमें समा जाने नायक सोने ठोकना (हिं.क्रि.) मेंकना देखो। चादीका बड़ा टुकड़ा। (पु० ) २ दोपक, चिराग। ठोकर (हि. मो.) १ चलते समय किमो कड़ी वसुसे ठेपो (स्त्रिी० ) वह वस्तु जिमसे शोयो या बोतलका पैरोम चोट लगना. ठेस। २ रास्ते में पड़ा एमा उभरा मरबंद किया जाता है, काग। स्थर । ३र या जूतका भारो पाधान। कड़ा प्रहार, ठेलमा (क्रि .) रेलमा, ढकेलना। ठेसा (हि.पु.) १पाखका पाघात, टबर, धका । धक्का । जूनके सामनेका भाग। कुलोका एक पैच।। वारी (खिो .) वह गाय जिसे बचा दिये कर मनुष्य ढोले जानेकी एक प्रकारको गाड़ौ। ३ छिछली महीने हो हो। ऐसौ गायका दूध गाढ़ा पौर मोग नदियोंमें लम्गोके सहारे चलनेवाली नाव। ४ धबम होता है। धबा, भौडमें एकके जपर एकका गिरना। ठोकवा.(हि.पु. ) नया देखो। ठेलाठेल (हि. स्त्री० ) बहुतसे मनुष्योंका एकके अपर | ठोट ( वि.), मुख, गावदी। दूसरमा गिरना। गेडी (हि.भी.) चिका, हाही, कुनो। ठेस (हि.सी.) पाघात. चोट ठोकर।' दो (हि.सी.) गेडी देखो। ' ठेसना ( वि.) ठूसना देखो। प(हि.०') बिन्दु । ठेसमठेस (हि.क्रि.वि. ) विना वाशी जहाजोका ठमेर ( पु.) एक प्रकारको मिगई। | ठोला ( पु रेशम करनेवासीका एसपीजार, या ठरी (R ) दरवाजोको पोको पसमें गही साडीवो चोवीर शेटी पटरी यम होता । २ | मनुचे, पादमी। Vol.x.