पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२०६८ बरोह पर्शन बरोह (हि० स्त्री०) बरगदको जटा जो नीचेकी ओर बढ़ती। वर्कत (हिं० स्त्री०) पत दे। हुई जमीन पर जा कर जड़ पकड़ लेती है। वर्क लुर-मद्राज प्रदेशके कमाड़ा जिलेके अंतर्गत एक बरौंछी (हिं० स्त्री० ) सोनारोंकी वह कूची जो सूअरके : प्राचीन प्राम। अभी यह स्थान ध्वंसावशेषमें परिणत बालोंकी बनी होती है और जिससे वे गहना साफ करते हो गया है। १८८१-८४ ईमें पुर्तगीज-लेखक फेरिया- इ-सुजाने लिखा है, कि पहले इस नगरमें स्वाधीन बरौंखा ( हिं० पु.) एक प्रकारका गन्ना जो बहुत ऊँचा , वाणिज्य चलता था । जबसे पुत्त गीजोंने यहां दुर्ग बनाया या लंबा होता है। तभीसे इस स्थानको श्रीवृद्धिका ह्रास हुआ। बरौंदा-१ बुन्देलखण्डके अन्तर्गत एक सामतराज्य । वरुड़ देखो। इसका दूसरा नाम पाथरकछार भी है । भूपरिमाण २१८ बर्खास्त (हिं० वि०) बरखास्त देखो। वर्गमील है। यह राज्य बहुत प्राचीन कालसे चला आ वर्सेरा--मध्यप्रदेशकी भील-एजेंसीके अंतर्गत एक रहा है । १८०७ ई०में अङ्गारेजोंने राजा मोहनसिंहको सनद ठाकुरात सम्पत्ति। यहांके भूमिया सरदार घार और दे कर राजसिंहासन पर प्रतिष्ठित किया। उनके कोई सिन्दियाराजके सामत समझे जाते हैं। सन्तान न थो । मरते समय वे १८२७ ई में अपने भतीजे बगढ़-१ मध्यप्रदेशके सम्बलपुर जिलांतर्गत एक उप- सब तसिंहको उत्तराधिकारी बना गये। यद्यपि उस विभाग । यह अक्षा० २०४५ से २१४४ उ० तथा देशां समय गोद लेनेका अधिकार न था, तो भी वृटिश सर- ८२३८ से ८३ ५४ पू०के मध्य अवस्थित है। भूपरि- कारने सर्बतसिंहको मजूर कर लिया। १८६२ ई०में माण ३१२६ वर्ग मील और जनसंख्या पांच लाखके उन्हें गोद लेनेकी सनद मिलो। उनके बाद रघुवरदयाल- करीब है । १८५७-५८ ई०के गदर में विद्रोहियोंने यहां आश्रय- सिंह राजसिंहासन पर बैठे। राजाबहादुर उनको उपाधि ग्रहण किया था। इसमें १ शहर और ११७२ प्राम लगते थी। सरकारसे ६ सलामी तोपे मिलती थीं। १८८५ : हैं। देवीगढ़का गोंड़ दुर्ग यहांके बड़र पर्वत पर अव- ईमें रघुवरकी मृत्यु हुई। उनके कोई सन्तान न थी, स्थित है। जिरा नामक महानदीकी एक शाणा तह- और न उन्होंने किसीको गोद ही लिया था। अतः वृटिश सीलके मध्य बहती है। सरकारने ठाकुर प्रसाद सिंहको राज्याधिकारी बनाया। २ उक्त उपविभागका प्रधान नगर । यह अक्षा० २१ ये ही वर्तमान राजा हैं । पृटिशसरकारसे इन्हें ।। २११५ उ० और देशा०८३४३ १५० पू०के मध्य सलामी तोपें मिलती हैं। | अवस्थित है । शहरमें एक प्रकारका मोटा कपड़ा तैयार इस राज्यमें कुल ७० ग्राम लगते हैं। जनसंख्या होता है। साढ़े पन्द्रह हजारसे ऊपर है। यहांकी भाषा बघेलखण्डी वर्गा-बसहर राज्यका एक हिमालयसङ्कट। यह अक्षा० ३१.१६ उ० तथा देशा० ७८.१६ पू०के मध्य अव- २ उक्त राज्यको राजधानी । यह अक्षां २५३ उ० तथा स्थित है। देशा० ८० ३८ पू० कालिञ्जरसे १० मील उत्तरमें अव बगी-महाराष्ट्र, दस्यु गण वङ्गालमें बगीं नामसे प्रसिद्ध स्थित है। मानसख्या १३६५ है। यहां सिर्फ एक थे। ये लोग हथियारबंद दलोंके साथ नगरमें घुसते वर्नाक्युलर स्कूल है। | और नगरवासियोंका सब स्थ हरण कर लेते थे। बरौठा (हिं० पु०) बगेठ' देखो। बळ ( हिं० पु० ) वरका देखो। बरौनी (हिं० स्त्री० ) बरुनी देखो। बर्जना ( हिं० क्रि०) बरजना देखो। बरौरी (हिं० स्त्री० ) बड़ी या बरो नामका पकवान। बजह ( स० पु०) दुग्धका उत्पत्तिस्थान । वर्क (अ० स्त्री०) १ विद्युत, बिजली। (वि०) २ चालाक, | बर्जा ( सं क्ली०).स्तनका अग्रभाग। तेज । ३ पूर्ण रूपसे अभ्यस्त, चट उपस्थित होनेवाला । बर्तन (हिं० पु० ) बरतन देखो। .