पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२६२ बहुदेवत-बहुपुष्पिका बहुदेवत (स० वि० ) बहुदेव निमित्तक पाठ्य। रापि-अत इत्व। १ भूमग्रामलकी, भूमावला । २ महा- बहुदेवत्य . स० वि०) बहुदेव सम्बन्धीय । शतावरी । ३ मेथिका, मेथी। ४ वच।। बहुदैवत (स० वि०) बहुदेवता सम्बन्धीय। बहुपत्री ( स० स्त्री० ) बहुपत्र गौरादित्वात् कोष । १ बहुदैवत्य ( स० वि०) बहुदेवता सम्बन्धीय । लिङ्गिनी । २ गृहकन्या, घीकुवार । ३ तुलसीका पौधा । बहुधन (सं० लि०) बहुधनशाली, धनी । ४ जतुका। ५ वृहती । ६ गोरक्ष दुग्ध, दुधिया बहुधनेश्वर (सं० पु० ) १ धनी व्यक्ति । २ कुवेर । घास। बहुधर (संपु०) शिव, महादेव । बहुपत्नीक ( स० वि०) वह्वो पनीर्यस्य 'अन्नदी सर्पिरादेः बहुधा (स० अव्य०) बहु (विभाषावहोर्धा विप्रकृष्काले । पा कप' इति कप। बहुपत्नीयुक्त, जिसके अनेक स्त्रियां ५।४।२०) १ बहुप्रकारसे, अनेक ढंगसे । २ प्रायः, अकसर, हों। अधिकतर अवसरों पर। ___बहुपद् (सं० वि०) १ बहुपादयुक्त, जिसके अनेक पैर हों। बहुधात्मक (सं० स्त्री० ) बहुधा आत्मा यस्य । स्वयम्भु। (पु०) २ वटवृक्ष, बरगदका पेड़।। बहुधान्य ( स० वि०) १ बहुधान्ययुक्त । २ जिसके | बहुपन्नग (सं० पु०) मरुद्भद।। प्रचुर धान्य हो । (क्ली० ) ३ राशि राशि धान्य । ४ साठ बहुपर्ण (स० पु० ) बहूनि पर्णानि पत्राणि यल्य। १ संवत्सरोंमेंसे बारहवां संवत्सर । सप्तच्छदवृक्ष। ( त्रि०) २ अनेक पत्नयुक्त। बहुधार ( स० क्ली० ) वही धारा यस्य । बजहीरक, बहुपर्णिका ( स० स्त्री० ) बहुपर्ण-संज्ञायाँ कन, टापि अत. एक प्रकारका हीरा। इत्वं । आखुपणी। बहुधूप ( स० पु० ) सज वृक्ष। बहुपणी (स० स्त्री०) बहुपण गौरादित्वात् ङीष् । बहुधेनुक ( स० क्लो० ) बहुसंख्यक दोहनयोग्य गाभी। मेथिका, मेथी। बहुधेय (स० पु. ) १ बहु नाम युक्त । २ सम्प्रदायभेद । बहुपशु ( स० लि० : बहुपशुयुक्त, जिसके अनेक मवेशी बहुध्वज ( स पु० ) शूकर, सूअर । बहुनाडिक ( स० वि०) बहुनाड़ि-कन् । काय, शरीर । बहुपाक्य ( स० वि० ) जिसके घरमें दरिद्रोंके लिये अनेक बहुनाड़ीक (सं० वि०) बह्वो नाड़ यो यस्मिन्, बहुनाड़ी- खाद्य वस्तु बनती हो । कप् । १ दिवस । २ स्तम्भ ।। बहुपाद् (स० पु०) वटवृक्ष, बरगदका पेड़। बहुनाद ( स० पु० ) बहुमहान् नादः शब्दो यस्य । शङ्ख । बहुपाद (सं० पु० ) बहुपद् देखो। बहुपटु ( स० वि०) बहुषु विषयेषु पटुः। १ बहुकार्य में बहुपाय्य ( स० वि०) बहुकर्तृक गन्तव्य या बहुकतुक दक्ष, जो बहुत काम जानता हो। रक्षितव्य। बहुपत्र (म० पु०) बहूनि पत्राणि दलान्यस्य । १ अभ्रक, बहुपुल ( स० पु०) बहवः पुत्राः सन्तयो यस्य। १ सस- अबरक। २ पलाण्डु, प्याज। ३ वंशपत्र, हरिताल। पर्ण। २ पांचवें प्रजापतिका नाम । (नि.)३ मक ४ मुचुकन्दवृक्ष । ५ पलाशवृक्ष। (नि.) ६ अनेक पुलविशिष्ट, जिसके बहुतसे पुत्र हों। पत्रयुक्त, जिसमें बहुत-सी पत्तियां हों। बहुपुत्रिका (स. स्त्री०) स्कन्दकी अनुचरी, एक मातृका । पला (स. स्त्री०) बहु-पनटाप । १ तरुणी पुष्प- बहुपुत्री (स० स्त्री० ) १ शतावरी। २ भूम्यामलकों। वृक्ष। २ शिवलिङ्गिनी लता। 3 जन्तुका, पहाड़ी ३ वृहती। नामको लता। ४गोरक्षदुग्धी, दुधिया घास। ५ भूम्या- बहुपुष्प (सं० पु०) बहूनि पुष्पाणि यस्य । १पारिमय मलकी, भूआंवला। ६ घृतकुमारी, घीकुवार । वृक्ष, फरहदका पेड़। २ निम्बवृक्ष, नीमका पेड़। बृहती। बहुपुष्पिका (सं० स्त्री०) बहुपुष्प संसायां कन्, मत बहुपत्रिका ( स० स्त्री०) बहुपता संज्ञायां खार्थे वा कन्, इत्व'। धातकीवृक्ष, धायका पेड़ ।