पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/२९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वाइबिल-वाईस उन्नतिस्तर देखे जाते हैं। मोजसके समय जिस भाषामें छपवानेका अधिकार एकमात्र राजाको हो है। यदि कोई यहूदी लोग बोलते थे उसी हिब्रू भाषामें पेन्टाटुक-विभाग इस अनुमोदिन पाठको छपानेकी इच्छा करे, तो उन्हें और जसूआ लिपिवद्ध हुए थे। द्वितं य स्तरमें अर्थात् वाइबिल बोई से अनुमति लेनी पड़ती है । ईसाईधर्म और हिव्र भाषा जब कुछ मार्जित हुई तब जाजेस, सामुएल, और उसके प्रवर्तक बाइविल शास्त्रके प्रचार के लिये किंस, एनिकल्स साम्स, प्रभास और ईसाया, हेसिरा, पृथ्वीकी सभ्यजातिमें ७० बाइबिल सोसाइटियां स्थापित जोए, आमस, ओबदिआ, जोना, मिका नाहुम, हवक क हुई हैं। प्रायः २४३ विभिन्न भाषामें बाइविल प्रन्थ मुद्रित प्रभृति प्रथ प्रचलित हुए। इसके बाद अबरोधके समय हो चुके हैं। कहीं कहीं एक भाषामें दो तीन तरहका हिन के मध्य बाबीलोनीय रचनापद्धतिके संमिश्रित होने अनुवाद देखा जाता है। पर इस्थर, एजरा और नेहेमिया आदि प्रथोंकी रचना बाइलहोङ्गल - बम्बई प्रदेशके बेलगाम जिलान्तर्गत एक हुई। दानिएल और एजराका कुछ अंश काल्दी वा अर- प्राचीन नगर। यह विस्तृत मैदानके मध्यस्थल में अव- मियान भाषामें लिखे हुए हैं। उत्तरखण्ड The Nor : स्थित है। सम्पगांव और प्रसादगढ़के निकट रहनेके Testament) हेलेनिष्टिक ग्रीक भाषामें रचा गया। प्रोक कारण यह बाणिज्य केन्द्र हो गया है। शहरका बसवेश्वर औपनिवेशिक यहूदियोंने इस भाषाकी व्युत्पत्ति प्राप्त नामक प्राचीन लिङ्गायत-मन्दिर देखने लायक है । मन्दिर- कर सत्सामयिक प्रथोंको अपनी अपनी भाषामें रच को बनावट देखनेसे मालूम होता है, कि एक समय उसमें डाला। उसमें तहे सवासियोंने अपनो भाषाके शब्द भी जिन-मूर्ति प्रतिष्ठिन थो। मन्दिर गात्रमें रट्ट-सरदारोंके उसके अंदर शामिल कर दिये। इस प्रकार संशोधित : १२ वीं शताब्दीमें उत्कीर्ण दो शिलाफलक पाये जाते हैं। ग्रीक भाषा हिन प्रीक कहलाने लगी। साधु ईसाके इनमेंसे १म फलकमै ७३ पंक्ति और श्यमें ५१ पंक्ति हैं। पालेस्तिन अवस्थानकालमें यह मिश्रभाषा वहां पर प्रच पहला अस्पष्ट है और दूसरा रट्टराज कार्तवीयके शासन- लित थी। फिर उसी भाषामें उत्तरखण्ड लिपीबद्ध काल (११४३-११६४ ई०) के शेष वर्षमें लिखा गया है। हुआ। हिब्र बाइबिलका सबसे पहला मुद्रणकार्य १४८८ बाइस ( फा० पु० पु. १ कारण, सबब । २ . इंग देखो। ई०में सोनसिनो द्वारा सम्पादित हुआ था । कम्पूटेन्सियन बाइसवाँ ( हिं० क्रि०) वाई :बाँ देखो। पोलिग्लेटके लिये काडि नेल जिमेनिस (Portlinul बाइसिकिल ( अं० स्त्री० ) एक प्रसिद्ध गाड़ी । इसमें आगे Xinenes ) के व्ययसे वाइविलका उत्तरखण्ड प्रकाशित पोछे दो पहिये होते हैं। इसके बीच में सिर्फ बैठने भरके हुआ। इसका मुद्रण १५०२ ई० से आरंभ हो १५१४ लिये छोटा सा स्थान रहता है। आगेकी ओर दोनों हाथ ई० में समाप्त हुआ था। किन्तु १५२२ ई० तक इसका जन- टेकने और गाड़ीको घुमानेके लिये अड़े के आकारको साधारणके निकट प्रचार न रहा । इसी समय इरासमस् एक टेक होती है। इसमें नीचेकी ओर एक चक्कर लगा ( Erasmus ) ने उक्त प्रथको १५१६ ई०में मुद्रित कर रहता है जो पैरके दबावसे घूमता है जिससे गाड़ी बहुत प्रकाशित कर दिया । १७०७ ई० में डो० जान मिलके द्वारा तेजीसे चलती है। बाइबिल मुद्रित हुई जिसमें तीस विभिन्न पाठोंका वर्णन बाई (हिं० स्त्री०) १ त्रिदोषों से बात दोष । इसके प्रकोप है। १८३०ई० और १८३६ ई में स्कोलज़: ( Scholu ) ने से मनुष्य बेसुध या पागल हो जाता है। बात दखो । जिन दो खण्डोंमें बाइबिल प्रकाशित की उनमें ६७४ पुस्त २ स्त्रियोंके लिये आदरसूचक शब्द । जैसे, महल्याबाई, कोंका उल्लेख है। पोछे उन्होंने ३३१ प्रथोंका पाठ स्वयं लक्ष्मीबाई। ३ एक शब्द जिसका प्रयोग उत्तरी प्रान्तों में मिला कर प्रकृतपाठ प्रकाशित किया था। रिंच (Rinch), प्रायः वेश्याओंके नामके साथ किया जाता है। लकमान (Laciimann)प्रभृति जर्मन पडितोंके सटीक प्रथ वाईस हिं० पु०) १ बोस और दोकी संख्या वा अङ्कजो ईसाइयों के लिये आदरणीय वस्तु । इङ्गलैण्डमें भी कई इस प्रकार लिखा जाता है---२२। वि०) २ बोससे दो बार अनेक प्रकारको बाइविल मुद्रित हुई थी। इस पुस्तकको अधिक, जो बीस और दो हो। . . Vol xv, 72