पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/३१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


बादर-बादाम रखनेवाला। ६ कपासका, लईका बना हुआ। ७ मोटा बादाम-स्वनाम प्रसिद्ध पक्षभेद । ( Terminalia Cata- या खहए। ppa ) इसके बीजका गूदा खानेमें बहुत बढ़िया लगता चादर ( हिं० वि० ) आनन्दित, प्रसन्न, आहादित। है। जामुन आदि वृक्षोंकी तरह यह ऊँचा और इसका बादरङ्ग (सं० पु०) अश्वत्थ वृक्ष, पीपलका पेड़। तना मोटा होता है। बादामके साधारण दो भेद है, बादरा ( स० स्त्री०) १ बदरी या बेरका पेड़ । २ कपास- देशी अथवा पात और बिलायती। भिन्न भिन्न देशमें का पौधा । ३ जल, पानी । ४ रेशम । ५ दक्षिणावर्स शंख। यह भिन्न भिन्न नामसे प्रसिद्ध है। यथा- पादरायण ( स० पु० ) वर्ध्या भवः फा। घेदव्यास। हिन्दी-बादाम, बादामी ; बंगला-बादाम ; बादरायणि ( स० पु०) बादरायण-इ। वेदव्यास। उड़ीसा-बादाम ; युक्तप्रदेश--देशी बादाम ; दाक्षि- बादल (हिं० पु०) १ पृथ्वी परके जलसे उठी हुई वह भाप णात्य-हिन्दी बादाम, जङ्गली बादाम, बादाम-इ, जो घनी हो कर आकाशमें छा जाती है और फिर पानी हिन्दि ; बंबई-बादाम, जङ्गली बादाम, बङ्गाली बादाम, की बूदोंके रूपमें गिरती है। मेघ देखो। २ एक प्रकारका देशी वादाम ; महाराष्ट्र-बङ्गालो बादाम, नट व दाम, पत्थर जो दुधिया रंगका होता है। इस पर बगनी रंगको जङ्गली बादाम ; तामिल-नट वदम, कोट्टई, नट्ट पदोन, बादलकी सी धारियां पड़ी होती हैं। इस प्रकारका नथे बदम; तैलङ्ग बेदम, नथे-वदम-विट्ट लू, कनाडी-नट पत्थर राजपूतानेमें निकलता है। पादामी, तरि, तरु; मलय-नट्ट वादाम, कोट्टकुरु; बादला ( हिं० पु०) सोने या चाँदीका चिपटा चमकीला सिङ्गापुर-कोट अम्बा, संस्कृत-इङ्गदी, हिंगुदी। तार जो गोटे बुनने या कलावत्त बटनेके काममें आता है। पारस्य-बादामे हिन्दि ; अंगरेजी-Indian almond | बादशाह ( फा० पु० ) १ राजसिंहासन पर बैठने- भारतमें प्रायः सब जगह यह वृक्ष देखा जाता है वाला, राजा, शासक। २ स्वतन्त्र, मनमाना करने । समुद्रपृष्ठसे प्रायः १ हजार फुट ऊँचे स्थान तक यह वृक्ष वाला। ३ श्रेष्ठ पुरुष। ४ शतरंजका एक मुहरा जो देखनेमें आता है। वृक्षकी छालसे एक प्रकार काला किस्त लगनेके पहले केवल एक बार घोड़े की चाल गोंद निकलता है जो जलमें घुल जाता है। इसके पसे चलता है और दौड़धूपसे बचा रहता है। ५ ताशका | और छिलकोंमें थोड़ा रस होता है। इसमें धारकता गुण एक पत्ता जिस पर बादशाहकी तसवीर बनी रहती है। है। स्याही, दन्तमंजन और मिस्सीके बनानेमें लवणाक्त बादशाहजादा (फा० पु०) राजकुमार, कुमार। लोहे(Iron Salts)के साथ इसे मिलाते हैं। रेशम, पशम बादशाहजादी (फा० स्त्री०) राजकुमारी। और सूती कपड़े को नाना वों में रंगनेमें यह बहुत उप- बादशाहत (फा० स्त्री० ) राज्य, शासन, हुकूमत। योगी है। वृक्षकी छालके रेशेसे मद्रासमें एक प्रकारका बादशाहपसन्द (फा० पु०) दिलबहार हलका आसमानी वस्त्र बनता है। रंग, खशखाशी रंग। बादामके पीसनेसे तेल निकलता है। वह तेल बादशाहपुर-पाव प्रदेशके गुरुगाँव और दिल्ली जिलेमें प्रवाहित एक पहाड़ी नदी। यह दिल्ली जिलेकी बल्लभ- सुगंधित और सुस्वादु होता है। वायुरोगप्रस्त गढ़ पर्वत मालासे निकली है। बादशाहपुर प्रामके निकट- उष्णमस्तिष्क व्यक्तिके शरीरमें इस तेल द्वारा वत्ती जलप्रपात भी इसी नामसे प्रसिद्ध है। मालिश करनेसे बहुत लाभ होता है। लोग खुजली, बादशाही (फा० स्त्री०) १ राज्य, राज्याधिकार । २ शासन, कुष्ठ आदि चर्म रोगों में इसके कई पत्तोंका रस व्यवहार हुकूमत । ३ व्यवहार, मनमाना। (वि०) ४ बादशाहका, राजाका। बिलायती बादामका विडामवादियोंने Prunus Amy बादहवाई (फा० कि० वि० ) व्यर्थ, निष्प्रयोजन, यों ही। gdalus नाम रखा है। सिङ्गापुरमें इसे रतकोटम्बा बादा-२४ परगनेके अन्तर्गत लवणजलसित भूभाग। और शेष सभी जगह वादाम वा बादामी कहते हैं। अफ- यहां मछली बहुत पाई जाती है। गानिस्तान, अलजिरिया, एशिया माइनर सिरिया और