पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/५१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५०८ बलदार-बल्लर गई स्त्रा उपपात रख सकती है। ये गांच पीरांका पूजा बेल. पत्र ( हिं० पु. ) घेलके वृक्षकी पत्तियां जो हर एक करते हैं। शिवगात्रको महादेवको पूजा और उपवास सी कमें तीन तीन होती हैं और जो शिवजी पर चढ़ाई भी करते हैं। जाती हैं। बिल्व वृक्ष देखो। ___ उडियाक बेलदार सिर्फ तालाव खोदनेका काम बेलपाता (हिं० पु० ) बेलपत्र देखा । करते हैं । इनमें एक जमादार रहना है जिसके अधीन कई बेलबागुरा ( हिं० पु. ) हिरनोंको पकड़नेका जाल । नायक रहते हैं और उन नायकोके अधीन बहुतसे बेल बेलबूटेदार ( हि. वि. ) जिसमें बेरबूटे बने हों, बेल-बूटों दार दन्ट बांध कर काम करते हैं। इनके रहनेका काों वाला। निश्चित ठिकाना नहीं है। जब जहां काम पड़ता है, बेलहरा ( हि पु० ) एक प्रकारको लंबोतरा पिटारी जिसमें उसो जिलेमें जा कर वस जाते हैं। . लगे तुप पान रखे जाते हैं। यह बाँस या धातुओं आदि. बेलदार ( फा० पु.) वह मजदुर जो फावड़ा चलाने या की बनी होती है। जमीन खोदनेका काम करता हो। बेलहरी ( हि पु० ) सांनी पान । बेलदार्ग (फा स्त्री० । बेटदारका काम, फावडा चलान- बेलहाजी ( हिं० स्त्रो०) लकड़ीका वह ठप्पा जिससे धोती का काम। - आदिके किनारों पर लहरिएदार बेल छापी जाती है। बेलन (हि.पु.) १ लकडी, पत्थर या लोहे आदिका बेलहाशिया ( हिं० पु. ) बेलहाजी देग्यो । बना हुआ गोल भारी, और दंड आकारका खण्ड। यह बेला ( हिं० पु०) चमेली आदिकी जातिका एक प्रकार. अपने अक्ष पर धूमता है और इसे लुढ़का कर किमो का छोटा पौधा। इसमें सफेद रंगके सुगन्धित फूल चीजको पीसते, किसो स्थानको समतल करते अथवा लगते हैं। इस फूल के तीन भेद हैं-मोतिया, मोगरा कंकड़ पत्थर आदि कूट कर सड के बनाते हैं, रोलर। और मदनवान। पहला मोतीके समान गोल होता है, २ कोलहका जाठ। ३ करघेका पौसार । ४ किसी यंत्र दुसरा उसमे बड़ा और प्रायः सुपारीके बराबर होता है आदिमें लगा हुआ रोटरकं आकारका कोई बड़ा पुरजा और तीसरेकी कली प्रायः इञ्च भर लंबी होती है । २ एक जो घुमा कर दवाने आदिक काममें आता है। '५ कोई प्रकारका गहना जो बेलेके फूल के आकारका होता है। गोल और लता लुढ़कनेवाला पदार्थे । ६ रूई धुनकनेको ३ त्रिपुरा, मल्लिका । ४ लहर । ५ कटोरा। ६ चमड़े की मुठिया या हत्था । ७ वलना देवा । ८ एक प्रकारका बनी हुई एक प्रकारकी छोटो कुल्हिया। इसमें एक जष्ट हन धान । ६ एकमें मिलाई हुई वे दो नावे जिनकी लंबी लकड़ा लगा रहता हैं जिससे तेल नापा या दूसरे सहायतासे डूबी हुई नाव पानी से निकाली जाती है बरतनमें भरा जाता है । ७ समुश्का किनारा । ८ समय । बेलनदार (हि० वि०) बेटनवाला, जिसमें येलन लगा हा। बेलाग ( हिं० वि० ) १ साफ, खरा। २ जिसमें किसी बेलना (हि.३० ) काठका बना हा एक प्रकारका लंबा प्रकारकी लगावट या संबंध न हो। दस्ता। यह वोचौ मोटा और दोनों ओर कुछ पतला बेलाडोना ( अपु.) मकोयका सत्त । यह प्रायः अंग होता है। यह प्रायः राटो, पूर्ण, कचौरी आदिको लोईको जो औषधाम खाने या पीड़ित स्थान पर लगाने काम- चकले पर रख कर वेलनेक काम आता है। यह कभो में आता है। कभी पीतल आदिका भी बनता है। बेलावल ( हिं० पु०) बिलाबल देखो। बेलमा ( हिं० ) १ रोटा. पूर्ग, कचोरा आदिको चकले बेलि ( हि स्त्रो० ) बेल देखा । पर रख कर बेलनको सहायतासे दवान हुए बढ़ा कर बेलिया ( हिं० स्त्री० ) छोटी कटोरी। बडा और पतला करना। २ चौपट करना, न करना। बेलौस ( हिं० वि० ) १ सथा, खरा। २ बेमुरव्वत । ३ विनोदके लिये पानीकेट उडानः । बेलरि मन्द्राजका एक जिला। वेल्लरि देखो। येलपसी (हि० पु. ) बमपत्र वा। बलूर (बेटर या रायपल्लुरु )-मन्द्राजप्रदेशके अन्तर्गत