पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/२१८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


२२३ ससोफ ञ्च-लहनी लमोपच (सं.को.) एक नगर ! 1 साना।२६याश यदा, याकामोरे देना। ३ माग हमटा (दि.पु.) पास चौगा। इमर्म यरिए घर उपर रपट छोडना, पदा।। ४ चाहने गरा, विहिपा पसारासारप्रने हैं। | उरठित होना। ५ चाह या उत्य ठामे आगे बढना, लप एखापुर-उत्तर यंगार मन्तगत पा विभाग मुमल कना । माना मगरदारोफे समय यह पुरिया भूमपत्ति लाता ल्हयाना (हि.मि.) १ हयार्म इधर उपर हिलाना था। मुशिद पुलापा समय १५ परग को रे पर यह दुलाना, झोस पिलाना। २ उत्साह दिला कर आग विमाग गटिव हुमा। | पदा, पिसी और मानसरोनय रिपे वदाया देना। PRरो-५ पैरणव सम्प्रदाय । पेनोगरामात् मम्म ३ आगे बढ़ाना । ४ किमी पिण्द्ध पुछ राकरिगे दाय मतर्गत है गौर रागानन्दियों की तरह तिलक, महाना, ताय दिलाना। ५ चाह या उत्कठास भाग रगान लगिन उनये ममाल यण नग सफेद प्री वदाना, रूपाना। धारण करते हैं। भयोशाम इस सम्बदायफे पैगयोंपा लहकारना (1. मि.) पश्मिीरे वियर कुछ परोफे एक शाम माप्रदाय पैरागो लोग कभी कभी टिय पदकाना, ताय दिगना। २ उत्साहित कर मागे सानदापित निराप ददरे ललाटमें गोगोयन्न भो वा ३ पुरोको उत्साहित याम परफे किमाये मग मुणमादरमें अपनी अपनी इच्छानुमार रारज पाटे र गाया। गाRE मिला अधिस्तर गारो हैं। इनये और सशहर (दि. स्त्री०) विधाको गति । इमा दुलहा मापार भयहार रामानन्दियों जैसे हैं। रामार दवा और भूरहिन कोहवरमें एक दूसरेक मुधर्म पौर या प्राग रन्त ( म०नि०) शमन । प्रोटिन, मोटा लिया ने है। हुमा । २ गोमायुन, मजायरमे भरा। दौरि (हिक स्रो०) या। मस्त (दि.वि.) तिथि, पशमा। २ भात, रजा (हि.पु.) गाने या योल नेका टग, म्यर। सिम पुछ रोकी गरि या साहम न रह गया हो। रहमा ( म०पु०) पल क्षण । एम्ना (म.पु.) पापका मध्य भाग, मूठ । लहर ( ०11०) १ पाश्मीरप मतगत पर पनपद। पक्नि (म.पु.) एम्नकोसाम्पेनि रस्ताला साज कर पद लादोर कालाना है। (पु.) २ उम देशमा रहनेयाजा सम्पूजना (स.80) एची, यासह सहन (दि. पु.) यजा मी पोलीभामा देशो। एस्मो (दि.खी०) -म, निपचिपाहर । ससा दा। एहनार (का० पु०) या मनुष्य जिमशा घरमा २णा, महा। दिमी पर शाको दो, मनन । rगा (हि.पु.) पमरणे हा मारा गदराए ! 71 (दि० मि.) १प्राप्त करा, पाना। (बु.) विमा रिपेत्रियों पर घेरदार पानाया। पद सूतको शोरी को दिया मा पन तो पपूर परमा दो उधार रिया या मारे (मायर)समर सरपणा पाता दुमा ग्पपा मा। पद पन जो किसी काम दरम माम बन सा पुगरे पहा रोममें नाला पिसासे मिग्मगादो, रपया मा सोपिसाकारण माता रैदार माग पहा रहता है जिसमेत पद frमीमे मिननवागहो। ४ भाम्प, निम्मत ! ६६गेम मयल करिाश भागदरता एहना पदी (दि० पु.) पद यही मिमा प्रा या इगर साए मोहमी मा मोटो जाता है। गाम और फर्म रिया जाता है और जिगर मनुसार Retirrao) महामेकी क्रिया या मार। २मार, पागे होता। नागको स्पर। ४ामा, गि। सनी (दि.वी.) १ प्राप्ति परमोगा पद मीसार Pari (fr.freपा पर उभर दोरमा, मोर निगमे रटेरे दरतम हैं।