पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पहिष्पष्ट-बहुगुना पहिष्पष्ट (सपु०) बहिरावरण । बहुकन्द (स.पु०) बहवः कन्दा यस्य । शूरण, भोल। पहिष्णविन (सं० वि०) पवित्रताहीन । बहुकन्या (सं० स्त्री०) १ गृहकन्या, घृतकुमारी। २ अनेक बहिपिण्ड (सलि०) बहिर्भागमें पिण्डयुक्त। कन्या । बहिषम (स लि०) जिसकी प्रज्ञा वाह्य व्यापारमें नियुक्त बहुकर (सं० पु०) बहु कार्य करोतीति (विवाविभानिशा- प्रभेति पा ३२.२१ ) इति ट। १ उष्ट्र, ऊँट। (नि) बहिषाण (स.नि.) १ जिसके प्राण वहिर्गत हो गये २ मार्जनकारी, झाड देनेवाला । ३ बहुकार्यकर्ता, बहुत हों। २ वित्त। काम करनेवाला। बहिस् ( में अव्य० ) पहिः देखो। बहुकरी (स. स्त्री० ) बहुकर-डोष । सम्माजनी, झाड़ । बहिःसंस्थ ( स० वि०) बहिःस्थित । बहुकर्णिका (स. स्त्री०) बहवः कर्णा इव पत्राणि यस्याः। बहिःसद् ( स० वि०) बहिः सीदति सद-क्विप्। बाहरमें आखुकणी, मूसाकानी।। उपवेशनकारी, बोहरमें बैठनेवाला। बहुकाम (संत्रि०) अमेक कामनायुक्त। वही (हिं० स्त्री० ) हिसाब किताब लिखनेको पुस्तक। बहुकार ( स० वि०) बहुकार्यकारक, बहुत काम करने- बहीखाता (हिं स्त्री०) हिसाब किताबकी पुस्तक। । वाला। बहीनर (सपु०) शतानीकके पौत्र । बहुकूर्च ( स० पु० ) मधुनारिकेल वृक्ष । (भाग. ६॥२२॥ ४२) बहुकृत्य ( स० वि०) बहु करणीय, जिसे बहुतसे काम वहीर (हिं० स्त्री० ) १ भीड़, जनसमूह । २ सेनाके साथ करनेको हो। साथ चलनेवाली भीड़ जिसमें साईस, सेवक, दूकानदार बहुकेतु ( स० पु० ) पर्वतभेद । आदि रहते हैं, फौजका लवाज । बहुक्रम ( स० पु.) वैदिक शब्दका क्रमभेद । बहीरज्जु ( स० अध्य० ) रजा बहिः । रज्जुके बहिर्भागमें, बहुक्षम (स० वि०) १ अधिक सहिष्णु। (पु.) २ रस्सीके बाहरमें। जैन साधुभेद। ३ बुद्धभेद । बहीरा (हिं० पु०) बहेड़ा देखो। बहुगन्ध ( स० क्ली० ) बहुर्गन्धो यस्मिन् । १ गुड़त्वच, बहु (स.लि.) बहते इति बहि वृद्धौ (लघर योनलोपश्च । दारचीनी। २ कुन्दरुक, कुदुरु । ३ पोतचन्दन । उण ११३० ) इति कुर्नलोपश्च । १ बहुत, एकसे अधिक। बहुगन्धदा (स. स्त्री०) बहुगन्धं ददाति या बहुगन्ध-दा- २ अधिक, ज्यादा। क। कस्तूरी। बहु (हिं० स्त्री० ) बहू देखो। बहुगन्धा (स. स्त्री०) १ चम्पककलि, चम्पा फूलकी बहुक (स० पु०) बहु-संज्ञायां कन् । १ ककट, केकड़ा। कलि । २ यूथिका, जूही । ३ कृष्ण जीरक, स्याह जीरा । २ अर्क, आक, । ३ जलखातक, छोटा तालाब । ४ चातक, बहुगावाच ( स० वि०) बहुगा बहुनिन्दिता वाग- पपीहा। ५ हरिणविशेष । (नि.) ६ बहु द्वारा कीत, | यस्य । कुत्सित बहुषादी, अश्लील शब्द बोलनेवाला । जो अधिक मोलमें गरीदा गया हो। बहुगव (संपु०)पुरुवंशीय राजा सुयुके एक पुत्रका बहुकण्टक (सं० पु० ) १ क्षुद्र गोक्षुर, गोणरू । २ यवास, | नाम। घमासा। ३ हिन्ताल वृक्ष । ४ शिग्रुड़ी क्षुप, सहि- बहुगुड़ा ( स० स्त्री० ) १ कण्टकारी, भटकटैया। २ जनका पेड़। ५ कुण्टकताल वृक्ष । ६ स्नुही घृक्ष । ७ भूभ्यामलकी, भूऔषला। . पाटला वृक्ष । ७ खजूरी वृक्ष। | बहुगुण ( स० वि०) १ वहुमूत्रयुक्त । २ बहुसदगुण बहुकण्टका (सं० स्त्री० ) अग्निदमनीवृक्ष । शाली । (पु.) ३ भनेक गुण । ४ देवगन्धर्वभेद । बहुकण्टा (स. स्त्री०) बहवः कण्टाः कण्टकानि यस्याः। बहुगुना (हिं० पु.) चौड़े मुंहका एक गहरा बरतन । कल्टकारी, भटकटैया। | इसके पैदे और मुंहका घेरा बराबर होता है। इससे