पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६ रोपशपत्रा-जोमसाम्राज्य रोम गिरनेसे एक एक इन्द्रपति होता था। इस प्रकार | इनके जव सभी रोम गिर जायेंगे, तब इनकी परमायु शेष होगी। अपनो परमायु थोडे दिनोंके लिये जान कर उन्होंने रहनेके लिये कोई घर नहीं बनाया, फेवल वर्षाकालमें घे धारापात किनेके लिये शिर पर कट (चटाई ) रग कर तपस्या करते थे। (भागवत ६११५) विशेष विवरण ब्रहावैवर्त पुराणके श्रीकृष्णजन्मवएडमे लिपा है। (ली. ) ६ उपस्थ, नोचेका मध्य भाग। (ति.) अत्यन्त रामचिगिए, जिसके पहन गये हों। रोमणपना (सं० स्त्री० ) देवतास्पृक्ष, एक प्रकारका तृण या पौधा। रोमशफल (सं० पु० ) रामर्श फलमरय । डिण्डिशक्ष, में उसी। रोमणमूलिका (सं० स्त्री० ) हरिद्रा, इन्दी। रोमशसिद्धान्त-रोमशमुनिका पनाया हुआ एक ज्योतिष- प्रध। रोमशा (सं० स्त्री० ) रामाणि सन्त्यस्या इति रामन् । टाप । १ दुग्ध वृक्ष । २ लामणी, वृहस्पतिकी कन्या । (मूक १।१।२६ ) ३ कर्कटिका, फछुई । ४ अलगह नामक एक विपैला जोक। (मुथ तस० १३ १०) ५ मासरोहणी । रोमशातन (सं० को०) रोमनां शीतनं। लेष्मका उद्ध'सन. वाल काटना। रोमणूक (सं० सी० ) रोमयुक्त शूकं यस्य । स्थौणेयक, थुनेर। रोम साम्राज्य (रामक-साम्राज्य)-पाश्चात्य-सभ्यताक आदर्श क्षेत्र सुप्राचीन रोग नगरसे रोम तथा लेटिन जाति- की सौभाशोन्नतिके साथ साथ शौर्य वोय और राजतन्त्रके प्रतिष्ठाप्रमावसे राज्यसमृद्धिकी परिवृद्धिके साथ क्रमशः जो वडी राज्यसम्पद् अर्जित हुई थी, वही ईसाकी ३री शताएदी में रोमकसाम्राज्यके नामसे परिचित हुभा। पुराने जमानेमें यह फैला हुआ रोमकराज्य कई भागों में विभक्त था और इस समय वे सब विभिन्न देश किन किन राजाओंके द्वारा वा प्रजातन्तके प्रतिनिधियोंके साहाय्यले परिचालित हुआ उसकी सूची नीचे दी। नाती है- गूगपीय राय। लेटिन नाम यमान नाम विटानिया-~ लैण्ड और वैनन। . गालिया-फारम, येलजियम, हालेगा, धीर म्वीना. लण्डका कुछ अना हिसपानिया-पेन और पुर्तगाल। वलियारिस-वेलियारिक दीपपुजा सिसिलिया-सिसिली। इटालिया-इटली। रेरिया-वीजरलैण्ड और अष्ट्रो हगगेका पुछ अंश। भिण्डेलिसिया-जर्मनमानायका दक्षिणांग। जार्मानिया-विश्चुला नदी पश्चिम विनारे तक जर्मन साम्राज्य और पोलएनका कुछ अंश और डेनियूयफे किनारे तक अष्ट्रिया राज्य ! पानोनिया-डेनियव नदोके पश्चिम किनारे तक टाट्रो-हगरी प्रदेश। डाकिया-थिस नदी के पूर्णवत्ती अष्ट्रो इगरी प्रदेश और प्र.य और देनियव नदीके बीच का रूमानिया राज्य। नोरिकम-डेनियूब नदीके दक्षिण किनारे के वियना नगरके समीपबत्ती प्रदेशसे साड़ियारिक समुद्र तक। लिरिकम्-आडियाटिक सागरोपकुलपती भटलो. सगरी प्रदेश, मण्टिनिनो भार तुकीका कुछ श। एपिरस-पास और इलिरिकमके मध्यवती तुकी प्रदेश। फसिका, सार्डिनिया, साइप्रस और मीट होप-भू- __मध्य सागरका मध्य। आकाइया-ग्रीसराज्य । माफिदोनिया-तुकीका कुछ अंश । थासिवा-बुलगेरिया और फनस्तान्तिनोपल नामक तुरुरुक विभाग। मीसिया--सर्विया और तुकीका कुछ यश । एशिया का अन्तर्मुक्त राज्य माइसिया, लिडिया, कारिया,-जियन सागरतीर- वती माइनर प्रदेश