पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/१८४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१७८ बनाइ-बनास होती हैं। इसका दूसरा प्रसिद्ध नाम दण्डकला है। कि बनारसका नाम इसी राज्यको नाम पर पड़ा है। बनाइ (हिं० कि० वि०) २ अत्यन्त, नितान्त । २ भलीभाँति, बनारस--वाराणसी देखो। अच्छी तरह। बनारसी (हि. वि०) १ काशी सम्बन्धी, काशीका। २ बनाउ ( हिं० पु०) बनाव देखो। काशीनिवासी। बनाग्नि ( हिं० स्त्री० ) दावानल, दवारि। । बनारी (हि स्त्री० ) एक बालिश्त लंबी और छः वनाम देखो। उँगली चौड़ी लकड़ी जो कोल्हूकी खुदी हुई कमरमें कुछ बनात (हिं० स्त्री० ) एक प्रकारका ऊनी कपड़ा जो कई नीचे लगी रहती है और जिससे नीचे नांदमें रस रंगोंका होता है। गिरता है। बनाती ( हिं० वि० ) १ बमात सम्बन्धी। २ बनातका बनाल ( हिं० पु० ) बदाल देखो। वना हुआ। बनाव (हिं० पु०) १ बनावट, रचना। १ शृङ्गार, बनाना (हिं० क्रि०) १ सृष्टि करना, प्रस्तुत करना, रचना । : सजावट। २ युक्ति, तरकीब, तदबीर । २ एक पदार्थ के रूपको बदल कर दूसरा पदार्थ तैयार बनावट (हि स्त्री० ) १ बनने या बनानेका भाव, गढ़न । करना। ३ रूप परिवर्तन करके काममें आने लायक २ आडम्बर, ऊपरी दिखावा। करना, ऐसे रूपमें पलटाना जिससे वह व्यवहारमें आ बनावटी (हिं० वि०) कृत्रिम, नकली। सके। ४ ठीक दशा या रूपमें लाना। ५ उपार्जित बनावन (हिं० पु० ) कंकड़ियां, मट्टी, छिलके और दूसरे करना, वसूल करना,। ६ अच्छी या उन्नत दशामें पहुं- फालतू पदार्थ जो अन्न आदिको साफ करने पर निकलें, चाना। ७ कोई विशेष पद, मर्यादा या शक्ति आदि विनन । प्रदान करना। ८ दूसरे प्रकारका भाव या सम्बन्ध बनावनहारा (हि पु० ) १ रचयिता, बनानेवाला। २ रखनेवाला कर देना। , उपहास्यास्पद करना, मूर्ख सुधारक, वह जो बिगड़े हुए को बनाए । ठहराना। १० दोष दूर करके ठीक करना। ११ आवि- बनावर -१ महिसुरराज्यके कदूर जिलान्तर्गत एक कार करना, निकलना। १२ समाप्त करना, पूरा भूसम्पत्ति। भूपरिमाण ४६७ वर्गमील है । यहांके अधि- करना वासी प्रायः सभी हिन्दू हैं। बनाफर (हिं० पु० ) क्षत्रियोंकी एक जाति । आल्हा ऊदल २ उक्त सम्पत्तिका प्रधान नगर । जैनाधिकारमें यह इसी जातिके क्षत्रिय थे। स्थान राजधानीरूपमें गिना जाता था। किन्तु अभी एक बनावंत (हिं. पु०) विवाह करनेके विचारसे किसी लड़के ग्राममें परिणत हो गया है। और लड़कीकी जन्मपत्रियोंका मिलान । बनास राजपूतानेके अन्तर्गत एक नदी। यह उदयपुरके बनाम ( फा० अव्य० ) किसीके प्रति, नाम पर, नामसे। प्राचीन कमलमेरु दुर्ग के निकटवत्तीं अरावली शिखरसे इस शब्दका प्रयोग अकसर अदालती कार्रवाइयोंमें वादी निकल कर दक्षिण गोगण्डाको अधित्यका भूमि होती हुई और प्रतिवादीके नामोंके बीचमें होता है। यह वादोके बह गई है। समतलक्ष में इस नदीके ऊपर रथद्वार नामके पीछे और प्रतिवादीके नामके पहले रखा नामक वैष्णवतीर्थ है। जाता है। बनास-छोटानागपुर जिलेकी एक नदी। यह चङ्ग- बनाय ( हि क्रि० वि०) १ बिलकुल, पूर्णतया । २ अच्छी भाकर और कोरिया सामान्त राज्यके मध्यवती पव त- तरहसे। । मालासे निकल कर रेवाराज्यमें जा गिरी है। इस नदी- बनार (हि. पु०) १ चाकसू नामक ओषधिका वृक्ष । २ के पार्यत्य गर्भ में अनेक प्रपात हैं। कासमर्द, काला फसौंदा। ३ एक प्राचीन राज्य, जो बनास-शाहाबाद जिलेके अन्तर्गत एक नदी, शोण नदी वर्तमान काशीको उत्तरी सीमा पर था। कहते हैं. को एक शाखा। यह पूर्व की ओर गङ्गामें आ मिली है।