पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/६३१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


ब्राममा ६२५ यदि ब्राह्मण शूद्रास्त्रीके साथ गमन करे, तो वह ब्राह्मण क्षत्रियादि त्रिवर्णके द्वारा प्रणम्य हैं। पुष्प- वृषलीपति कहलायगा। इस श्रेणीके ब्राह्मणों के श्राद्धका हस्त, पयोहस्त, देवहस्त, तैलाभ्यङ्गित-विग्रह, देवगृह- पिण्ड विष्ठा-सद्दश और तर्पण मूत्र तुल्य है, तथा उसका स्थित, औरदेव पूजाके समय, इन अवस्थाओंमें ब्राह्मणको कोटि जन्मार्जित तपस्याका फल नष्ट होता है। प्रणाम नहीं करना चाहिए। - ब्राह्मणके लिए प्रतिग्रह-निषेध -- कुरुक्षेत्र, वाराणसी, "पुष्पहस्तं पयोहस्तं देवहस्तञ्च भूसुर । वदरी, गङ्गासागरसङ्गम, पुष्कर, भास्करक्षेत्र, प्रभास, न नमेत् ब्राह मणं प्रातस्तैलाभ्यगितविग्रहम् ॥” इत्यादि । रासमण्डल, हरिद्वार, केदार, सोमतीर्थ, वदरपाचन, (पद्मप० क्रियायोग सा. २०) सरस्वती नदोतीर, वृन्दावन, गोदावरी, कौशिकी, त्रिवेणी आततायी ब्राह्मणको बध करने कुछ भी दोष नहीं और नारायणक्षेत्र आदि तीर्थों में ब्राह्मणको प्रतिग्रह न है। (यूह मवैवर्त पु० गणपति खं० २५ १०) करना चाहिए । यहां तक तो विभिन्न शास्त्रोंसे ब्राह्मणके आचार परिभाषिक महापातकी ब्राह्मण- व्यवहार और अनुष्ठ य व्रतकर्मादिका विषय लिखा गयो । "शूद्रसप्तोद्रिक्तयाजी ग्रामयाजीति कीर्तितः। देवोपजीवजीवी च देवलश्च प्रकीर्तितः ।। अब अन्यान्य विषय लिखे जाते हैं । ब्रह्मके मानस-कल्पमें मामवादि सृष्ट होनेके वाद, उनमें जाति-विभाग सङ्गठित शूद्रपाकोपजीवी यः सूपकारः प्रकीर्तितः । हुआ। भारतवर्ष के सिवा अन्याय देशके अधिवासी सन्ध्यापूजाविहीनश्च प्रमत्तः पतितः स्मृतः ।। गण एक जातिमें शामिल हैं और विभिन्न सम्प्रदायोंमें एते महापातकिनः कुम्भीपाकं प्रयान्ति ते।" विभक्त हैं। परन्तु इस हिन्दू-प्रधान भारतभूमिमें ब्राह्म- (ब्रह मवैवर्तपु० प्रकृतिखं० २७ अ०) णादि चार जातियोंका विभाग है। मध्य एशियासे जो सात शद्रोंके अधिक यजनकारीका नाम ग्रामयाजी आर्य औपनिवेशिक पहले भारतको -तरफ आये थे, उनमें हैं। ये प्रामयाजी ब्राह्मण, देवोपजीवी देवल, शद्रका इस प्रकारका वर्ण-विभाग था या नहीं, इसका कोई प्रकृष्ट पाचक ब्राह्मण और सन्ध्यावन्दनादि-विहीन प्रमत्त ब्राह्मण प्रमाण उपलब्ध नहीं है। हम ऋग्वेदके पुरुषसूक्तमें महापातकी हैं। इस श्रेणीके ब्राह्मण कुम्भीपाक नरक- में जाते हैं। (१०।१०।११-१२ ) देखते हैं, कि पुरुष विभक्त होने पर ब्राह्मण प्रसन्न-चित्तसे जो भी आशीर्वाद देते हैं, वह उनके मुदसे ब्राह्मण हुए थे। इसके अतिरिक्त याज- पूर्णस्वत्ययन है। सनेय संहिता ( १४।२८-३६ ), अथर्व वेद (१५।१०।१-३ "आशिष कत मर्हन्ति प्रसन्नमनसा शिशुम । और १६६।६), नैत्तिरोय संहिता (२११४-६ ', तैत्ति- पूर्णवस्त्ययनं स्थाधो विप्राशीर्वचनं ध्रुवम् ॥" रीय ब्राह्मण ( १।६।७ और ३११२४६३) और शतपथ- (ब्रहमवैवर्त पु० श्रीकृष्णाजन्म खं० १३ अ०) ब्राह्मणके (२।१।४।१३) सूत्र में ब्राह्मणादिकी उत्पत्तिका ब्राह्मण अपने कर्म द्वारा अपाङ्क्ते य वा पङ्क्तिपावन उल्लेख है। वेदके सिवा मनुसंहिता कूर्मपुराण और होते हैं। अपाङ्क्तय ब्राह्मण, जैसे कितव, भ्रूणहा, भागवत पुराणमें भी पुरुषसूक्तके अनुसार चार जातियों- यक्ष्मी, पशुपालक, वाषिक, गायक, सर्वविक्रयो, अगार की उत्पत्तिका विवरण लिखा है। ब्रह्माण्डपुराणमें दारी, गरद, कुण्डाशो, सोमविक्रयो, सामुद्रिक, राज (पूर्वभाग ८११५५.१६०) "सर्वभूते ब्रह्म विधमान" इस दूत, तैलिक, कूटकारक, पिताके साथ विवादकारी, अभि प्रकार चिन्तावृत्ति-धारी प्रजागण स्वयम्भू ब्रह्मा द्वारा शस्त, स्तेन, शिल्पोपजीवी, पर्वकार, सूची, मित्रद्रोहो, ब्राह्मण-रूपमें निर्दिष्ट हुए थे। विष्णु, मत्स्य और मार्क- पारदारिक, परिवित्ति, दुश्चर्मा, गुरुतल्पग, कुशीलव, एडेय पुराणमें भी ठोक ऐसा ही वर्णन पाया जाता है। देवलक और नक्षत्रजीवी आदि ब्राह्मण अपाङ्क्त य हैं । हरिवंशमें शुद्ध सस्वगुणसे, महाभारत आदिपर्वमें अर्थात् इनके साथ बैठ कर भोजन न करना चाहिए। मनुसे और शान्तिपर्व में कृष्णके मुखसे, तथा श्रीमन्द्रा- __'पङ्क्ति पावन' शब्द देखो।। गवतमें ( ३१६,२६-२७ ) विराट पुरुषके मुखसे ब्राह्मणको Vol. xv, 137,