पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष पंचदश भाग.djvu/७२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


७२० भद्रवजी-भद्रा भदवल्ली (स० स्त्री०) भदा चासौ बल्ली चेति कर्मधा। भद्रसालवन ( स० क्ली०) भ६ सालस्य बनं ६-तत्। १ मल्लिका । २ माधबोलना । ३ लताविशेष । पर्याय- भव श्ववर्षस्थित धनभेद ( भारत भीष्मप० ७ अ०) शातभोरु, भूमिमण्डा, अष्टपादिका । भद सेन ( स० पु० ) १ देवकी गर्भ-सम्भूत वसुदेवके एक भवसन ( स० क्लो० ) उत्कृष्ट परिच्छद, बढ़िया पुत्रका नाम । असुरपति कंसने इसे मारा था. ( भाग पहनाया। • ६।२४।२५ ) २ ऋषभके एक पुत्रका नाम । ३ कुन्तिराजके भवाच (सं० वि०) १ साधुवक्ता। २ साधु कथा वा एक पत्रका नाम। ४ महिष्मतके एक पुत्रका नाम । ५ प्रसङ्ग। काश्मीरके एक राजा। ६ बौद्धोंके अनुसार 'मारपापोय' भदवाच्य ( स० क्लो० ) बोलने योग्य शुभवाक्य । आदि कुमति के दलपतिका नाम । ७ अजातशत्रुका गोत्रा- भदवादिन (सं० वि० ) मुष्ठभाषी । पत्य। ८ सह्यादि वर्णित दो राजा। भदविन्द ( स० पु० ) श्रीकृष्णके एक पुत्रका नाम । भद सोमा ( स० स्त्रो० ) भद्रः सोम इवास्या दव इति ( हरिव श ६१८७ श्लो०)। टाप। १ गङ्गा । २ कुरुवर्षस्थ नदीविशेष । भदविराट ( स० पु० ) एक वर्णाद्ध मम तृतका नाम । भद हर्ष (स पु०) सह्यादि खण्ड वर्णित जाङ्गलिक- इसके पहले और तीसरे चरणमें १० और दूसरे तथा राजवंशीय एक राजा। चौथे चरणमें ११ अक्षर होते हैं। भद । ( स. स्त्रो०) भद -अजादित्वात् टाप। १ रास्ना। भदविहार ( स० पु० ) बौद्धसङ्घारामभेद । २थ्योमनदी, आकाशगंगा। ३ कृष्णजी। ४ द्वितीया, भदशर्मन् (स० पु०) भ शर्म सुखं यस्य । पुत्राद्यानन्द- सप्तमी, द्वादशी तिथीयोंको संज्ञा । युक्त । "प्रतिपदेकादशी षष्ठो नन्दा ज्ञ'या मणीषिभिः । भद शाख ( स० पु० ) भद: शाखा: महायाः यस्य । द्वितीयाद्वादशी चैव भद्रा प्रोक्ता च सप्तमी ॥" कार्तिकेय । (ज्योतिः सारस.) भद शील ( स० त्रि. ) सच्चरित्र, साधुशोल। बुधवारके दिन भद तिथी होनेसे सिद्धियोग होता भद शोचि (सं० वि० ) १ कल्याणदीप्ति । (पु०) २ अग्नि। है । सिद्धियोग सभी कामोंमें शुभ है। ५ प्रसारिणी । ६ भद शौनक ( स० पु०) चिकित्साशास्त्र के प्रणेता । कटफल । ७ अनन्ता। ८ जीवन्ती। ६ अपराजिता । चौड़वानन्दने इनका नामोल्लेख किया है। १० नीली । ११ अतिबला । १२ शमी । १३ वचा । १४ भद श्रय ( स० क्ली० ) भदाय श्रीयते गृहाते इति श्रि- दन्तो । १५ हरिद ।।१६ श्वेतदूर्वा । १७ काश्मरो, पुष्कर- कर्मणि-अच। चन्दन। मूल। १८ चन्द्रशूर, चंसुर । १६ सारिवाविशेष । २० भद श्रवस् (स० पु० ) धर्मका पुत्रभेद । गाभि, गाय । २१ भद्राश्चवर्षस्थित नदीभेद। यह नदी भद श्री ( स० पु० ) भदा श्रीयस्य । चन्दनवृक्ष। गङ्गाकी एक शाखा है और उत्तर कुरुवर्षमें बहती है। भव.श्रुत ( त्रि०) मधुर शब्द श्रोता । २ सम्यक् । २२ स्वरिका । २३ बुद्धिशक्तिविशेष । पर्याय-तारा, महाश्री, श्रवणकारी। (ली० ) ३ मिटशव्द श्रवण । ओङ्कार, स्वाहा. श्री, मनोरमा, तारिणी, जया, अनन्ता, ( हरिवश २६ अ०) शिवा, लोकेश्वरात्मजा, स्वदूरवासिनी, वैश्या, नीलसर- भद श्रेण्य (म.. पु० ) हरिवंशके अनुसार वाराणसीके स्वती, शङ्खिनी, महातारा, वसुधारा, धनन्ददा, विलोचना, एक प्राचीन राजा जो दिवोदाससे भी पहले हुए थे। लोचना । २४ छायाके गर्भसे उत्पन्न सूर्यकी एक कन्या। भद षष्ठी ( स० स्त्रो०) दुर्गादेवी । २५ एक विद्याधरतनया । विदूषकने बड़े कष्टसे इसको भद सरस् ( स० क्लो० ) भद,सरः कर्मधा० । सुपार्श्व पाया था । २६ केकयराजकी एक कन्या जो श्रीकृष्णजीको पर्वसस्थित सरोवरभेद। २ उत्तम सरोवर। ध्याही थी। इनके गर्भसे संग्रामजित्, वृहत्सेन, पूर: भद सार ( स० पु० ) राजाविन्दुसारका एक नाम। । प्रहरण, अरिजित्, अय, सुभद्, राम, आयु और सत्य