पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/१५७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६२ लगभग-लगाना जाना। १३ जान पडना, मालूम होना। १४ आरम्भ : लगरि-एक पहाड़ी जाति । होना, शुरू होना। १५ कामके लिये आवश्यक होना, लगलग ( स० वि०) बहुत दुवला पतला, अति सुकुमार। जरूरी होना। १६ सडना, गलना । १७ प्रभाव पडना, लगवाना (हि क्रि०) लगाने का नाम दुसरेसे कराना, असर होना । १८ किसी प्रकारको प्रवृत्सि आदिफा आरम्भः दृमरेको लगाने में प्रवृत्त करना। होना । १६ टक्कर खाना, टकराना । २० किसी पदार्थ का लगातार (हि.कि० वि०) एफके बाद एक, सिल- किसी प्रकारकी जलन या चुनचुनाहट आदि उत्पन्न सिलेवार। करना। २१ किसी ऐसे कार्यका आरम्भ होना जिसमें लगान (हिं० पु०) १ लगने या लगाने को क्रिया या भाव । बहुतसे लोगोंके एकत्र होनेकी आवश्यकता हो । २२ खाद्य २ यह स्थान जहा पर मजदूर आदि सुस्ताने के लिये पदार्थका पकनेके समय जल आदिके प्रभाव या आंत्रको अपने सिरका बोझ उतार कर रखते हैं। किसी अधिकताके कारण वरतनके तलमें जम जाना। २३ मकानके ऊपरी भागसे मिला हुया कोई ऐसा स्थान किसी चीजके ऊपर लेप किया जाना, पोता जाना, मला, जहांसे कोई वहा ा जा सकता हो, लाग! ४ भूमि पर जाना। २४ जारी होना, चलना । २५ एक चाजका दूसरो । लगनेवाला वह कर जो खेतिहरोंको भोरले जमींदार या चीजके साथ रगड़ खाना। २६ उपयोगमे आना, काममें । सरकारको मिलता है, राजस्व । ५वह स्थान जहां पर आना । २७ जूपकी बाजी पर रखा जाना, दार पर रखा . नावें कर ठहरा करती हैं। जाना। २८ समीप पहुंचना. पास जाना | २६ गड़ना, लगाना (हिं० कि० ) १ एक पदार्थक तलके साथ दूसरे चुभना। ३. किसी कार्य में प्रवृत्त या तत्पर होना । ३६ पदार्थका तल मिलाना, सतह पर सतह रग्नना । २ किसी पीछे पीछे चलना, साथ होना। ३२ दातथ्य नियत होना, पदार्थके तल पर कोई चीज डालना, रगडना, चिपकाना देना निश्चित होना। ३३ भक्ति होना, चिह्नित होना! या गिराना। ३ दो पदार्थों को परम्पर संलग्न करना, ३४ वद होना, मुदना । ३५ गौ, भैस, बकरो आदि दूध जोडना । ४ उपयोगमे लाना, काम, लाना। ५ आरो. देनेवाले पशुओंका दूहा जाना। ३६ सम्बद्ध होना, चिम पित करना, अभियोग लगाना। किसोके पीछे या टना । ३७ छेडखानी करना, छेड़छाड़ करना । ३८ काममें साथ नियुक्त करना, शामिल करना । ७ किसीमें कोई आने योग्य होना, ठीक वैठना। ३६ आरोप होना। ४० नई प्रवृत्ति आदि उत्पन्न करना। ८ ऐसा कार्य करना हिसाव होना, गणित होना। ४१ प्रज्वलित होना, जिसमें बहुत से लोग एकत्र या सम्मिलित हो । गणित जलना। ४२ स्पर्श करना, छूना। ४३ वदलेमें जाना, ! करना, हिसाय करना। १०एक चीज पर दूसरी चीज मुजरा होना। ४४ जहाजका छिछले पानीमें अथवा सीना, राकना, चिपकाना या जोडना। ११ दातथ्य किनारकी जमीन पर चढ जाना। ४५एक जहाजका निश्चित करना, यह नै करना कि इतना अवश्य दिया दूसरे जहाजके सामने या वरावर आना। ४६ किसी जाय । १२ प्रज्वलित करना, जलाना। १३ क्रमसे रखना स्थान पर एकत्र होना। ४७ दाम आंका आना। ४८. या सजाना, फायदे या सिलसिलेसे रखना। १४ अनु- पालका खोंच कर चढ़ाया जाना। ४६ होना। ५०फैलना, भव करना, मालूम करना। १५एक ओर या किसी उप- विछना। ५१ धारदार चीजको धारका तेज किया जाना। युक्त स्थान पर पहु चना । १६ सम्मिलित करना, शामिल ५२ किसी चीजका विशेषतः खानेकी चीजका अभ्यस्त होना, परचना, सधना ! ५३ घातमें रहना, ताकमे रहना। करना। १७ खर्व करना, घ्यय करना। १८ आघात ५४ अपने नियत स्थान या कार्य आदि पर पहुँचना। करना, चोट पहुंचाना। १६ ठोक स्थान पर बैठाना, ५५सभोग करना, मैथुन करना। जड़ना। २० वृक्ष आदि आरोपित करना, जमाना । लगभग (हिं० कि० वि०) प्रायः, करीब करीव । २१ लेप करना, पोताना । २२ सड़ाना, गलाना । लगमात (हिं० स्त्री०) स्वरोंके वे चिह्न जो उच्चारणके लिये २३ स्थापित करना, कायम करना। २४ किसो विषयमें ध्यजनोंमें जोड़े जाने हैं। | अपने आपको बहुत दक्ष या श्रेष्ठ समझना, किसी वातका