पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोप-साम्राज्य से उसकी हत्या कर डाली। कुछ लोगोंका कहना है, कि । पृॉन, आइनकी इस धाराओं में दो और धाराए वह वृद्धावस्था तक जीता रहा और सदा वह यही कहना दी गई। था-"विदेशियामै रहनेका अट वृद्धके मिया दुसरा ईमाके ४४ पूर्व पफुझ्यान और नेवाइयो: फोई अनुभव नहीं कर सकता।" गंम पर आक्रमण किया। रपियस मायं युद्धक्षेत्र में ईसासे पूर्व ४७७ ६०में मियेनटाइनों के साथ ए, कर गेममे रह गया। किन्तु उसकी साजिनमे युद्ध हुआ। इसमें राम जोत गये और कन्सल टाइट- पेनापनि डेन्टारम गुम्पने मार डाला गया। मेनेलियासके टुरमसे सारे मियाद नगर ममूल विनष्ट १२० बार युद्ध मे जय प्रान किया था। इसके हुए । केवल उस वका एक बालक बच गया था। इसने : पियामने अन्ना सेनापति मनिति आगे बल पर रोमके इतिहास में रयाति लाम की। अलीफिक मपयनी कन्याको यलपूर्वा ईसा पूर्व सन् ४५८ ६०मे एकुइयानों के साथ एक करने के लिये नाना पायोका आश्रय । मयर युद्ध हुआ। सिनसेनीटसके अद्वितीय रण दृमरा उपाय न दग्य मजीनियान अपनी प्रिय कौशल से रामकोने जय प्राप्त किया। जिस समय सिनः। वक्षस्थल में मार कर उसका उदार किया। सिनेटमको सेनापनि चुननेके किये लेाग गये थे, उस ' यासके इस तरह के अत्याचार थियन उत्र्ती समय वह ग्वतमें हल चला रहे थे। इसके बाद उसको : उठे और वे रोमनगरको परित्याग कर इमरी 3 पनी रेसिलियाने उमको एक साधारण बल दिया।| कर रहने लगे। यह काण्ड दुमा है। इस समय उसी वस्त्र पहन कर वह राजसमाम पहुंचा और वहा । शियन दलन निरूपाय हो कर पट मालेरियन भी डिरेक्टर या रोमका सर्वमय कर्ता नियुक्त हुआ | अमा. , होरेजियन नामक दो मनुष्योको प्लेवियों के मार मान्य प्रतिमा बल नया रणकौशलमे शत्रुसैन्यको करने के लिये भेजा। इसके बाद इन दा आर्श पराजित कर जयमाल्यमे भूपिन हो कर बह रोम लौट यह सम्मति विलुन हुई और ये दी दोगी मनुष्य । आया। नियुन हुए। उन्होंने फिरने शादनका संस्कार कर • दिनस्तिग्ट या दश शासन ४५१-४४६ ई० पू०। यनोंको वहुन सुविधाये दीन दग आदमियों ईसासे पूर्व सन् ४७१र्टम ट्रिब्यून पावलियस यन कैट कर लिया गया। यह आत्महत्या कर मलेराने पालियन नामक कानून तैयार किया। इस मुग्यपनिन हुआ। अन्यान्य लोगों में किसी ने सात कानूनके फलसे प्लेवियनाको स्वतन्त्रताको वृद्धि हुई।। की और कोई निर्वामिन तथा कुछ लोग मार द्वार इसके बाद ईसासे पूर्व ४६२ ई० में दिव्यनके यासटेरे. उनकी धनसम्पत्ति जन्न कर ली गई। एिटलियस अाके प्रस्ताव पर दश आदमियों को एक ईसाके ४४४ वर्ष पूर्व रोमको शासन-प्रणाली कमिटी संगठिन हुई । किन्तु इसका पेट्रेमियनों ने बहुत परिवर्तन हुया और दमा अनुमार थामी विरोध किया 1 अन्तमे ८ वयाँ तक विरोध होने, बाद टरी ट्रिब्यून या सामरिक निचारक नियुक्त किर तीन विन व्यक्तियों को यूनान देशमैं सोलनका कानून, पहले कन्सल पद्रिभियनोंसे चुने जाते थे, इस संग्रह करनेके लिये मेजा गया । वे वहां दो वर्ग तक प्लेवियन दलसे ही मामरिक विचारक मनोनीत रह कर राम लौट आये। ईसासे पूर्व ४५२ ई० में दश इतने दिनों तक रोमराज्यको सीमा निहिं पृथी आदमियोकी एक कमिटी संगटित हुई। यह कमिटी रोमकोंने एरिया पर अधिकार कर वहा और 3 सर्वेसर्वा हो कर शासनदण्ड परिचालन करने लगी। जगहोंमे उपनिवेश कायम करने, लिये चिन्ता इनमें एपियस, क्लेडियम और टाइटम जेनिउनियस लगे। अतएव राज्यकी परिधि फैलने लगी। कन्सल नियुक्त हुए। इस समितिने दश धाराए तैयार ३६४ वर्ष पूर्व रोमाने मियाई गन्यको सम्पूर्णरू। को। ये सर्वसम्मानसे कानुनके म्पमें परिणत हुई। भ्रष्ट कर दिया । दश वर्ग तक मयदर युद्ध करने ।