पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२८८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२८२ बांही पाइविल जोड़का हाथ कंधे पर आता है, तब अपना हाथ उसको मुद्रित पाइविल प्रन्यके पूर्वखण्ड (Old Testment )-में बगल में ले जा कर उसकी उंगलियां पकड़ कर मरोड़। ३६ प्रथविभाग है । अति प्राचीनकालमें इसका कुछ देते हैं और दूसरे हाथसे उसकी कोहनी पकड़ कर अंश हिब्र और कुछ कालदीय भाषामें रचा गया था। टांगसे मारते हैं। ऐसा करनेसे जोड़ तुरत जमीन पर उसके मध्य ईसासे दो सदी पहले संघटित हिब्रू -काल- गिर जाता है। यह पेच उसी समय किया जाता है जब दोय साहित्यकी अनेक घटनायें सन्निवेशित हुई हैं। जोड़ शरीरसे सटा नहीं रहता, कुछ दूर पर रहता है। __ पूर्वखण्डके इतिहास, परमार्थतत्त्व, भविष्यवाणी और बांहो ( हिं० स्त्री. ) वांह देखो। काव्यांशके पश्चात् उत्तरखण्डका ईश्वर-समाचार बा (हिं० पु० ) जल, पानी। ( Gospel ), देव, मनुष्योंका समिश्रण, ईसामसीहकी बा ( फा० पु. ) यार, दफा, मरतबा । अलौकिकलीला और मृत्यु एवं ईसा प्रेरित दूतोंकी बाइ (हि. स्त्री० ) वाई देखो ( A postle's ) भक्ति, देवानुरक्ति प्रभृति एकत्र प्रथित बाइबिरग (हिं० स्त्रो०) बिडंग। हैं। यहूदिओंके पूर्वखण्डका विभाग वर्तमान प्रणाली- बाइबिल -ईसाइयोंकी प्रधान धर्म पुस्तक। ईश्वर-अभि- से बहुत भिन्न था। उन्होंने अपनी वर्णमालाके अनु- व्यक्त धर्मतस्वोंकी मूल वाक्यावली प्रथित कर ईसाई लोग सार उसे २२ भागों में विभक्त किया है । स्मृति (Law), जिस पवित्र धर्मग्रन्थको मानते हैं उसी धर्मपुस्तकका ४थी ईश्वर-वाक्य और ईश्वर महिमाकोत्तन सूचक गान शताब्दीमें महात्मा खुसोष्टमने ( Chrysostom ) 'बाइ- ( Higiographa ) ये तीन नम्बरसे लिपिवद्ध हैं। बिल' नाम रखा। भाषा और अंतर्निहित विषयोंकी पांच परिच्छेद ( Book ) तक मूसाको स्मृति, जसूआ, विभिन्नतासे यह प्रथ दो भागोंमें विभक्त हुआ। प्राचीन जाजेस, सामुएल, किंस, ईसाया, जिरिमिया और ऐजिका- कथाओंको ऐतिहासिकता पर्यवेक्षण कर उन्होंने प्रथमाद्ध एल प्रभृति ईश्वर-नियोजित धर्मोपदेष्टाओंका धर्मतत्त्व को पूर्व भाग ( Old Testament ) एवं पराद्ध को उत्तर और साम्स, प्रोभावंस, इक्लिजियाष्टिस्, जाव, सलोमाके भाग ( Ncus restanicut ) नामसे प्रकट किया। पूर्व- गोत, रुथ, लैमेन्टेसन्, एस्थर, दानिएल, एजरा, नेहेमिया गवण्डकी ऐतिहासिक घटनाओं के साथ उत्तरखण्डका आदिमें ईश्वरप्रेम, भजन और सत्त्वा गीतोंमें कीत्तित हुए घटना-निचय विशेषरूपसे संयुक्त है। प्रोटेष्टान्ट सम्प्र- हैं। दूसरे दूसरे प्रन्थों को ले कर यहूदी और ईसाइयोंमें दायके ईसाई उक्त दोनों प्रन्थों की संयोजक घटनावलि- घना मतभेद देखा जाता है। को एपोक्रिफा ( Apocrypht ) या अप्रामाणिक समझते यहूदियों के अवरोधसे पूर्व इस प्रथका कोई भी हैं। ये समस्त ईश्वरप्रोक्त घटनाएं हैं, इस विषयमें वे उल्लेख नहीं मिलता। मोजेसके उपदेशसे जाना जाता लोग सन्देह करते हैं। है, कि यह धर्मग्रंथ जलप्लावन-कालीन पवित्र अभी हम लोग भी जिस बाइबिलको देखते हैं वह दो जहाजके पाश्च में रख दिया गया था। जेरु सालेम- विभागों में विभक्त है, पहला 'ओल्बटेस्टमेण्ट' दूसरा का मन्दिर तैयार होनेके बाद राजा सलोममने 'न्यु टेस्टमेण्ट' । इस Nev Testament विभागमें पूर्व इस प्रन्थको मन्दिरमें रखनेको अनुमति दी। खण्डको लिपिको धर्मशास्त्र वा Scripture कह कर परवती ईश्वरप्रणोदित व्यक्ति जिससे सावजनिक उप- उल्लेख किया है। १८० ई०में ईश्वर-समाचार विषयक कारके लिये भविष्यमें इस प्रथकी रक्षा कर सकें इसकी प्रन्थ हो IIoly-script:ire कहलाता था। ईरानियस् भी उन्होंने व्यवस्था कर दी थी। किन्तु नेवूकाडनेजर- ( Irenctus ) इस धर्मग्रन्थके पूर्व और उत्तरखण्डको ( Nebuchadnezaar )के द्वारा जेरुसलम ध्वस होने मिला कर उसका Lord's Scripture नाम रख गये हैं। के बाद इस प्रथकी हस्तलिपि नष्ट हो गयी । इसके पूर्वखएडके प्रीक नाम 'Pallia diatheka' से महात्मा पहले यहूदी इसकी प्रतिलिपि घेवीलन मगरमें ले गये पालने "The Old Testment" नाम रखा। वर्तमान । थे इसीसे वह ध्वससे बच रही । उन लोगोंके भवरोगको