पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/१७९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


षषकपधिर वैधातिरिक्त हिंसामान ही अनिष्टसाधक है, इसमें जरा या सफलताके अवसर पर आनंद प्रकट करनेवाला पचन भी संशय नहीं और न इसमें किसीका मतभेद ही देखा! या संदेसा, मुबारकबाद । ६ किसी सम्बन्धी, इष्ट मित जाता है। दश आदमी मिल कर यदि प्राणिवध करने | आदिके यहां पुत्र होने पर आनन्द प्रकट करनेवाला जांय और उनमें से केवल एक आदमी बध कर डाले तो बचन या संदेशा। ७ आनन्द मंगल, चहल पहल । सभीको समान पाप होता है, वे सबके सब नरक जाते वधाङ्गक ( स० क्लो०) बधः अङ्गमन कप । कारागार। हैं। हन्ता अधिक पापभागी होगा, सो नहीं। बधाना (हि क्रि०) वध करना, दूसरेसे मरवाना। "बहूनामेककार्याणां सर्वेषां शस्त्रधारिणां। बधाया ( हि० पु० ) वधाई। । वधावना (हि.पु.) गधा। देखो। (मन) बधावा ( हि पु० ) १ वधाई। २ उपहार जो संब यदि कहीं पर एक प्राणिबध करनेसे बहतो प्राणीको धियों या इष्टमित्रोंके यहांसे पुत्रजन्म, विवाह आदि रक्षा होती हो तो वह बध पापमें गणनीय नहीं है। । मंगल अवसरों पर आता है । ३ मंगलाचार, आनंद मंगलके अवसरका गाना बजाना। (प्रायश्चित्तवि०). इसके अतिरिक्त जो सुवर्ण चौर, सुरापापी, ब्रह्मघाती, - बधिक (हिं० पु० ) १ बध करनेवाला, मारनेवाला । २ प्राणदण्ड पाये हुएका प्राण निकालनेवाला, जल्लाद । ३ गुरुपलीगामी और आत्मघाती हैं उनका वध भी पाप- व्याध, बहेलिया। जनक नहीं है। बधिया ( हि पु० ) १ वह बैल या और कोई पशु जो माततायि-शन का वध करनेसे पाप नहीं लगता। अंडकोश कुचल या निकाल कर पंड कर दिया गया हो, अग्निदाता, विषदाता, शस्त्रपाणि और धन, क्षेत्र तथा खस्सी, आख्ता । २ एक प्रकारका मीठा गम्ना। दारा इनके अपहरणकारीको आततायी कहते हैं। बधियाना (हिं० कि. ) बधिया करना, बधिया बनाना। बधक ( स० लि. ) बध-क्व न । १ बधकर्ता. बध करने बधिर ( स० त्रि. ) बध्नाति कर्णमिति बन्ध- ( इषिमदि बाला। २ हिंस्रा, हिंसा करनेवाला । (क्ली० ) ३ : मदीति । उण १५२ । इति किरच । श्रवणेन्द्रियरहित, व्याधि । ४ मृत्यु। बहरा। संस्कृत पर्याय पड, कल्ल श्रवणापर, उच्च- बधकृत ( स० वि० ) बध करोति कृ-क्किप तुक् । बध- श्रवा । कुछ व्यक्ति जन्मसे ही बधिर होते हैं और कुछ कर्ता, बध करनेवाला। । अधिक दिन कर्णरोग भुगत कर । इसका लक्षण-- बधगराड़ी (हिं० स्त्री० ) रस्सो बटनेका औजार । ___ “यदा शब्दवहं वायुः श्रोत आवृत्य तिष्ठति । बधान ( स० क्ली० ) बध करणे कनन् । अस्त्र, हथियार । शुद्धः श्लेष्मान्वितो वापि वाधिय तेन जायते ॥, बधना (हिं० कि० ) १ वध करना, हत्या करना । (पु०) : (माधवनि०) महो या धातका टोंटीदार लोहा जिसका व्यवहार जब वायु स्वयं अथवा कफके साथ मिल र अधिकतर मुसलमान करते हैं। ३ चूड़ीवालोंका एक कर्णस्रोतको भावृत करके रोगीकी श्रवणशक्तिको नाम औजार। कर डालती है, तब वाधिर्य उत्पन्न होता है। बालक बधभूमि (सस्त्री० ) वह स्थान जहां अपराधियोंको और वृद्ध व्यक्तिको यह रोग होनेसे असाध्य समझना प्राणदरख दिया जाता है। . : चाहिये । यदि यह बहुत दिन तक बद्धमूल हो, तो सबोंके बधस्थली (स.सो.) वधस्य स्थलो ६तत्। श्मशान। लिये असाध्य है। वाधिदेखो। जो जन्मसेही बधाई (हिं. सी०) १ वद्धि, बढ़ती। २ वह आनन्द बधिर है वह पितृ धनका अधिकारी नहीं हो सकता। मंगल जो पुलजन्म पर किया जाता है। ३ मंगलाचार, | "अनक्लीवपतितो अत्यन्धी परिधो तथा(मनु) जो मंगल अवसरका गाना बजाना । ४ उपहार जो मंगल या क्लीव, पतित, जन्मान्ध और जन्मबधिर हैं वे अनश साविमा जाप । ५ इष्ट मिलले शुभ, मावार अर्थात् अंशभागी नहीं हो सकते । २ सुनावण । Vol. x