पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३३२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


नोचह-लीला लोड (६०नि०) १मुस्त वाहिल, निम्मा।२ जल्दी। लीन (स० वि०) लात (ओदितम्या पाकाRN५) इति छोहनेगला, चिमटनेवाला । ३ जिमका लेन देन ठीक न निष्ठा तस्य न ११ लयमाप्त, जो किसी वस्तुमें समा गया हो। हो। २ बिल्कुल लगा हुआ तत्पर । ३तमय, मग्न । रोचा (दि. स्त्री०) एक सदावहार पहा पेड। इसका | ४ रयालमें डूबा हुआ, अनुरत । पल खानेमें यहुत मीठा होता है । इसको पत्तिया छोटी लीनता (म० स्रो०) १त मयता, तत्परता। २ऐसा छोटो होती हैं, फल गुच्छों में लगते हैं और देखने में बहुत साचित हो कर रहना जिसमें किमाको दुख न पहुचे। सुन्दर होते हैं। छिलफे के ऊपर कटावदार दानेसे उमरेलानो टाइप मशीन (10 स्रो० एक प्रकारका कल जिसमें होते हैं। गुदा सफेद खोटीकी तरह दोचसे विपका टाइप या अपर कम्पोज होने समय ढलता है। आप रहता है पर बहुत जल्दी छूट कर अलग हो जाता है। कल हिन्दुस्तानमें बडे बडे मनरेजी अखबार इसी यह पेह चीनसे आया है और यगाल तथा विहारमें मैशीनमें कम्पोज होते हैं। अधिक होता है। लीपना (हि० कि०) १ घुले हुए रग मिट्टी गोयर या गोभी (हि ० नो०) १ दहमें मरे हुए उबटनके साथ छूटी। और किमो गोला पस्तुका पतली तद चढाना, पोतना। हुइ मैर को वत्ती । २ यह गूदा या रेशा जिसका रस | २ सफाइके लिये जमान या दावार पर घली हुइ मिट्टी या चूस या निचोड लिया गया हो, सोडी 1 (वि०) ३ नीरस, गोवर फेरना, पोतना। । निस्सार । ४ निम्मा । लीपोट ( म०पु०) पुस्तिका, पर्वा) लोडर (अ ० पु. ) अगुमा, मुखिया, मेता । २क्सिी लीम (हि. पु.) १ एक प्रकारका चोड का पेड। इसमेंस ममाचारपत्नमें सम्पादकका लिग्वा हुआ प्रधान या मुख्य तारपीन या अलक्तरा निकलता है। २एक प्रकारकी लेगा, सम्पादकाय अप्रलेख। चिडिया। लार माप दो हाउस (म0पु०) पार्लमेएट या व्यर लोल (हि. वि०) नोला, नीले रंगका । स्थापिका सभाका मुखिया । यह प्रधान मन्त्री या मन्त्रि लोलक (हि.पु.) १ वह हरा चमडा जो जूताको नोक एडला वडा सदस्य विशेष कर स्वराष्ट्र सदस्य होता पर लगाया जाता है । (वि०) २ नौल।। है और इसी काम विरोधी पक्षका उत्तर देना और सर पारी शमांका समर्थन करना है। लोलना (हि० कि०) गलेके नोो पेटमें उतारना, निगलना। रिष्टिग आर्टिकर (म.पु.) पिसी समाचार पत्र लीलया ( स० कि० वि०) १ पेलमें । २ महजमें हो, विना सम्पादकका लिखा हुआ प्रगान या मुख्य रेख, सम्पाद ] प्रयास । कीय अप्रलेन । | लीला ( स० स्रो०) लयनमिति लो मम्पदादिमात् छिप रोथो ( पु.) परयरका छापा निस पर हारासे रिख लिय लातीति ला क।१ कोलि, मोडा, खेल । २ रहस्य पर अक्षर या चिव छापे जाने हैं। पूण व्यापार, विचित काम । ३ शृङ्गारफी उमग भरा थोप्राफ (भ.पु०) लीया देखो। चेया प्रेम विनोद। ४ नायिकाओंका एक दार। इसमें लोयोग्राफर (म.पु.) यह जो रोयोप्रापोका काम ये प्रिय घेश गति याणी आदिका अनुकरण करती हैं। परता दो, लोधोका काम करनेवाला। ५ मनुष्योंके मनोरञ्जनक लिये किये हुए इश्वरायतारोंग रोयोग्राफो (म खो०) लीयोको छपाईमें एक विशेष भमिनय, चरित्र । ६ चौदोस माताओंका पर छन्द । प्रकारके पत्थर पर हायसे अक्षा रिखने और खींचनेको इसमें ७७,७,७ के विरामसे २४ माताएं और सतमें पला। सगण होता है। ७ वारद माताओंका पक छन्द । इसके लोद ( दि० स्रो०) घोडे, गो, ऊट और हाथी मादि | अतमें एक जगण होता है। ८ वणत्त । इसके पशुमोका मा घोटे यादिका पुरोष । | प्रत्येक चरणमें भगण, नगण, और एक गुरु होता है। Tol x 85