पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२०९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


लवंण लवण है। यह विशुद्ध होता है । उसमें प्रायः , Brick Id marl १७-भाग Chloride of sodium रहता है। Brown gypsum ६ क्षितिज लवण ( Caline efflorescence ) वर्षा Lower layer ofu hite gypsum २००, Salt marl and salt ऋतुके बाद स्थानविशेपमे' नमक आपे आप बाहर निकलता है। उन सब स्थानों में कभी भी वृक्ष नहीं इस लवणगिरिविभाग प्रधानतः मेव खनि, चार्च खनि, रगती। इस जातिके नमकको युक्तप्रदेशमे खरियार, कालावाग खनि और नूरपुर खनिस सँधवलवण निकाला। जाता है। -लोनहा, रेह और कलार सोरा कहते हैं। ७क्षारलवण ( Edith salt )-भारतवर्णमे इसको ___ कोहाटका लवणमय प्रदेश सिन्धुनदके पश्चिममें अय- खारा नमक कहते हैं। ग्वालियर, पतियाला और मध्य- स्थित है। यह अन्ना० ३२४७ से ३३ तथा ५२ देशा० ७२५२ तथा देशा०७० ३५ से ७२१८ पू०के बीच भारतमें यह लवण उत्पन्न होता है। ८ नमक सोर ( Saltpette salt )-सोरेसे जो पडता है। यहा जुट्टा, मालगिन्, नहि, खरक और वहा- मिश्र लवण बनता है उसीको नमक सोर कहते हैं। दुरखेल नामक स्थानमें खान है। भारतके प्रायः ६० उत्तर और पश्चिम-भारतमें जितनी नमककी खान हैं। हजार वर्गमील स्थानतथा कन्दहार, वालस्त्र और गजनी ! आदि भूभ गमें यह लवण प्रचलित है। उनके स्तरों में किस प्रकार नमक जमा रहता है, वह ___मण्डीके लवणको स्वान हिमालयदेशके मण्डी राज्य में देखने लायक है। इनमेंसे लवणगिरिके स्तर विशेष अक्षा० ३२. उ० तथा देशा० ७७ पू०के मध्य अवस्थित उल्लेखनीय हैं। वह शैलमाला देशा० ७१३० से -३' पू० । है। गुमा और दाङ्ग नामक स्थानमें दो ग्वाने हैं। अंग- तथा अक्षा० ३२ २३ से ३० उ०के मध्य अवस्थित है। रेजी राज्यमें मण्डी लवण विक्रय होता है इसलिये मण्डि सिन्धुमागर दोआवको अधित्यकाभूमि और कोहिस्तान राजको करम्वरूालवणका लम्यान अंगरेज-सरकारमें विभाग ले कर लवणशैल संगठित है। इसके एक प्रन्त- देना पडता है। इसके अलावो Delh-Salt works, में झेलम नदी और दूसरे प्रान्तमें सिन्ध नदी वहती है। Canbhar Salt laki, Didhana-sall marsh, Pach- प्रायः १५२ मील विस्तृत इस पहाड़ी प्रदेशमें जिन गहरे badra salt molke, Lunt and Falodi salt और स्तरों में लवणराशि जमा रहती है, नीचे केवल उनके नाम .ilvct or Lencha salt नामक विशिष्ट स्थानीय दिये गये है- लवणका प्रचलन देखा जाता है। स्तरको घनत्व इसको छोड़ कर आयुर्वेदमें सजी-खार आदि और भी वर्तमान गठित स्तर- अनेक प्रकारका लवण (Sodium salt) औषधमें व्यवहुँत Debris of gypsuni १५० फुट होता है। चूना पत्थर स्तर- वगालमें लवण प्रस्तुत करनेकी प्रणाली। . Xummulitic limestone लवणका वाणिज्य अंगरेज-गवर्मेण्ट खुद अपनेसे कोयलास्तर- करती है । जो उसकी अनुमतिके विना लवण प्रस्तुत करते Coal alumshab marl हैं, वे दण्डका भागी होते है। बंगालमें जो सब लवण बलुई पत्थरस्तर- प्रस्तुत होता है, वह अंगरेज-सरकार खरीद लेती है और Green sandstone उसे आठ गुने या उससे भी ज्यादे दाममें प्रजाओंके Blue mari व्यवहारके लिये बेच डालती है। सिर्फ लवणसे गव- Red sandstone में एटको ३ करोड़ रु० वार्षिक लाभ होता है। यह सब लवणस्तर- कार्य करनेके लिये उन्होंने बहुत धन व्यय कर अनेक Upper layer of white gypsum ५, कार्यालय खोल रखे हैं और उनमें कर्मचारी नियुक्त कर नाम